Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Nov 2023 · 1 min read

सरस्वती वंदना-1

गीतिका

आपका नेह मुझको सदा माँ मिले,
सोचकर भाव यों गुनगुनाता रहूँ।
मैं हमेशा रहूँ आपकी ही शरण,
शीश चरणों में’मैं तो झुकाता रहूँ।

हाथ तेरा हमेशा रहे शीश पर,
भाव शब्दों से’झोली न खाली रहे,
छंद बनते रहें दिल मचलते रहें,
गीत प्यारा सदा मैं तो’गाता रहूँ।

जानता हूँ मिटे ज्ञान के सब धनी,
एक तेरी कृपा आसरा है मे’रा,
दूर कोसों रहूँ गर्व के भाव से,
हर निशानी मैं’ इसकी मिटाता रहूँ।

चाहता हूँ मुझे रोशनी ही मिले,
चाह पूरी सभी की तो’ होती नहीं,
साथ में चल रहे साथियों के लिए,
आस का एक दीपक जलाता रहूँ।

डर मुझे है नहीं राह की मुश्किलें,
रोक देंगी हमारे ये’बढ़ते कदम,
चाहता हूँ कृपा आपकी मैं तो’ माँ,
पथ नया मैं हमेशा बनाता रहूँ।

छंद का ज्ञान हो भाव भरपूर हों,
एक माला बने शब्द से शब्द जुड़,
प्रार्थना है यही मातु आशीष दो,
गीतिका नित्य यूँ ही सुनाता रहूँ।
डाॅ बिपिन पाण्डेय

Language: Hindi
1 Like · 161 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सारे ही चेहरे कातिल है।
सारे ही चेहरे कातिल है।
Taj Mohammad
इस क़दर उलझे हुए हैं अपनी नई ज़िंदगी से,
इस क़दर उलझे हुए हैं अपनी नई ज़िंदगी से,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
नीला अम्बर नील सरोवर
नीला अम्बर नील सरोवर
डॉ. शिव लहरी
किताबों से ज्ञान मिलता है
किताबों से ज्ञान मिलता है
Bhupendra Rawat
Love whole heartedly
Love whole heartedly
Dhriti Mishra
हिम्मत कभी न हारिए
हिम्मत कभी न हारिए
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
एक ऐसा दोस्त
एक ऐसा दोस्त
Vandna Thakur
इस तरहां बिताये मैंने, तन्हाई के पल
इस तरहां बिताये मैंने, तन्हाई के पल
gurudeenverma198
मुक्तक
मुक्तक
जगदीश शर्मा सहज
*हर शाम निहारूँ मै*
*हर शाम निहारूँ मै*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मर्द की कामयाबी के पीछे माँ के अलावा कोई दूसरी औरत नहीं होती
मर्द की कामयाबी के पीछे माँ के अलावा कोई दूसरी औरत नहीं होती
Sandeep Kumar
23/187.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/187.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सच कहना जूठ कहने से थोड़ा मुश्किल होता है, क्योंकि इसे कहने म
सच कहना जूठ कहने से थोड़ा मुश्किल होता है, क्योंकि इसे कहने म
ruby kumari
ऐ ज़िंदगी
ऐ ज़िंदगी
Shekhar Chandra Mitra
ज़िंदगी की ज़रूरत के
ज़िंदगी की ज़रूरत के
Dr fauzia Naseem shad
दुनिया के हर क्षेत्र में व्यक्ति जब समभाव एवं सहनशीलता से सा
दुनिया के हर क्षेत्र में व्यक्ति जब समभाव एवं सहनशीलता से सा
Raju Gajbhiye
नज़र मिल जाए तो लाखों दिलों में गम कर दे।
नज़र मिल जाए तो लाखों दिलों में गम कर दे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
तारों से अभी ज्यादा बातें नहीं होती,
तारों से अभी ज्यादा बातें नहीं होती,
manjula chauhan
मेरी जान बस रही तेरे गाल के तिल में
मेरी जान बस रही तेरे गाल के तिल में
Devesh Bharadwaj
मोहब्बत शायरी
मोहब्बत शायरी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
15. गिरेबान
15. गिरेबान
Rajeev Dutta
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"फरेबी"
Dr. Kishan tandon kranti
मत कुचलना इन पौधों को
मत कुचलना इन पौधों को
VINOD CHAUHAN
*
*"घंटी"*
Shashi kala vyas
■ तथ्य : ऐसे समझिए।
■ तथ्य : ऐसे समझिए।
*प्रणय प्रभात*
चंदा मामा और चंद्रयान
चंदा मामा और चंद्रयान
Ram Krishan Rastogi
एहसान
एहसान
Paras Nath Jha
मिलना था तुमसे,
मिलना था तुमसे,
shambhavi Mishra
Tuning fork's vibration is a perfect monotone right?
Tuning fork's vibration is a perfect monotone right?
Sukoon
Loading...