Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Aug 2023 · 2 min read

समय यात्रा संभावना -एक विचार

समय यात्रा की संभावना पर विचार करने पर हमें यह प्रतीत होता है की भविष्य की यात्रा संभव है परंतु इसके विपरीत अतीत में यात्रा करना सर्वथा असंभव परिकल्पना है।
इस कथन पर विचार करने से पहले हमें समय की परिभाषा जानना आवश्यक है।
समय परिमाण सापेक्षता के सिद्धांत पर आधारित है। पृथ्वी पर समय की गणना पृथ्वी के अपनी धुरी पर घूमने एवं सूर्य का चक्कर लगाने के लिए व्यतीत समय के आधार पर की जाती है। जो प्रत्यक्ष एवं परोक्ष रूप से विभिन्न कारकों जैसे विभिन्न ग्रहों के गुरुत्वाकर्षण शक्ति के परिवर्तन से पृथ्वी की गुरुत्वाकर्षण शक्ति मे होने वाले प्रभाव एवं पृथ्वी तल पर समय-समय पर भूकंप एवं प्राकृतिक आपदाओं के फलस्वरूप गुरुत्वाकर्षण शक्ति मे आने वाले परिवर्तन पर निर्भर करता है। पृथ्वी पर समय की गणना एवं अंतरिक्ष एवं अन्य ग्रहों में समय की गणना में भिन्नता पायी जाएगी, जो उनके सापेक्ष कारको पर निर्भर होगी।
इसे सरलता से समझने के लिए एक उदाहरण स्वरूप हम कल्पना करें कि हम अपनी पृथ्वी के समय पर आधारित घड़ी लेकर अंतरिक्ष में यात्रा करते हैं एवं उसके आधार पर अंतरिक्ष एवं अन्य किसी ग्रह मे समय व्यतीत कर
पृथ्वी पर वापस लौट कर आऐं तो हमें विदित होगा कि हमारा पृथ्वी का समय हमारी घड़ी से बहुत आगे निकल चुका है। जिसका तात्पर्य यह है कि कि हमारा पृथ्वी पर आधारित घड़ी का समय अंतरिक्ष एवं अन्य ग्रह में जाने से धीमा पड़ गया था जो पृथ्वी में आने पर पृथ्वी की घड़ियों से भिन्न हो गया तथा पृथ्वी पर आधारित समय हमारे अंतरिक्ष एवं अन्य ग्रह पर व्यतीत समय से आगे निकल चुका है।
समय को प्रभावित करने वाले कारकों में गति प्रमुख है। यदि हम गति को तीव्र कर दें तो समय धीमा पड़ सकता है। इसके उदाहरण स्वरूप हम कल्पना करें कि जेट विमान में सवार होकर पृथ्वी का चक्कर लगाते हैं , तो हमारा समय कम लगेगा।
दूसरी ओर यदि हम पृथ्वी का चक्कर किसी अन्य सामान्य विमान से लगाते हैं तो समय अधिक लगेगा। यहां यह समझने योग्य है कि कम समय से तात्पर्य एक निर्धारित अवधि में व्यतीत समय से है , जो किसी अवधि को छोटा बनाते हैं। ना कि किसी दूरी को तय किए कुल समय की गणना से है।
समय के अन्य कारक पृथ्वी धरातल की संरचना एवं आकाश परिवहन मार्ग की बाधाएं हैं।
पृथ्वी का धरातल वक्राकार होने से धरातल मार्ग से यात्रा करने पर अधिक समय व्यतीत होता है, जिसके विपरीत आकाश मार्ग सीधा होने से यात्रा में कम समय लगता है।
यह तथ्य यह भी स्पष्ट करता है कि पृथ्वी गोलाकार रूप लिए हुए हैं , एवं आकाश मार्ग सीधी रेखा में होने के कारण कम समय में तय किया जाता है।

इन सभी तथ्यों से हम यह सिद्ध कर सकते हैं कि समय को पृथ्वी की कक्षा से बाहर जाकर धीमा किया जा सकता है एवं लौटकर भविष्य में यात्रा की जा सकती है।

214 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
निंदा
निंदा
Dr fauzia Naseem shad
औरत
औरत
नूरफातिमा खातून नूरी
कर मुसाफिर सफर तू अपने जिंदगी  का,
कर मुसाफिर सफर तू अपने जिंदगी का,
Yogendra Chaturwedi
जब कोई न था तेरा तो बहुत अज़ीज़ थे हम तुझे....
जब कोई न था तेरा तो बहुत अज़ीज़ थे हम तुझे....
पूर्वार्थ
बदली - बदली हवा और ये जहाँ बदला
बदली - बदली हवा और ये जहाँ बदला
सिद्धार्थ गोरखपुरी
वह देश हिंदुस्तान है
वह देश हिंदुस्तान है
gurudeenverma198
फितरत ना बदल सका
फितरत ना बदल सका
goutam shaw
तड़फ रहा दिल हिज्र में तेरे
तड़फ रहा दिल हिज्र में तेरे
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
इतना बवाल मचाएं हो के ये मेरा हिंदुस्थान है
इतना बवाल मचाएं हो के ये मेरा हिंदुस्थान है
'अशांत' शेखर
शीर्षक - 'शिक्षा : गुणात्मक सुधार और पुनर्मूल्यांकन की महत्ती आवश्यकता'
शीर्षक - 'शिक्षा : गुणात्मक सुधार और पुनर्मूल्यांकन की महत्ती आवश्यकता'
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
2462.पूर्णिका
2462.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चंद्रयान 3 ‘आओ मिलकर जश्न मनाएं’
चंद्रयान 3 ‘आओ मिलकर जश्न मनाएं’
Author Dr. Neeru Mohan
आंखें मूंदे हैं
आंखें मूंदे हैं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
मैं हिंदी में इस लिए बात करता हूं क्योंकि मेरी भाषा ही मेरे
मैं हिंदी में इस लिए बात करता हूं क्योंकि मेरी भाषा ही मेरे
Rj Anand Prajapati
दोस्ती
दोस्ती
Kanchan Alok Malu
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
आज फिर किसी की बातों ने बहकाया है मुझे,
आज फिर किसी की बातों ने बहकाया है मुझे,
Vishal babu (vishu)
"निक्कू खरगोश"
Dr Meenu Poonia
सांसों के सितार पर
सांसों के सितार पर
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
manjula chauhan
सजी सारी अवध नगरी , सभी के मन लुभाए हैं
सजी सारी अवध नगरी , सभी के मन लुभाए हैं
Rita Singh
चलते रहना ही जीवन है।
चलते रहना ही जीवन है।
संजय कुमार संजू
बहुत कुछ पढ़ लिया तो क्या ऋचाएं पढ़ के देखो।
बहुत कुछ पढ़ लिया तो क्या ऋचाएं पढ़ के देखो।
सत्य कुमार प्रेमी
मत सता गरीब को वो गरीबी पर रो देगा।
मत सता गरीब को वो गरीबी पर रो देगा।
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"गौरतलब"
Dr. Kishan tandon kranti
ख्वाबों से परहेज़ है मेरा
ख्वाबों से परहेज़ है मेरा "वास्तविकता रूह को सुकून देती है"
Rahul Singh
विडम्बना
विडम्बना
Shaily
विदेश मे पैसा कमा कर पंजाब और केरल पहले नंबर पर विराजमान हैं
विदेश मे पैसा कमा कर पंजाब और केरल पहले नंबर पर विराजमान हैं
शेखर सिंह
वीर बालिका
वीर बालिका
लक्ष्मी सिंह
गुमाँ हैं हमको हम बंदर से इंसाँ बन चुके हैं पर
गुमाँ हैं हमको हम बंदर से इंसाँ बन चुके हैं पर
Johnny Ahmed 'क़ैस'
Loading...