Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2016 · 1 min read

समझे कैसे ….

समझें कैसे….
◆◆◆◆◆◆

भीतर कुछ
बाहर कुछ
दोगले
हो चुके व्यवहारों को
समझें कैसे ?
जो नहीं है वही
बढ़ा-चढ़ा कर दिखाने वाले
चोंचलें
बन चुके जीवन को
समझें कैसे ?
किसी के लिए जो सही
दूसरे के लिए वही सही नहीं
खोखले
हो चुके मानदंडों को
समझें कैसे ?
कर रहा हर कोई
खुश रहने की झूठी कोशिशें
टोटके
बन चुकी खुशी को
समझें कैसे ?
खो चुके आधार-मूल्य
पोपले
बन चुके समाज को
समझें कैसे ?
समझने के लिए क्या चाहिए ?
चाहिए बस एक ठोस आधार
करुणा का
समता -एकरूपता का
निर्मल झरना जो बहे
अंदर -बाहर निर्बाध-एकरूप
वास्तविक खुशियों भरा
सीधा ,सच्चा
सरल जीवन …
अनिता जैन ‘विपुला ‘

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 4 Comments · 367 Views
You may also like:
“ जन्माष्टमी की एक झलक आर्मी में ” (संस्मरण)
DrLakshman Jha Parimal
कर्मगति
Shyam Sundar Subramanian
विनती
Anamika Singh
पिता की पीड़ा पर गीत
सूर्यकांत द्विवेदी
मैथिली भाषा/साहित्यमे समस्या आ समाधान
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
"ऐनक मित्र"
Dr Meenu Poonia
इरादा
Shivam Sharma
* महकाते रहे *
surenderpal vaidya
ग़ज़ल कहूँ तो मैं असद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एकलव्य
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Dear Mummy ! Dear Papa !
Buddha Prakash
चौकड़िया छंद / ईसुरी छंद , विधान उदाहरण सहित ,...
Subhash Singhai
आज की औरत
Shekhar Chandra Mitra
खास लम्हें
निकेश कुमार ठाकुर
*प्रथम पूज्य देवों में आओ (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
लाइलाज़
Seema 'Tu hai na'
एक झूठा और ब्रह्म सत्य
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
✍️कुछ बाते…
'अशांत' शेखर
कोई किस्मत से कह दो।
Taj Mohammad
हम हक़ीक़त को
Dr fauzia Naseem shad
नोटबंदी ने खुश कर दिया
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
चिड़िया और जाल
DESH RAJ
तेरी यादें मुझे सोने नहीं देती
Ram Krishan Rastogi
पिता
Ray's Gupta
तिरंगा
लक्ष्मी सिंह
वर्तमान से वक्त बचा लो [पंचम भाग ]
AJAY AMITABH SUMAN
जिंदगी की डगर में मुझको
gurudeenverma198
समझता है सबसे बड़ा हो गया।
सत्य कुमार प्रेमी
ये जिंदगी एक उलझी पहेली
VINOD KUMAR CHAUHAN
हाइकु: आहार।
Prabhudayal Raniwal
Loading...