Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Apr 2023 · 1 min read

समझदार तो मैं भी बहुत हूँ,

समझदार तो मैं भी बहुत हूँ,
पर जब, हादसा औरों के साथ हो।

डॉ. दीपक मेवाती

327 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2520.पूर्णिका
2520.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ईश्वर का
ईश्वर का "ह्यूमर" - "श्मशान वैराग्य"
Atul "Krishn"
जिंदगी और जीवन तो कोरा कागज़ होता हैं।
जिंदगी और जीवन तो कोरा कागज़ होता हैं।
Neeraj Agarwal
फितरत के रंग
फितरत के रंग
प्रदीप कुमार गुप्ता
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
भाग्य का लिखा
भाग्य का लिखा
Nanki Patre
और ज़रा भी नहीं सोचते हम
और ज़रा भी नहीं सोचते हम
Surinder blackpen
मैं तुम्हारे बारे में नहीं सोचूँ,
मैं तुम्हारे बारे में नहीं सोचूँ,
Sukoon
मन तो मन है
मन तो मन है
Pratibha Pandey
“ इन लोगों की बात सुनो”
“ इन लोगों की बात सुनो”
DrLakshman Jha Parimal
" सर्कस सदाबहार "
Dr Meenu Poonia
कविता : याद
कविता : याद
Rajesh Kumar Arjun
नहीं अब कभी ऐसा, नहीं होगा हमसे
नहीं अब कभी ऐसा, नहीं होगा हमसे
gurudeenverma198
नहीं भुला पाएंगे मां तुमको, जब तक तन में प्राण
नहीं भुला पाएंगे मां तुमको, जब तक तन में प्राण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वक़्त हमें लोगो की पहचान करा देता है
वक़्त हमें लोगो की पहचान करा देता है
Dr. Upasana Pandey
जो अच्छा लगे उसे अच्छा कहा जाये
जो अच्छा लगे उसे अच्छा कहा जाये
ruby kumari
धार में सम्माहित हूं
धार में सम्माहित हूं
AMRESH KUMAR VERMA
सबसे मुश्किल होता है, मृदुभाषी मगर दुष्ट–स्वार्थी लोगों से न
सबसे मुश्किल होता है, मृदुभाषी मगर दुष्ट–स्वार्थी लोगों से न
Dr MusafiR BaithA
" है वही सुरमा इस जग में ।
Shubham Pandey (S P)
*नया साल*
*नया साल*
Dushyant Kumar
*कैसे हार मान लूं
*कैसे हार मान लूं
Suryakant Dwivedi
हर राह मौहब्बत की आसान नहीं होती ।
हर राह मौहब्बत की आसान नहीं होती ।
Phool gufran
दीदी
दीदी
Madhavi Srivastava
वक्त के साथ-साथ चलना मुनासिफ है क्या
वक्त के साथ-साथ चलना मुनासिफ है क्या
कवि दीपक बवेजा
🌳😥प्रकृति की वेदना😥🌳
🌳😥प्रकृति की वेदना😥🌳
SPK Sachin Lodhi
5
5"गांव की बुढ़िया मां"
राकेश चौरसिया
#गद्य_छाप_पद्य
#गद्य_छाप_पद्य
*प्रणय प्रभात*
*हमेशा साथ में आशीष, सौ लाती बुआऍं हैं (हिंदी गजल)*
*हमेशा साथ में आशीष, सौ लाती बुआऍं हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
"सवाल"
Dr. Kishan tandon kranti
पहले वो दीवार पर नक़्शा लगाए - संदीप ठाकुर
पहले वो दीवार पर नक़्शा लगाए - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
Loading...