Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jul 2023 · 2 min read

सफ़ारी सूट

सफारी सूट

पहली तनख्वाह मिलते ही रामलाल ने पिताजी के लिए नया सफारी सूट खरीदा और सीधा पहुँचा स्टेशन रोड पर स्थित उनकी छोटी-सी चाय की दुकान पर। उसने सफारी खरीदने के बाद बचे लगभग 27 हजार रुपये लिफाफे में भरकर रख लिए थे। पहुँचते ही पिताजी के चरण स्पर्श कर बोला, “बापू, ये सफारी आपके लिए। और ये मेरी सेलरी के बचे हुए पैसे।”
आँखें भर आईं श्यामलाल की। इस दिन के लिए उसने पिछले बीस साल से क्या कुछ नहीं किए थे। काश ! उसकी माँ भी ये दिन देख पाती, जो पंद्रह साल पहले ही एक दुर्घटना में गुजर गई थी। छलकने को आतुर आँसुओं को रोकते हुआ बोला, “ये क्या रामा ? मेरे लिए नये सफारी सूट की क्या जरूरत थी ? अपने लिए कुछ ढंग के कपड़े लिए होते। मेरा क्या है मैं तो दुकान पर कुछ भी पहनकर काम चला लेता हूँ। तुम तो स्कूल में टीचर हो गए हो। ढंग के कपड़े तो तुम्हारे पास होने चाहिए। और ये पैसे, बेटा, ये अपने पास ही रखो।”
“नहीं बापू, ये महज सफारी सूट नहीं, मेरा सपना है, जो बचपन से ही देखता था। जब आप कड़ाके की ठंड में भी सुबह – सुबह फटी बनियान और शॉल ओढ़कर दुकान खोलते और देर रात तक उसी हाल में रहते, तो मैं स्कूल आते-जाते अकसर सोचता कि बड़ा होकर जब कमाने लगूंगा, तो सबसे पहले आपके लिए सफारी खरीदूँगा। बाकी के पैसे तो आपके पास ही रहेंगे, मैं आपसे माँग लिया करूंगा।”
बेटे को गले से लगा लिया श्यामलाल ने। आँखों से गंगा-जमुना बहने लगी थीं। दुकान पर बैठे ग्राहक भी पिता-पुत्र की बातें सुनकर भावुक हो उठे थे।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

Language: Hindi
80 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
देख के तुझे कितना सकून मुझे मिलता है
देख के तुझे कितना सकून मुझे मिलता है
Swami Ganganiya
स्वाभिमान
स्वाभिमान
अखिलेश 'अखिल'
यूं ही कह दिया
यूं ही कह दिया
Koमल कुmari
ମଣିଷ ଠାରୁ ଅଧିକ
ମଣିଷ ଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
दो शब्द सही
दो शब्द सही
Dr fauzia Naseem shad
ବିଶ୍ୱାସରେ ବିଷ
ବିଶ୍ୱାସରେ ବିଷ
Bidyadhar Mantry
सत्यं शिवम सुंदरम!!
सत्यं शिवम सुंदरम!!
ओनिका सेतिया 'अनु '
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"असलियत"
Dr. Kishan tandon kranti
*दादाजी (बाल कविता)*
*दादाजी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
जब कोई न था तेरा तो बहुत अज़ीज़ थे हम तुझे....
जब कोई न था तेरा तो बहुत अज़ीज़ थे हम तुझे....
पूर्वार्थ
- रिश्तों को में तोड़ चला -
- रिश्तों को में तोड़ चला -
bharat gehlot
जिंदगी में पराया कोई नहीं होता,
जिंदगी में पराया कोई नहीं होता,
नेताम आर सी
भ्रम
भ्रम
Shiva Awasthi
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet kumar Shukla
महाराष्ट्र का नया नाटक
महाराष्ट्र का नया नाटक
*Author प्रणय प्रभात*
नारायणी
नारायणी
Dhriti Mishra
दुनिया से सीखा
दुनिया से सीखा
Surinder blackpen
सीखा दे ना सबक ऐ जिंदगी अब तो, लोग हमको सिर्फ मतलब के लिए या
सीखा दे ना सबक ऐ जिंदगी अब तो, लोग हमको सिर्फ मतलब के लिए या
Rekha khichi
2665.*पूर्णिका*
2665.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)
*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)
Dushyant Kumar
जिसने हर दर्द में मुस्कुराना सीख लिया उस ने जिंदगी को जीना स
जिसने हर दर्द में मुस्कुराना सीख लिया उस ने जिंदगी को जीना स
Swati
आजकल
आजकल
Munish Bhatia
Sari bandisho ko nibha ke dekha,
Sari bandisho ko nibha ke dekha,
Sakshi Tripathi
इतनी बिखर जाती है,
इतनी बिखर जाती है,
शेखर सिंह
बदलती दुनिया
बदलती दुनिया
साहित्य गौरव
"ख़ामोशी"
Pushpraj Anant
आओ मिलकर नया साल मनाये*
आओ मिलकर नया साल मनाये*
Naushaba Suriya
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
नव वर्ष पर सबने लिखा
नव वर्ष पर सबने लिखा
Harminder Kaur
Loading...