Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2023 · 1 min read

सब स्वीकार है

आज़मा ले जिन्दगी
मुझको हर एक मोड़ पर
अब तेरी हर आज़माइश
शौक से स्वीकार है ।
अब कोई तुझसे शिकायत
करने मैं न आऊँगी ।
न ही तेरी देयता पर
प्रश्नचिन्ह मैं उठाऊँगी
तेरी रजा मेरी रजा
अब कोई न प्रतिकार है।
क्या करूं तुझसे शिकायत
दोष तेरा भी नहीं है।
पूर्व के प्रारब्ध का ही
जीवन जगत व्यवहार है।
जिन्दगी जो दे रही
सब शौक से स्वीकार है।
प्राप्त जो भी हो रहा
जीवन को अंगीकार है।
प्रभु तेरी सब देयता से
कर्म पथ पर मैं बढूंगी।
पुरस्कार सा स्वीकार लूंगी
हो जीत या कि हार है।”

Language: Hindi
266 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Saraswati Bajpai
View all
You may also like:
जीना भूल गए है हम
जीना भूल गए है हम
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
भूख-प्यास कहती मुझे,
भूख-प्यास कहती मुझे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चाँद से वार्तालाप
चाँद से वार्तालाप
Dr MusafiR BaithA
लोगो का व्यवहार
लोगो का व्यवहार
Ranjeet kumar patre
2711.*पूर्णिका*
2711.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रास्तो के पार जाना है
रास्तो के पार जाना है
Vaishaligoel
विश्व कप
विश्व कप
Pratibha Pandey
कानून हो दो से अधिक, बच्चों का होना बंद हो ( मुक्तक )
कानून हो दो से अधिक, बच्चों का होना बंद हो ( मुक्तक )
Ravi Prakash
मेरा हर राज़ खोल सकता है
मेरा हर राज़ खोल सकता है
Shweta Soni
उमर भर की जुदाई
उमर भर की जुदाई
Shekhar Chandra Mitra
नफरतों के शहर में प्रीत लुटाते रहना।
नफरतों के शहर में प्रीत लुटाते रहना।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
" हवाएं तेज़ चलीं , और घर गिरा के थमी ,
Neelofar Khan
तेरा यूं मुकर जाना
तेरा यूं मुकर जाना
AJAY AMITABH SUMAN
स्त्रियां पुरुषों से क्या चाहती हैं?
स्त्रियां पुरुषों से क्या चाहती हैं?
अभिषेक किसनराव रेठे
जिंदगी में हजारों लोग आवाज
जिंदगी में हजारों लोग आवाज
Shubham Pandey (S P)
★महाराणा प्रताप★
★महाराणा प्रताप★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
Ram Krishan Rastogi
"इंसान, इंसान में भगवान् ढूंढ रहे हैं ll
पूर्वार्थ
"सरकस"
Dr. Kishan tandon kranti
अल्प इस जीवन में
अल्प इस जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
योग की महिमा
योग की महिमा
Dr. Upasana Pandey
हर दिन के सूर्योदय में
हर दिन के सूर्योदय में
Sangeeta Beniwal
यह जीवन भूल भूलैया है
यह जीवन भूल भूलैया है
VINOD CHAUHAN
चल अंदर
चल अंदर
Satish Srijan
■ आज तक की गणना के अनुसार।
■ आज तक की गणना के अनुसार।
*प्रणय प्रभात*
वो  खफा है ना जाने किसी बात पर
वो खफा है ना जाने किसी बात पर
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
वसंत - फाग का राग है
वसंत - फाग का राग है
Atul "Krishn"
जनता जनार्दन
जनता जनार्दन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बाल कविता: नदी
बाल कविता: नदी
Rajesh Kumar Arjun
एक कुंडलियां छंद-
एक कुंडलियां छंद-
Vijay kumar Pandey
Loading...