Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 7, 2022 · 1 min read

सरकारी निजीकरण।

यह सरकारी निजीकरण कैसा हो रहा है।
पैसे का समीकरण देखो कैसा हो रहा है।।1।।

कुछ भी ना रहा जनता के अधिकार का।
देश का हर सरकारी विभाग बिक रहा है।।2।।

देश की अर्थव्यवस्था कहां चली गयी है।
महगाई की मार से यहां गरीब रो रहा है।।3।।

अपने सपने लेकर जवान टहल रहा है।
साल दर साल बस बेरोजगार बढ़ रहा है।।4।।

कुछ करो सियासत दानों देश के लिए।
दुनियाँ की तुलना में भारत पिछड़ रहा है।।5।।

यूं जुमले पर जुमले बाजी बस हो रही है।
कहते है अच्छे दिन आएंगे विकास हो रहा है।।6।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

2 Likes · 2 Comments · 134 Views
You may also like:
" COMMUNICATION GAP AMONG FRIENDS "
DrLakshman Jha Parimal
बेवफ़ा कहलाए है।
Taj Mohammad
हरा जगत में फैलता, सिमटे केसर रंग
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रेम
Kanchan Khanna
सफर
Anamika Singh
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
युद्ध के उन्माद में है
Shivkumar Bilagrami
दिन बड़ा बनाने में
डी. के. निवातिया
आमाल।
Taj Mohammad
तुम्हें जन्मदिन मुबारक हो
gurudeenverma198
वृक्ष बोल उठे..!
Prabhudayal Raniwal
खोकर के अपनो का विश्वास ।....(भाग - 3)
Buddha Prakash
✍️✍️अतीत✍️✍️
'अशांत' शेखर
दोहे
सूर्यकांत द्विवेदी
✍️✍️असर✍️✍️
'अशांत' शेखर
सौगंध
Shriyansh Gupta
माँ पर तीन मुक्तक
Dr Archana Gupta
पिता का मर्तबा।
Taj Mohammad
कातिल ना मिला।
Taj Mohammad
मेरा , सच
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
रूला दे ये ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
ऐ बादल अब तो बरस जाओ ना
नूरफातिमा खातून नूरी
*श्री प्रदीप कुमार बंसल उर्फ मुन्ना बंसल की याद*
Ravi Prakash
तिश्ना तिश्ना सा है आज नफ्स मेरा।
Taj Mohammad
स्वर कोकिला
AMRESH KUMAR VERMA
बाजारों में ना बिकती है।
Taj Mohammad
मोन
श्याम सिंह बिष्ट
मौसम
AMRESH KUMAR VERMA
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
फिर एक समस्या
डॉ एल के मिश्र
Loading...