Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2016 · 1 min read

समझे कैसे ….

समझें कैसे….
◆◆◆◆◆◆

भीतर कुछ
बाहर कुछ
दोगले
हो चुके व्यवहारों को
समझें कैसे ?
जो नहीं है वही
बढ़ा-चढ़ा कर दिखाने वाले
चोंचलें
बन चुके जीवन को
समझें कैसे ?
किसी के लिए जो सही
दूसरे के लिए वही सही नहीं
खोखले
हो चुके मानदंडों को
समझें कैसे ?
कर रहा हर कोई
खुश रहने की झूठी कोशिशें
टोटके
बन चुकी खुशी को
समझें कैसे ?
खो चुके आधार-मूल्य
पोपले
बन चुके समाज को
समझें कैसे ?
समझने के लिए क्या चाहिए ?
चाहिए बस एक ठोस आधार
करुणा का
समता -एकरूपता का
निर्मल झरना जो बहे
अंदर -बाहर निर्बाध-एकरूप
वास्तविक खुशियों भरा
सीधा ,सच्चा
सरल जीवन …
अनिता जैन ‘विपुला ‘

Language: Hindi
1 Like · 4 Comments · 544 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विचार और भाव-1
विचार और भाव-1
कवि रमेशराज
लोगों के अल्फाज़ ,
लोगों के अल्फाज़ ,
Buddha Prakash
बचपन और पचपन
बचपन और पचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
भय के द्वारा ही सदा, शोषण सबका होय
भय के द्वारा ही सदा, शोषण सबका होय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
देश की आज़ादी के लिए अंग्रेजों से लड़ते हुए अपने प्राणों की
देश की आज़ादी के लिए अंग्रेजों से लड़ते हुए अपने प्राणों की
Shubham Pandey (S P)
दरिया का किनारा हूं,
दरिया का किनारा हूं,
Sanjay ' शून्य'
रिश्ते
रिश्ते
विजय कुमार अग्रवाल
ऐसे नाराज़ अगर, होने लगोगे तुम हमसे
ऐसे नाराज़ अगर, होने लगोगे तुम हमसे
gurudeenverma198
कानाफूसी है पैसों की,
कानाफूसी है पैसों की,
Ravi Prakash
"We are a generation where alcohol is turned into cold drink
पूर्वार्थ
हर सांझ तुम्हारे आने की आहट सुना करता था
हर सांझ तुम्हारे आने की आहट सुना करता था
Er. Sanjay Shrivastava
😊नया नारा😊
😊नया नारा😊
*Author प्रणय प्रभात*
2590.पूर्णिका
2590.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सरस्वती बंदना
सरस्वती बंदना
Basant Bhagawan Roy
!! निरीह !!
!! निरीह !!
Chunnu Lal Gupta
खेल भावनाओं से खेलो, जीवन भी है खेल रे
खेल भावनाओं से खेलो, जीवन भी है खेल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भर मुझको भुजपाश में, भुला गई हर राह ।
भर मुझको भुजपाश में, भुला गई हर राह ।
Arvind trivedi
दोहे
दोहे
दुष्यन्त 'बाबा'
चलती है जिन्दगी
चलती है जिन्दगी
डॉ. शिव लहरी
राम विवाह कि हल्दी
राम विवाह कि हल्दी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हिन्दी की गाथा क्यों गाते हो
हिन्दी की गाथा क्यों गाते हो
Anil chobisa
आता जब समय चुनाव का
आता जब समय चुनाव का
Gouri tiwari
ऐ पड़ोसी सोच
ऐ पड़ोसी सोच
Satish Srijan
जो उसके हृदय को शीतलता दे जाए,
जो उसके हृदय को शीतलता दे जाए,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
सुरक्षा
सुरक्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कॉलेज वाला प्यार
कॉलेज वाला प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हारे हुए परिंदे को अब सजर याद आता है
हारे हुए परिंदे को अब सजर याद आता है
कवि दीपक बवेजा
जिंदगी एक सफ़र अपनी
जिंदगी एक सफ़र अपनी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ज़िंदगानी
ज़िंदगानी
Shyam Sundar Subramanian
"वो पूछता है"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...