Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Nov 2023 · 1 min read

सब चाहतें हैं तुम्हे…

सब चाहतें हैं तुम्हे…
तुम क्या खाक मुझे चाहोगे….
-Siddharth Gorakhpuri

159 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शक्ति साधना सब करें
शक्ति साधना सब करें
surenderpal vaidya
When compactibility ends, fight beginns
When compactibility ends, fight beginns
Sakshi Tripathi
"लाचार मैं या गुब्बारे वाला"
संजय कुमार संजू
मन के ढलुवा पथ पर अनगिन
मन के ढलुवा पथ पर अनगिन
Rashmi Sanjay
■ आज की ग़ज़ल
■ आज की ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
क्रूरता की हद पार
क्रूरता की हद पार
Mamta Rani
कौन सोचता है
कौन सोचता है
Surinder blackpen
काशी
काशी
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
"पतवार बन"
Dr. Kishan tandon kranti
फिजा में तैर रही है तुम्हारी ही खुशबू।
फिजा में तैर रही है तुम्हारी ही खुशबू।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
💐अज्ञात के प्रति-84💐
💐अज्ञात के प्रति-84💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
विश्व हिन्दी दिवस पर कुछ दोहे :.....
विश्व हिन्दी दिवस पर कुछ दोहे :.....
sushil sarna
ईर्ष्या, द्वेष और तृष्णा
ईर्ष्या, द्वेष और तृष्णा
ओंकार मिश्र
" तिलिस्मी जादूगर "
Dr Meenu Poonia
जुबां पर मत अंगार रख बरसाने के लिए
जुबां पर मत अंगार रख बरसाने के लिए
Anil Mishra Prahari
स्वयं से सवाल
स्वयं से सवाल
Rajesh
प्रेम की साधना (एक सच्ची प्रेमकथा पर आधारित)
प्रेम की साधना (एक सच्ची प्रेमकथा पर आधारित)
दुष्यन्त 'बाबा'
एक पल सुकुन की गहराई
एक पल सुकुन की गहराई
Pratibha Pandey
प्रेरणादायक बाल कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो।
प्रेरणादायक बाल कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो।
Rajesh Kumar Arjun
हिंदू कौन?
हिंदू कौन?
Sanjay ' शून्य'
बुद्ध तुम मेरे हृदय में
बुद्ध तुम मेरे हृदय में
Buddha Prakash
मस्तमौला फ़क़ीर
मस्तमौला फ़क़ीर
Shekhar Chandra Mitra
2992.*पूर्णिका*
2992.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सुबह की नींद सबको प्यारी होती है।
सुबह की नींद सबको प्यारी होती है।
Yogendra Chaturwedi
तेरे दिल में कब आएं हम
तेरे दिल में कब आएं हम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सोशलमीडिया
सोशलमीडिया
लक्ष्मी सिंह
गए थे दिल हल्का करने,
गए थे दिल हल्का करने,
ओसमणी साहू 'ओश'
हर दुआ में
हर दुआ में
Dr fauzia Naseem shad
*नव वर्ष पर सुबह पाँच बजे बधाई * *(हास्य कुंडलिया)*
*नव वर्ष पर सुबह पाँच बजे बधाई * *(हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
रखें बड़े घर में सदा, मधुर सरल व्यवहार।
रखें बड़े घर में सदा, मधुर सरल व्यवहार।
आर.एस. 'प्रीतम'
Loading...