Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jul 2023 · 1 min read

सरकारी नौकरी

-: सरकारी नौकरी :-

‘‘ऊपर वाला जब देता है तो छप्पर फाड़ के देता है’’ और ‘‘समय से पहले तथा भाग्य से अधिक न कभी किसी को मिला है और न मिलेगा।’’ ये बातें सिर्फ कहने सुनने के लिए ही नहीं है। अब रामलाल को ही देख लीजिए।
सरकारी नौकरी की आस लिए अपने जीवन के चौतीस बसंत पार कर चुके एम. एस-सी. प्रथम श्रेणी में पास पी-एच. डी. उपाधिधारक डाॅ. रामलाल चौधरी पिछले दिनोें डूबे मन से तथा ‘‘नहीं मामा से काना मामा भला’’ सोचकर के कालेज में भृत्य के पद हेतु आवेदन पत्र भर दिया था। कुछ दिन बाद संविदा सहायक प्राध्यापक की भर्ती के लिए भी आवेदन मंगाया गया। ‘‘जब तक साँस है, तब तक आस है’’ वाली उक्ति को चरितार्थ करते हुए डाॅ. रामलाल ने उसमें भी फार्म भरकर जमा कर दिया।
अप्रत्याशित ढंग से क्रमशः दोनों जगह से साक्षात्कार हेतु बुलावा पत्र रामलाल को मिला। साक्षात्कार आशानुरूप रहा। दोनों ही पदों के लिए उसका चयन हो गया।
परंतु हाय री किस्मत ! सरकार और सरकारी नियमों के कारण डाॅ. रामलाल चौधरी ने सहायक प्राध्यापक की बजाय उसी कालेज में भृत्य के पद पर कार्यभार ग्रहण किया क्योंकि यह पद स्थायी था और एक निश्चित वेतनमान पर नियुक्त था, जबकि सहायक प्राध्यापक का पद संविदा आधार पर था और सालभर बाद फिर से सड़क पर आ जाने का खतरा था।
डाॅ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

Language: Hindi
101 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लाठी बे-आवाज (कुंडलिया)
लाठी बे-आवाज (कुंडलिया)
Ravi Prakash
"विजेता"
Dr. Kishan tandon kranti
फ़ब्तियां
फ़ब्तियां
Shivkumar Bilagrami
हर इंसान होशियार और समझदार है
हर इंसान होशियार और समझदार है
पूर्वार्थ
*****सूरज न निकला*****
*****सूरज न निकला*****
Kavita Chouhan
उस रावण को मारो ना
उस रावण को मारो ना
VINOD CHAUHAN
चांद कहां रहते हो तुम
चांद कहां रहते हो तुम
Surinder blackpen
*.....उन्मुक्त जीवन......
*.....उन्मुक्त जीवन......
Naushaba Suriya
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
Ravi Yadav
■ सार संक्षेप...
■ सार संक्षेप...
*Author प्रणय प्रभात*
मुस्कराते हुए गुजरी वो शामे।
मुस्कराते हुए गुजरी वो शामे।
कुमार
"खामोशी की गहराईयों में"
Pushpraj Anant
“बिरहनी की तड़प”
“बिरहनी की तड़प”
DrLakshman Jha Parimal
From dust to diamond.
From dust to diamond.
Manisha Manjari
चाय
चाय
Dr. Seema Varma
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जाहि विधि रहे राम ताहि विधि रहिए
जाहि विधि रहे राम ताहि विधि रहिए
Sanjay ' शून्य'
कह कर गुजर गई उस रास्ते से,
कह कर गुजर गई उस रास्ते से,
Shakil Alam
💐प्रेम कौतुक-347💐
💐प्रेम कौतुक-347💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वो मेरे दिल के एहसास अब समझता नहीं है।
वो मेरे दिल के एहसास अब समझता नहीं है।
Faiza Tasleem
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
Phool gufran
कमियाॅं अपनों में नहीं
कमियाॅं अपनों में नहीं
Harminder Kaur
सदविचार
सदविचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
समय
समय
Neeraj Agarwal
आपको याद भी
आपको याद भी
Dr fauzia Naseem shad
जीवन में संघर्ष सक्त है।
जीवन में संघर्ष सक्त है।
Omee Bhargava
अंधों के हाथ
अंधों के हाथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जितने धैर्यता, सहनशीलता और दृढ़ता के साथ संकल्पित संघ के स्व
जितने धैर्यता, सहनशीलता और दृढ़ता के साथ संकल्पित संघ के स्व
जय लगन कुमार हैप्पी
"तुम्हारे शिकवों का अंत चाहता हूँ
दुष्यन्त 'बाबा'
ऐसे नाराज़ अगर, होने लगोगे तुम हमसे
ऐसे नाराज़ अगर, होने लगोगे तुम हमसे
gurudeenverma198
Loading...