Oct 8, 2016 · 1 min read

सर्जिकल स्ट्राइक

दलाल को दलाली दिखी
झूठे ने मांगा सबूत ।
उनकी माँ शर्मिंदा होगी ,
कैसे जने कपूत ।
इस युग के जयचंद बने
ये दुश्मन की चालों के मोहरे ।
जख्म दे गए जनमानस को गहरे ।

114 Views
You may also like:
बेपरवाह बचपन है।
Taj Mohammad
खुशबू चमन की किसको अच्छी नहीं लगती।
Taj Mohammad
'पिता' हैं 'परमेश्वरा........
Dr. Alpa H.
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
ये चिड़िया
Anamika Singh
अप्सरा
Nafa writer
सत् हंसवाहनी वर दे,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
भ्राजक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लत...
Sapna K S
वैश्या का दर्द भरा दास्तान
Anamika Singh
प्यार, इश्क, मुहब्बत...
Sapna K S
गधा
Buddha Prakash
आंखों में तुम मेरी सांसों में तुम हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
भाग्य का फेर
ओनिका सेतिया 'अनु '
ग़ज़ल
Anis Shah
कलियों को फूल बनते देखा है।
Taj Mohammad
💐मौज़💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
🍀🌸🍀🌸आराधों नित सांय प्रात, मेरे सुतदेवकी🍀🌸🍀🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सौगंध
Shriyansh Gupta
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
" राजस्थान दिवस "
The jaswant Lakhara
भगवान सुनता क्यों नहीं ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
खुद को तुम पहचानो नारी [भाग २]
Anamika Singh
दंगा पीड़ित
Shyam Pandey
# जज्बे सलाम ...
Chinta netam मन
परीक्षा एक उत्सव
Sunil Chaurasia 'Sawan'
मेरे दिल को जख्मी तेरी यादों ने बार बार किया
Krishan Singh
**अनमोल मोती**
Dr. Alpa H.
Loading...