Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Oct 2022 · 1 min read

वर दो हमें हे शारदा, हो सर्वदा शुभ भावना (सरस्वती वंदन

वर दो हमें हे शारदा, हो सर्वदा शुभ भावना (सरस्वती वंदना गीत)
________________________________
वर दो हमें हे शारदा, हो सर्वदा शुभ भावना
(1)
निष्काम हों सब कर्म अपने, मन न अभिमानी बने
एक रुपया-ईंट का कर अनुसरण दानी बने
छाए ह्रदय में लोकहित, अनुराग का जादू घना
(2)
जो मिले या न मिले, संतुष्टि भाव प्रधान हो
समभाव हो यदि राह में, काँटे मिलें या मान हो
जीवन हमारा माँ बने, सात्विक सहज आराधना
(3)
हम बनाऍं वह जगत, सबको सभी से प्यार हो
छोटे- बड़े का जन्म से-धन से नहीं आधार हो
संसार एक कुटुंब हो, अतिश्रेष्ठ जीवन-साधना
वर दो हमें हे शारदा, हो सर्वदा शुभ भावना
—————————–
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99 97615451

221 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
मिले
मिले
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
Neerja Sharma
आवाजें
आवाजें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
गीत लिखूं...संगीत लिखूँ।
गीत लिखूं...संगीत लिखूँ।
Priya princess panwar
बिगड़ी किश्मत बन गयी मेरी,
बिगड़ी किश्मत बन गयी मेरी,
Satish Srijan
विषय:- विजयी इतिहास हमारा।
विषय:- विजयी इतिहास हमारा।
Neelam Sharma
नारी क्या है
नारी क्या है
Ram Krishan Rastogi
पुरूषो से निवेदन
पुरूषो से निवेदन
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
दिल के दरवाज़े
दिल के दरवाज़े
Bodhisatva kastooriya
मेरा बचपन
मेरा बचपन
Dr. Rajeev Jain
वक्त बर्बाद करने वाले को एक दिन वक्त बर्बाद करके छोड़ता है।
वक्त बर्बाद करने वाले को एक दिन वक्त बर्बाद करके छोड़ता है।
Paras Nath Jha
मेखला धार
मेखला धार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
*सास और बहू के बदलते तेवर (हास्य व्यंग्य)*
*सास और बहू के बदलते तेवर (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
जीत मुश्किल नहीं
जीत मुश्किल नहीं
Surinder blackpen
हसीनाओं से कभी भूलकर भी दिल मत लगाना
हसीनाओं से कभी भूलकर भी दिल मत लगाना
gurudeenverma198
न छीनो मुझसे मेरे गम
न छीनो मुझसे मेरे गम
Mahesh Tiwari 'Ayan'
दीप ज्योति जलती है जग उजियारा करती है
दीप ज्योति जलती है जग उजियारा करती है
Umender kumar
***
*** " आधुनिकता के असर.......! " ***
VEDANTA PATEL
बातें करते प्यार की,
बातें करते प्यार की,
sushil sarna
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जिन्दगी कभी नाराज होती है,
जिन्दगी कभी नाराज होती है,
Ragini Kumari
अमृत पीना चाहता हर कोई,खुद को रख कर ध्यान।
अमृत पीना चाहता हर कोई,खुद को रख कर ध्यान।
विजय कुमार अग्रवाल
इश्क़
इश्क़
हिमांशु Kulshrestha
मुझे हमेशा लगता था
मुझे हमेशा लगता था
ruby kumari
हब्स के बढ़ते हीं बारिश की दुआ माँगते हैं
हब्स के बढ़ते हीं बारिश की दुआ माँगते हैं
Shweta Soni
"डार्विन ने लिखा था"
Dr. Kishan tandon kranti
2953.*पूर्णिका*
2953.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
छठ परब।
छठ परब।
Acharya Rama Nand Mandal
पाला जाता घरों में, वफादार है श्वान।
पाला जाता घरों में, वफादार है श्वान।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
... बीते लम्हे
... बीते लम्हे
Naushaba Suriya
Loading...