Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Oct 2021 · 1 min read

‘सरदार’ पटेल

किया भारत अखंड जिसने
करके रियासतों का मेल
रहे विश्वास पर जो दृढ़
कहलाए वह ‘सरदार’ पटेल।

दी जिसने कर्म की शिक्षा
देश के नौजवानों को।
जा कर बारडोली में दिलाया
अधिकार किसानों को।
फिरंगियों की चाल को जिसने
पल में कर दिया फेल।
रहे विश्वास पर जो दृढ़
कहलाए वह ‘सरदार’ पटेल।

समझ थी राजनीति की
असाधारण गजब उनमें।
मिलाया हर रियासत को
कि‌ हिंदुस्तान में तुमने‌।
सोच समझ को मान गए सब
कर दिया ऐसा खेल।
रहे विश्वास पर जो दृढ़
कहलाए वह ‘सरदार’ पटेल।

थी जिसकी कर्म ही पूजा
ना पद की थी अभिलाषा
था यर्थाथ पर विश्वास
न देखते स्वप्न दिवासा।
महामंत्री पद त्याग कर जिसने
निस्वार्थ की सिंची बेल।
रहे विश्वास पर जो दृढ़
कहलाए वह ‘सरदार’ पटेल।

प्रसिद्धि पा कर भी जिसने
धरातल को नहीं छोड़ा
रहे निर्धन स्वयं, पर देश को
विकास की राह पर मोड़ा
पहन कर जिसने कर्म किये
टूटे ऐनक की हेल।
रहे विश्वास पर जो दृढ़
कहलाए वह ‘सरदार’ पटेल।

-विष्णु प्रसाद’पाँचोटिया’

्््््््््््््््््््््््््््््््््््््

Language: Hindi
5 Likes · 4 Comments · 414 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कब तक बरसेंगी लाठियां
कब तक बरसेंगी लाठियां
Shekhar Chandra Mitra
मुक्तक
मुक्तक
Er.Navaneet R Shandily
वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप
वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप
Ravi Yadav
डोर रिश्तों की
डोर रिश्तों की
Dr fauzia Naseem shad
स्वामी विवेकानंद ( कुंडलिया छंद)
स्वामी विवेकानंद ( कुंडलिया छंद)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गीत
गीत
Shiva Awasthi
पाठ कविता रुबाई kaweeshwar
पाठ कविता रुबाई kaweeshwar
jayanth kaweeshwar
* मिल बढ़ो आगे *
* मिल बढ़ो आगे *
surenderpal vaidya
अपनी आवाज में गीत गाना तेरा
अपनी आवाज में गीत गाना तेरा
Shweta Soni
आओ कभी स्वप्न में मेरे ,मां मैं दर्शन कर लूं तेरे।।
आओ कभी स्वप्न में मेरे ,मां मैं दर्शन कर लूं तेरे।।
SATPAL CHAUHAN
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सूनी आंखों से भी सपने तो देख लेता है।
सूनी आंखों से भी सपने तो देख लेता है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
2483.पूर्णिका
2483.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सागर की लहरों
सागर की लहरों
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
🌷ज़िंदगी के रंग🌷
🌷ज़िंदगी के रंग🌷
पंकज कुमार कर्ण
" महक संदली "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
■ तुकबंदी कविता नहीं।।
■ तुकबंदी कविता नहीं।।
*प्रणय प्रभात*
मैं जवान हो गई
मैं जवान हो गई
Basant Bhagawan Roy
आई होली आई होली
आई होली आई होली
VINOD CHAUHAN
इतना बेबस हो गया हूं मैं ......
इतना बेबस हो गया हूं मैं ......
Keshav kishor Kumar
मोदी का अर्थ महंगाई है ।
मोदी का अर्थ महंगाई है ।
Rj Anand Prajapati
तुम्हारी याद तो मेरे सिरहाने रखें हैं।
तुम्हारी याद तो मेरे सिरहाने रखें हैं।
Manoj Mahato
वक्त (प्रेरणादायक कविता):- सलमान सूर्य
वक्त (प्रेरणादायक कविता):- सलमान सूर्य
Salman Surya
बच्चों की परीक्षाएं
बच्चों की परीक्षाएं
Dhirendra Singh
दोस्त
दोस्त
Neeraj Agarwal
*लोग सारी जिंदगी, बीमारियॉं ढोते रहे (हिंदी गजल)*
*लोग सारी जिंदगी, बीमारियॉं ढोते रहे (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
(12) भूख
(12) भूख
Kishore Nigam
अच्छा कार्य करने वाला
अच्छा कार्य करने वाला
नेताम आर सी
जैसे को तैसा
जैसे को तैसा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...