Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Oct 2016 · 1 min read

सर्जिकल स्ट्राइक

दलाल को दलाली दिखी
झूठे ने मांगा सबूत ।
उनकी माँ शर्मिंदा होगी ,
कैसे जने कपूत ।
इस युग के जयचंद बने
ये दुश्मन की चालों के मोहरे ।
जख्म दे गए जनमानस को गहरे ।

Language: Hindi
268 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Ranjan Goswami
View all
You may also like:
क्या देखा है मैंने तुझमें?....
क्या देखा है मैंने तुझमें?....
Amit Pathak
छिपी रहती है दिल की गहराइयों में ख़्वाहिशें,
छिपी रहती है दिल की गहराइयों में ख़्वाहिशें,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
प्यार के मायने
प्यार के मायने
SHAMA PARVEEN
फूल और तुम
फूल और तुम
Sidhant Sharma
उधेड़बुन
उधेड़बुन
Dr. Mahesh Kumawat
मुझमें मुझसा
मुझमें मुझसा
Dr fauzia Naseem shad
भरे हृदय में पीर
भरे हृदय में पीर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
जल रहें हैं, जल पड़ेंगे और जल - जल   के जलेंगे
जल रहें हैं, जल पड़ेंगे और जल - जल के जलेंगे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मोक्ष पाने के लिए नौकरी जरुरी
मोक्ष पाने के लिए नौकरी जरुरी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
वो जो आए दुरुस्त आए
वो जो आए दुरुस्त आए
VINOD CHAUHAN
एक उम्र
एक उम्र
Rajeev Dutta
मित्रता के मूल्यों को ना पहचान सके
मित्रता के मूल्यों को ना पहचान सके
DrLakshman Jha Parimal
कल जो रहते थे सड़क पर
कल जो रहते थे सड़क पर
Meera Thakur
आजकल सबसे जल्दी कोई चीज टूटती है!
आजकल सबसे जल्दी कोई चीज टूटती है!
उमेश बैरवा
"विडम्बना"
Dr. Kishan tandon kranti
तितली संग बंधा मन का डोर
तितली संग बंधा मन का डोर
goutam shaw
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ
Buddha Prakash
*प्राण-प्रतिष्ठा सच पूछो तो, हुई राष्ट्र अभिमान की (गीत)*
*प्राण-प्रतिष्ठा सच पूछो तो, हुई राष्ट्र अभिमान की (गीत)*
Ravi Prakash
अन-मने सूखे झाड़ से दिन.
अन-मने सूखे झाड़ से दिन.
sushil yadav
खोखला वर्तमान
खोखला वर्तमान
Mahender Singh
विभीषण का दुःख
विभीषण का दुःख
Dr MusafiR BaithA
फूल और कांटे
फूल और कांटे
अखिलेश 'अखिल'
दीया इल्म का कोई भी तूफा बुझा नहीं सकता।
दीया इल्म का कोई भी तूफा बुझा नहीं सकता।
Phool gufran
ह्रदय
ह्रदय
Monika Verma
सर्दी का उल्लास
सर्दी का उल्लास
Harish Chandra Pande
सिर्फ अपना उत्थान
सिर्फ अपना उत्थान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
2986.*पूर्णिका*
2986.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बेवजह ख़्वाहिशों की इत्तिला मे गुज़र जाएगी,
बेवजह ख़्वाहिशों की इत्तिला मे गुज़र जाएगी,
शेखर सिंह
शिकायत है हमें लेकिन शिकायत कर नहीं सकते।
शिकायत है हमें लेकिन शिकायत कर नहीं सकते।
Neelam Sharma
ज़रा सा इश्क
ज़रा सा इश्क
हिमांशु Kulshrestha
Loading...