Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Nov 2023 · 1 min read

समाज को जगाने का काम करते रहो,

समाज को जगाने का काम करते रहो,
चाहे लोग तारीफ करे या बुराई।
आधे से ज्यादा लोग सोते रहते हैं,
सूरज फिर भी जगाने आ जाता है।
प्रकृति जोहार

144 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नेताम आर सी
View all
You may also like:
अगले बरस जल्दी आना
अगले बरस जल्दी आना
Kavita Chouhan
शे’र/ MUSAFIR BAITHA
शे’र/ MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
आहिस्ता आहिस्ता मैं अपने दर्द मे घुलने लगा हूँ ।
आहिस्ता आहिस्ता मैं अपने दर्द मे घुलने लगा हूँ ।
Ashwini sharma
उठे ली सात बजे अईठे ली ढेर
उठे ली सात बजे अईठे ली ढेर
नूरफातिमा खातून नूरी
"मैं सोच रहा था कि तुम्हें पाकर खुश हूं_
Rajesh vyas
प्रेम
प्रेम
Sanjay ' शून्य'
2864.*पूर्णिका*
2864.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
किस लिए पास चले आए अदा किसकी थी
किस लिए पास चले आए अदा किसकी थी
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
अमृतकलश
अमृतकलश
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
जब मित्र बने हो यहाँ तो सब लोगों से खुलके जुड़ना सीख लो
जब मित्र बने हो यहाँ तो सब लोगों से खुलके जुड़ना सीख लो
DrLakshman Jha Parimal
हर एक नागरिक को अपना, सर्वश्रेष्ठ देना होगा
हर एक नागरिक को अपना, सर्वश्रेष्ठ देना होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वो कड़वी हक़ीक़त
वो कड़वी हक़ीक़त
पूर्वार्थ
■ पाठक लुप्त, लेखक शेष। मुग़ालते में आधी आबादी।
■ पाठक लुप्त, लेखक शेष। मुग़ालते में आधी आबादी।
*Author प्रणय प्रभात*
THE GREAT BUTTER THIEF
THE GREAT BUTTER THIEF
Satish Srijan
धर्म नहीं, विज्ञान चाहिए
धर्म नहीं, विज्ञान चाहिए
Shekhar Chandra Mitra
*बहू- बेटी- तलाक*
*बहू- बेटी- तलाक*
Radhakishan R. Mundhra
*कहां किसी को मुकम्मल जहां मिलता है*
*कहां किसी को मुकम्मल जहां मिलता है*
Harminder Kaur
मंगलमय हो आपका विजय दशमी शुभ पर्व ,
मंगलमय हो आपका विजय दशमी शुभ पर्व ,
Neelam Sharma
बँटवारे का दर्द
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
कैसा गीत लिखूं
कैसा गीत लिखूं
नवीन जोशी 'नवल'
संबंधो में अपनापन हो
संबंधो में अपनापन हो
संजय कुमार संजू
करवाचौथ
करवाचौथ
Surinder blackpen
बेटियां
बेटियां
Nanki Patre
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
Rj Anand Prajapati
गति साँसों की धीमी हुई, पर इंतज़ार की आस ना जाती है।
गति साँसों की धीमी हुई, पर इंतज़ार की आस ना जाती है।
Manisha Manjari
Ek galti har roj kar rhe hai hum,
Ek galti har roj kar rhe hai hum,
Sakshi Tripathi
कानाफूसी है पैसों की,
कानाफूसी है पैसों की,
Ravi Prakash
हुआ पिया का आगमन
हुआ पिया का आगमन
लक्ष्मी सिंह
💐प्रेम कौतुक-220💐
💐प्रेम कौतुक-220💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अंदाज़े बयाँ
अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...