Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Sep 2016 · 1 min read

“सभ्यता और संस्कार”

यूँ सभ्यता को लुटने न दो,
यूँ सत्यता को मिटने न दो,
यूँ कल्पना को तोडो नहीं ,
यूँ मनुष्यता को रौंदो नही ,
समय की पुकार सुनो तुम सभी,
हाहाकार मनुज की सुनो तुम सभी ,
रक्त की प्यास क्यों है तुम्हे,
झूठ से आस क्यों है तुम्हे,
अस्तित्व सत्य का समझे नहीं ,
मूल्य जीवन का जाने नहीं,
हर तरफ़ छायी है भय की घटा,
शांति क्यों नहीं ये तो बता,
लगी है आग ये कैसी वतन में ,
सुलग रही है वसुन्धरा देश की,
जल रही है सभ्यता , मिट रहे हैं संस्कार,
जल रहा है आदमी, लुट रही है आन,
अब तो तलाश है ऐसे तरुवर की ,
जिसकी शाख पर उगे……,
स्नेह का फूल व शांति का फल ,
जिसकी छाया में पुष्पित व पल्लवित हों,
सभ्यता और संस्कार||

…………निधि………

Language: Hindi
1217 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डा0 निधि श्रीवास्तव "सरोद"
View all
You may also like:
टेढ़े-मेढ़े दांत वालीं
टेढ़े-मेढ़े दांत वालीं
The_dk_poetry
माटी कहे पुकार
माटी कहे पुकार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बचपन
बचपन
नूरफातिमा खातून नूरी
कविता
कविता
Rambali Mishra
योग न ऐसो कर्म हमारा
योग न ऐसो कर्म हमारा
Dr.Pratibha Prakash
इश्क़ ला हासिल का हासिल कुछ नहीं
इश्क़ ला हासिल का हासिल कुछ नहीं
shabina. Naaz
कमी मेरी तेरे दिल को
कमी मेरी तेरे दिल को
Dr fauzia Naseem shad
चरम सुख
चरम सुख
मनोज कर्ण
तथाकथित धार्मिक बोलबाला झूठ पर आधारित है
तथाकथित धार्मिक बोलबाला झूठ पर आधारित है
Mahender Singh Manu
यह समय / MUSAFIR BAITHA
यह समय / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
आज की प्रस्तुति - भाग #1
आज की प्रस्तुति - भाग #1
Rajeev Dutta
जब ख्वाब भी दर्द देने लगे
जब ख्वाब भी दर्द देने लगे
Pramila sultan
लाईक और कॉमेंट्स
लाईक और कॉमेंट्स
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2785. *पूर्णिका*
2785. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सफलता के बीज बोने का सर्वोत्तम समय
सफलता के बीज बोने का सर्वोत्तम समय
Paras Nath Jha
*अपना है यह रामपुर, गुणी-जनों की खान (कुंडलिया)*
*अपना है यह रामपुर, गुणी-जनों की खान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
क्या करें
क्या करें
Surinder blackpen
किसी की गलती देखकर तुम शोर ना करो
किसी की गलती देखकर तुम शोर ना करो
कवि दीपक बवेजा
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
" मानस मायूस "
Dr Meenu Poonia
आऊं कैसे अब वहाँ
आऊं कैसे अब वहाँ
gurudeenverma198
मां की दूध पीये हो तुम भी, तो लगा दो अपने औलादों को घाटी पर।
मां की दूध पीये हो तुम भी, तो लगा दो अपने औलादों को घाटी पर।
Anand Kumar
नादान था मेरा बचपना
नादान था मेरा बचपना
राहुल रायकवार जज़्बाती
भजलो राम राम राम सिया राम राम राम प्यारे राम
भजलो राम राम राम सिया राम राम राम प्यारे राम
Satyaveer vaishnav
रमेशराज की पद जैसी शैली में तेवरियाँ
रमेशराज की पद जैसी शैली में तेवरियाँ
कवि रमेशराज
*राष्ट्रभाषा हिंदी और देशज शब्द*
*राष्ट्रभाषा हिंदी और देशज शब्द*
Subhash Singhai
अधीर मन
अधीर मन
manisha
यहाँ प्रयाग न गंगासागर,
यहाँ प्रयाग न गंगासागर,
Anil chobisa
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
छोड़ भगौने को चमचा, चल देगा उस दिन ।
छोड़ भगौने को चमचा, चल देगा उस दिन ।
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...