“सब व्यर्थ, यहीं रह जाना है “

कुछ अनकही, कुछ अनसुनी
है ये जिन्दगी बडी अनबुझी
कुछ अनछुयी , कुछ अनसिली
है ये ज़िंदगी बडी अनसुलझी
कोई कह न पाया ,सुन न पाया
कोई छू न पाया,सिल न पाया
है ये पहेली सी,न ओर न छोर
किस ओर चलूँ , किस ठौर चलूँ
पग भूमि उठा,मन मुदित लिये
फ़िर फ़िर मैं बढ चली उसी डगर,
क्या पाया क्या खोया ,इस जीवन में
सब व्यर्थ यहीं रह जाना है ,
बस श्वाँस लिये जाना है |
…निधि …

1 Like · 1 Comment · 124 Views
You may also like:
सबसे बड़ा सवाल मुँहवे ताकत रहे
आकाश महेशपुरी
ना कर गुरुर जिंदगी पर इतना भी
VINOD KUMAR CHAUHAN
चल अकेला
Vikas Sharma'Shivaaya'
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जो चाहे कर सकता है
Alok kumar Mishra
शहीद रामचन्द्र विद्यार्थी
Jatashankar Prajapati
कर तू कोशिश कई....
Dr. Alpa H.
किताब।
Amber Srivastava
【26】**!** हम हिंदी हम हिंदुस्तान **!**
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कांटों पर उगना सीखो
VINOD KUMAR CHAUHAN
अभिलाषा
Anamika Singh
पिता का महत्व
ओनिका सेतिया 'अनु '
सारे निशां मिटा देते हैं।
Taj Mohammad
(स्वतंत्रता की रक्षा)
Prabhudayal Raniwal
मेरे दिल के करीब,आओगे कब तुम ?
Ram Krishan Rastogi
एक वीरांगना का अन्त !
Prabhudayal Raniwal
तुम मेरे वो तुम हो...
Sapna K S
"चैन से तो मर जाने दो"
रीतू सिंह
महान गुरु श्री रामकृष्ण परमहंस की काव्यमय जीवनी (पुस्तक-समीक्षा)
Ravi Prakash
यह कैसा एहसास है
Anuj yadav
शर्म-ओ-हया
Dr. Alpa H.
अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं
Muhammad Asif Ali
【29】!!*!! करवाचौथ !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
इश्क में तुम्हारे गिरफ्तार हो गए।
Taj Mohammad
परिवार
सूर्यकांत द्विवेदी
हे राम! तुम लौट आओ ना,,!
ओनिका सेतिया 'अनु '
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
उसके मेरे दरमियाँ खाई ना थी
Khalid Nadeem Budauni
खस्सीक दाम दस लाख
Ranjit Jha
खड़ा बाँस का झुरमुट एक
Vishnu Prasad 'panchotiya'
Loading...