Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2023 · 1 min read

समझे वही हक़ीक़त

समझे वही हक़ीक़त
जिनकी समझ में आयी।
कुछ पल का है तमाशा
कुछ पल की वाह वाही ॥

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
10 Likes · 425 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
डिप्रेशन कोई मज़ाक नहीं है मेरे दोस्तों,
डिप्रेशन कोई मज़ाक नहीं है मेरे दोस्तों,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मुझे प्यार हुआ था
मुझे प्यार हुआ था
Nishant Kumar Mishra
जुदाई का एहसास
जुदाई का एहसास
प्रदीप कुमार गुप्ता
■ सूरते-हाल ■
■ सूरते-हाल ■
*Author प्रणय प्रभात*
डोसा सब को भा रहा , चटनी-साँभर खूब (कुंडलिया)
डोसा सब को भा रहा , चटनी-साँभर खूब (कुंडलिया)
Ravi Prakash
दिलों में प्यार भी होता, तेरा मेरा नहीं होता।
दिलों में प्यार भी होता, तेरा मेरा नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
अपना...❤❤❤
अपना...❤❤❤
Vishal babu (vishu)
वस हम पर
वस हम पर
Dr fauzia Naseem shad
मसला ये हैं कि ज़िंदगी उलझनों से घिरी हैं।
मसला ये हैं कि ज़िंदगी उलझनों से घिरी हैं।
ओसमणी साहू 'ओश'
आईना बोला मुझसे
आईना बोला मुझसे
Kanchan Advaita
तुम्हारी जय जय चौकीदार
तुम्हारी जय जय चौकीदार
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
I am always in search of the
I am always in search of the "why",
Manisha Manjari
किस्मत
किस्मत
Neeraj Agarwal
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
Maybe the reason I'm no longer interested in being in love i
Maybe the reason I'm no longer interested in being in love i
पूर्वार्थ
कलमबाज
कलमबाज
Mangilal 713
जाकर वहाँ मैं क्या करुँगा
जाकर वहाँ मैं क्या करुँगा
gurudeenverma198
Empty pocket
Empty pocket
Bidyadhar Mantry
घोसी                      क्या कह  रहा है
घोसी क्या कह रहा है
Rajan Singh
जिंदगी में अगर आपको सुकून चाहिए तो दुसरो की बातों को कभी दिल
जिंदगी में अगर आपको सुकून चाहिए तो दुसरो की बातों को कभी दिल
Ranjeet kumar patre
बेटियाँ
बेटियाँ
विजय कुमार अग्रवाल
शांति से खाओ और खिलाओ
शांति से खाओ और खिलाओ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
रामलला ! अभिनंदन है
रामलला ! अभिनंदन है
Ghanshyam Poddar
इश्क़ किया नहीं जाता
इश्क़ किया नहीं जाता
Surinder blackpen
नूतन सद्आचार मिल गया
नूतन सद्आचार मिल गया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तपाक से लगने वाले गले , अब तो हाथ भी ख़ौफ़ से मिलाते हैं
तपाक से लगने वाले गले , अब तो हाथ भी ख़ौफ़ से मिलाते हैं
Atul "Krishn"
वही दरिया के  पार  करता  है
वही दरिया के पार करता है
Anil Mishra Prahari
अकेला खुदको पाता हूँ.
अकेला खुदको पाता हूँ.
Naushaba Suriya
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
Rj Anand Prajapati
जब हमें तुमसे मोहब्बत ही नहीं है,
जब हमें तुमसे मोहब्बत ही नहीं है,
Dr. Man Mohan Krishna
Loading...