Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Sep 2016 · 1 min read

समय बुला दो

समय बुला दो सुभाष चंद्र को वो
‘जय हिन्द’ गा कर जोश भरें,
खून के बदले आजादी दे दें
जनता का सब प्रलाप हरे ।
समय बुला दो भगत सिंह को
वो इंकलाब फिर ले आए ,
जिंदाबाद मातृभूमि को
घाटियों में भी कर जाए ।
समय बुला दो रानी लक्ष्मी को
वो जोश बहनों में भर जाए ,
अपनी धरती की रक्षा हित
मान न उसका गिरा पाए ।
समय क्यों तुमने असमय ही
अगणित क्रांतिवीरों को छीना ,
उन बिन मेरे देश की धरती
हुई वीरता भूषण हीना ।
यदि वे न जाते असमय तो
देश मेरा न बिखरा होता,
सत्ता मद में खोने वालों का
यहाँ न कोई बसेरा होता ।
बीते समय आज आकर देखो
शर्म तुमको भी आ जाएगी,
जब ‘वंदे मातरम्’ कहने पर भी
रोक नजर यहाँ आएगी ।
तिरंगे को सलामी देने से भी
एक धर्म जहाँ खंडित होता है,
मातृभूमि का वंदन भी अब
एक धर्म से जोड़ा जाता है ।
क्या हो गया है आर्यवर्त को
नहीं क्रांतिवीर शीश उठाते हैं ,
परोपदेश देकर के सब
स्वयं पीछे हट जाते हैं ।
हिन्दू मुस्लिम सिक्ख इसाई
ऊपर से तो दिखते भाई हैं,
सच पूछो तो नेतृत्व ने इनमें
बोयी एक गहरी खाई है ।
समझ नहीं आता क्या होगा
बिखराव ये कैसे संभलेगा ?
टूट रहे जन मनोबल को
कैसे नेतृत्व कोई जोड़ेगा ?
कौन वो क्रांतिवीर होगा
जो दायित्व अपना निभाएगा ,
बिखरे हुए अखंड भारत को
फिर मुक्ताहार बनाएगा ।।

डॉ रीता
आया नगर,नई दिल्ली-47

Language: Hindi
Tag: कविता
4 Comments · 313 Views
You may also like:
कई सूर्य अस्त हो जाते हैं
कवि दीपक बवेजा
उड़ता लेवे तीर
Sadanand Kumar
२४२. पर्व अनोखा
MSW Sunil SainiCENA
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
मेरी आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
*अंतिम प्रणाम ! डॉक्टर मीना नकवी*
Ravi Prakash
मुंह की लार – सेहत का भंडार
Vikas Sharma'Shivaaya'
अंकित है जो सत्य शिला पर
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
महाराणा प्रताप और बादशाह अकबर की मुलाकात
मोहित शर्मा ज़हन
दुनियाँ की भीड़ में।
Taj Mohammad
कितनी पीड़ा कितने भागीरथी
सूर्यकांत द्विवेदी
“मैं बहुत कुछ कहना चाहता हूँ”
DrLakshman Jha Parimal
आरज़ू
shabina. Naaz
आंचल में मां के जिंदगी महफूज होती है
VINOD KUMAR CHAUHAN
प्यार:एक ख्वाब
Nishant prakhar
Dear Mummy ! Dear Papa !
Buddha Prakash
तुम इतना जो मुस्कराती हो,
Dr. Nisha Mathur
किस राह के हो अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
" राज "
Dr Meenu Poonia
★प्रकृति: तथा तत्वबोधः★
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पढ़ते कहां किताब का
RAMESH SHARMA
✍️तंगदिली✍️
'अशांत' शेखर
सुबह - सवेरा
AMRESH KUMAR VERMA
खड़ा बाँस का झुरमुट एक
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बहुत अच्छे लगते ( गीतिका )
Dr. Sunita Singh
हरित वसुंधरा।
Anil Mishra Prahari
गोविंद से बड़ा होता गुरु है
gurudeenverma198
तटस्थता आत्मघाती है
Shekhar Chandra Mitra
घर घर तिरंगा हो।
Rajesh Kumar Arjun
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
Loading...