Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jun 2020 · 1 min read

सब बेमानी है

तुम ऐसा करते तो क्या था
तुम वैसा करते तो वाह था
सब कह कर ही कराना था
फिर तो विश्वास बहाना था ,
बिना कहे जो तुम समझते
जब दर्द से उठती
तो तुम हाथ ना पकड़ते ?
रात के सन्नाटे में आँँसुओं की धार
तुम्हें अपनी हथेली पर महसूस होती
तुम्हारी ही करनी पर यूँ ज़ार – ज़ार ना रोती ,
समाज के संभ्रांत लोगों के सामने
विवाह की वेदी पर जो कसमें खायीं थी
उसको सिर्फ एक को निभाना है
ये किसी ने नही बताई थीं ,
हमारे परिष्कृत समाज में
एक पहिये की गाड़ी को
पुष्पक विमान कहा जाता है
बोझ कंधे पर किसी और के होता है
खुद को सरे महफिल पहलवान बताया जाता है,
वो कसमें वो वादे सब बेमानी हैं
विवाह के पहले सब रूमानी है ,
एक दूसरे को समझने के दावे
यूँ झूठे ना पड़ते
हम समझते हैं एक दूसरे को
ये झूठ ना कहते ,
सारे मसले पल में हल हो जाते
तुम तुम ना कहते
मैं मैं ना करते
सब बातों को परे हटा कर
बस हम और हम सिर्फ हम कहते ।

स्वरचित एवं मौलिक
( ममता सिंह देवा , 25/11/2019 )

Language: Hindi
2 Comments · 397 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mamta Singh Devaa
View all
You may also like:
हकीकत
हकीकत
अखिलेश 'अखिल'
हिंदी दिवस पर एक आलेख
हिंदी दिवस पर एक आलेख
कवि रमेशराज
*इश्क़ न हो किसी को*
*इश्क़ न हो किसी को*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सच्चे इश्क़ का नाम... राधा-श्याम
सच्चे इश्क़ का नाम... राधा-श्याम
Srishty Bansal
फेसबुक
फेसबुक
Neelam Sharma
2- साँप जो आस्तीं में पलते हैं
2- साँप जो आस्तीं में पलते हैं
Ajay Kumar Vimal
शायद मेरी क़िस्मत में ही लिक्खा था ठोकर खाना
शायद मेरी क़िस्मत में ही लिक्खा था ठोकर खाना
Shweta Soni
ये दिल है जो तुम्हारा
ये दिल है जो तुम्हारा
Ram Krishan Rastogi
सावन में घिर घिर घटाएं,
सावन में घिर घिर घटाएं,
Seema gupta,Alwar
🎋🌧️सावन बिन सब सून ❤️‍🔥
🎋🌧️सावन बिन सब सून ❤️‍🔥
डॉ० रोहित कौशिक
बुंदेली दोहा-गर्राट
बुंदेली दोहा-गर्राट
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मेरे राम
मेरे राम
Prakash Chandra
है तो है
है तो है
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
रिश्तों में...
रिश्तों में...
Shubham Pandey (S P)
कविता
कविता
Rambali Mishra
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एक बार बोल क्यों नहीं
एक बार बोल क्यों नहीं
goutam shaw
मित्र दिवस पर आपको, सादर मेरा प्रणाम 🙏
मित्र दिवस पर आपको, सादर मेरा प्रणाम 🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
#सामयिक_रचना
#सामयिक_रचना
*प्रणय प्रभात*
"सुरेंद्र शर्मा, मरे नहीं जिन्दा हैं"
Anand Kumar
तमन्ना उसे प्यार से जीत लाना।
तमन्ना उसे प्यार से जीत लाना।
सत्य कुमार प्रेमी
"लोग"
Dr. Kishan tandon kranti
*बहकाए हैं बिना-पढ़े जो, उनको क्या समझाओगे (हिंदी गजल/गीतिक
*बहकाए हैं बिना-पढ़े जो, उनको क्या समझाओगे (हिंदी गजल/गीतिक
Ravi Prakash
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
भूमि भव्य यह भारत है!
भूमि भव्य यह भारत है!
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
एक ही दिन में पढ़ लोगे
एक ही दिन में पढ़ लोगे
हिमांशु Kulshrestha
गिलहरी
गिलहरी
Kanchan Khanna
ख़ून इंसानियत का
ख़ून इंसानियत का
Dr fauzia Naseem shad
कब तक जीने के लिए कसमे खायें
कब तक जीने के लिए कसमे खायें
पूर्वार्थ
आप लोग अभी से जानवरों की सही पहचान के लिए
आप लोग अभी से जानवरों की सही पहचान के लिए
शेखर सिंह
Loading...