Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Sep 2016 · 1 min read

समय बुला दो

समय बुला दो सुभाष चंद्र को वो
‘जय हिन्द’ गा कर जोश भरें,
खून के बदले आजादी दे दें
जनता का सब प्रलाप हरे ।
समय बुला दो भगत सिंह को
वो इंकलाब फिर ले आए ,
जिंदाबाद मातृभूमि को
घाटियों में भी कर जाए ।
समय बुला दो रानी लक्ष्मी को
वो जोश बहनों में भर जाए ,
अपनी धरती की रक्षा हित
मान न उसका गिरा पाए ।
समय क्यों तुमने असमय ही
अगणित क्रांतिवीरों को छीना ,
उन बिन मेरे देश की धरती
हुई वीरता भूषण हीना ।
यदि वे न जाते असमय तो
देश मेरा न बिखरा होता,
सत्ता मद में खोने वालों का
यहाँ न कोई बसेरा होता ।
बीते समय आज आकर देखो
शर्म तुमको भी आ जाएगी,
जब ‘वंदे मातरम्’ कहने पर भी
रोक नजर यहाँ आएगी ।
तिरंगे को सलामी देने से भी
एक धर्म जहाँ खंडित होता है,
मातृभूमि का वंदन भी अब
एक धर्म से जोड़ा जाता है ।
क्या हो गया है आर्यवर्त को
नहीं क्रांतिवीर शीश उठाते हैं ,
परोपदेश देकर के सब
स्वयं पीछे हट जाते हैं ।
हिन्दू मुस्लिम सिक्ख इसाई
ऊपर से तो दिखते भाई हैं,
सच पूछो तो नेतृत्व ने इनमें
बोयी एक गहरी खाई है ।
समझ नहीं आता क्या होगा
बिखराव ये कैसे संभलेगा ?
टूट रहे जन मनोबल को
कैसे नेतृत्व कोई जोड़ेगा ?
कौन वो क्रांतिवीर होगा
जो दायित्व अपना निभाएगा ,
बिखरे हुए अखंड भारत को
फिर मुक्ताहार बनाएगा ।।

डॉ रीता
आया नगर,नई दिल्ली-47

Language: Hindi
4 Comments · 454 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Rita Singh
View all
You may also like:
कमीजें
कमीजें
Madhavi Srivastava
Gulab ke hasin khab bunne wali
Gulab ke hasin khab bunne wali
Sakshi Tripathi
हमें दिल की हर इक धड़कन पे हिन्दुस्तान लिखना है
हमें दिल की हर इक धड़कन पे हिन्दुस्तान लिखना है
Irshad Aatif
नवगीत
नवगीत
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जरूरत से ज्यादा मुहब्बत
जरूरत से ज्यादा मुहब्बत
shabina. Naaz
दर्द -ऐ सर हुआ सब कुछ भुलाकर आये है ।
दर्द -ऐ सर हुआ सब कुछ भुलाकर आये है ।
Phool gufran
डाला है लावा उसने कुछ ऐसा ज़बान से
डाला है लावा उसने कुछ ऐसा ज़बान से
Anis Shah
अजब-गजब नट भील से, इस जीवन के रूप
अजब-गजब नट भील से, इस जीवन के रूप
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बेटी के जीवन की विडंबना
बेटी के जीवन की विडंबना
Rajni kapoor
"रंग भले ही स्याह हो" मेरी पंक्तियों का - अपने रंग तो तुम घोलते हो जब पढ़ते हो
Atul "Krishn"
बुंदेली दोहा संकलन बिषय- गों में (मन में)
बुंदेली दोहा संकलन बिषय- गों में (मन में)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
■ कैसी कही...?
■ कैसी कही...?
*Author प्रणय प्रभात*
नवरात्रि की शुभकामनाएँ। जय माता दी।
नवरात्रि की शुभकामनाएँ। जय माता दी।
Anil Mishra Prahari
प्यार का तेरा सौदा हुआ।
प्यार का तेरा सौदा हुआ।
पूर्वार्थ
हुनर
हुनर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
नदिया के पार (सिनेमा) / MUSAFIR BAITHA
नदिया के पार (सिनेमा) / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
प्रकृति की ओर
प्रकृति की ओर
जगदीश लववंशी
*माँ : 7 दोहे*
*माँ : 7 दोहे*
Ravi Prakash
गज़ल
गज़ल
जगदीश शर्मा सहज
स्वर्ग से सुंदर मेरा भारत
स्वर्ग से सुंदर मेरा भारत
Mukesh Kumar Sonkar
गुस्सा दिलाकर ,
गुस्सा दिलाकर ,
Umender kumar
जाने क्यूँ उसको सोचकर -
जाने क्यूँ उसको सोचकर -"गुप्तरत्न" भावनाओं के समन्दर में एहसास जो दिल को छु जाएँ
गुप्तरत्न
‼ ** सालते जज़्बात ** ‼
‼ ** सालते जज़्बात ** ‼
Dr Manju Saini
दया के पावन भाव से
दया के पावन भाव से
Dr fauzia Naseem shad
दो शे' र
दो शे' र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
तू क्यों रोता है
तू क्यों रोता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जातिगत भेदभाव
जातिगत भेदभाव
Shekhar Chandra Mitra
Download Class 10 Science lab manual with reading - Paramhimalaya
Download Class 10 Science lab manual with reading - Paramhimalaya
Param Himalaya
गुरुदेव आपका अभिनन्दन
गुरुदेव आपका अभिनन्दन
Pooja Singh
एक ऐसा दोस्त
एक ऐसा दोस्त
Vandna Thakur
Loading...