Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Aug 2023 · 1 min read

समाज सुधारक

समाज सुधारक

उनकी गणना बड़े समाज सुधारकों में होती है। दहेज देना और लेना दोनों को ही वे पाप समझते हैं। यही कारण है कि उन्होंने जहाँ अपनी दोनों बेटियों की शादी में कुछ भी दहेज नहीं दिया, वहीं तीनों बेटों की शादी में कुछ भी दहेज नहीं लिया।
वैसे उनका कहना है कि यह तो महज एक संयोग ही है कि उनकी तीनों बहुएँ अपनी माता-पिता की इकलौती संतान हैं।
-डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

96 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
झुकना होगा
झुकना होगा
भरत कुमार सोलंकी
हिन्दी
हिन्दी
लक्ष्मी सिंह
मां तुम बहुत याद आती हो
मां तुम बहुत याद आती हो
Mukesh Kumar Sonkar
🏞️प्रकृति 🏞️
🏞️प्रकृति 🏞️
Vandna thakur
2842.*पूर्णिका*
2842.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ना समझ आया
ना समझ आया
Dinesh Kumar Gangwar
"फासले उम्र के" ‌‌
Chunnu Lal Gupta
रमेशराज की जनकछन्द में तेवरियाँ
रमेशराज की जनकछन्द में तेवरियाँ
कवि रमेशराज
ईमानदारी, दृढ़ इच्छाशक्ति
ईमानदारी, दृढ़ इच्छाशक्ति
Dr.Rashmi Mishra
🌹जिन्दगी के पहलू 🌹
🌹जिन्दगी के पहलू 🌹
Dr Shweta sood
जय शिव शंकर ।
जय शिव शंकर ।
Anil Mishra Prahari
हिंदू कौन?
हिंदू कौन?
Sanjay ' शून्य'
किसी का खौफ नहीं, मन में..
किसी का खौफ नहीं, मन में..
अरशद रसूल बदायूंनी
अब यह अफवाह कौन फैला रहा कि मुगलों का इतिहास इसलिए हटाया गया
अब यह अफवाह कौन फैला रहा कि मुगलों का इतिहास इसलिए हटाया गया
शेखर सिंह
दशरथ माँझी संग हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
दशरथ माँझी संग हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
.....★.....
.....★.....
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
सांसों के सितार पर
सांसों के सितार पर
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
"लेखनी"
Dr. Kishan tandon kranti
यह जिंदगी मेरी है लेकिन..
यह जिंदगी मेरी है लेकिन..
Suryakant Dwivedi
■ शर्म भी शर्माएगी इस बेशर्मी पर।
■ शर्म भी शर्माएगी इस बेशर्मी पर।
*प्रणय प्रभात*
ये जो तुम कुछ कहते नहीं कमाल करते हो
ये जो तुम कुछ कहते नहीं कमाल करते हो
Ajay Mishra
अनजान बनकर मिले थे,
अनजान बनकर मिले थे,
Jay Dewangan
हम सा भी कोई मिल जाए सरेराह चलते,
हम सा भी कोई मिल जाए सरेराह चलते,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सावन
सावन
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
रंग रहे उमंग रहे और आपका संग रहे
रंग रहे उमंग रहे और आपका संग रहे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कन्हैया आओ भादों में (भक्ति गीतिका)
कन्हैया आओ भादों में (भक्ति गीतिका)
Ravi Prakash
बहू-बेटी
बहू-बेटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सावन का महीना है भरतार
सावन का महीना है भरतार
Ram Krishan Rastogi
वह
वह
Lalit Singh thakur
कौआ और कोयल ( दोस्ती )
कौआ और कोयल ( दोस्ती )
VINOD CHAUHAN
Loading...