Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Aug 2023 · 1 min read

सब कुछ दुनिया का दुनिया में, जाना सबको छोड़।

सब कुछ दुनिया का दुनिया में, जाना सबको छोड़।
फिर क्यों इतनी जान खपानी, फिर क्यों इतनी होड़ ?
साथ न तेरे कुछ जाएगा, काहे रखता जोड़ ?
धरम-करम कुछ कर ले बंदे, लोभ-मोह-मद छोड़।

© सीमा अग्रवाल

2 Likes · 411 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
पावस की ऐसी रैन सखी
पावस की ऐसी रैन सखी
लक्ष्मी सिंह
मैं कहना भी चाहूं उनसे तो कह नहीं सकता
मैं कहना भी चाहूं उनसे तो कह नहीं सकता
Mr.Aksharjeet
हर बला से दूर रखता,
हर बला से दूर रखता,
Satish Srijan
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
पहाड़ी नदी सी
पहाड़ी नदी सी
Dr.Priya Soni Khare
आजादी की कहानी
आजादी की कहानी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्यार करता हूं और निभाना चाहता हूं
प्यार करता हूं और निभाना चाहता हूं
Er. Sanjay Shrivastava
व्यंग्य आपको सिखलाएगा
व्यंग्य आपको सिखलाएगा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
■ ज़िंदगी में गुस्ताखियां भी होती हैं अक़्सर।
■ ज़िंदगी में गुस्ताखियां भी होती हैं अक़्सर।
*Author प्रणय प्रभात*
ससुराल गेंदा फूल
ससुराल गेंदा फूल
Seema gupta,Alwar
चलना, लड़खड़ाना, गिरना, सम्हलना सब सफर के आयाम है।
चलना, लड़खड़ाना, गिरना, सम्हलना सब सफर के आयाम है।
Sanjay ' शून्य'
उम्मीद नहीं थी
उम्मीद नहीं थी
Surinder blackpen
3183.*पूर्णिका*
3183.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
देश और जनता~
देश और जनता~
दिनेश एल० "जैहिंद"
*दौड़ा लो आया शरद, लिए शीत-व्यवहार【कुंडलिया】*
*दौड़ा लो आया शरद, लिए शीत-व्यवहार【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
रूह की अभिलाषा🙏
रूह की अभिलाषा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बदन खुशबुओं से महकाना छोड़ दे
बदन खुशबुओं से महकाना छोड़ दे
कवि दीपक बवेजा
हिंदी दिवस - विषय - दवा
हिंदी दिवस - विषय - दवा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
#जयहिंद
#जयहिंद
Rashmi Ranjan
ముందుకు సాగిపో..
ముందుకు సాగిపో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
भगतसिंह
भगतसिंह
Shekhar Chandra Mitra
मेरी ख़्वाहिश वफ़ा सुन ले,
मेरी ख़्वाहिश वफ़ा सुन ले,
अनिल अहिरवार"अबीर"
21 उम्र ढ़ल गई
21 उम्र ढ़ल गई
Dr Shweta sood
तुम जिसे झूठ मेरा कहते हो
तुम जिसे झूठ मेरा कहते हो
Shweta Soni
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
AmanTv Editor In Chief
कृष्ण कन्हैया
कृष्ण कन्हैया
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सन्देश खाली
सन्देश खाली
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
भला दिखता मनुष्य
भला दिखता मनुष्य
Dr MusafiR BaithA
Loading...