Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Mar 2024 · 1 min read

सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते

सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
अगर मंज़िल बड़ी है तो यूं दिल छोटा नहीं करते

किसी को हद दिखानी हो तो पहले क़द बढ़ाओ तुम
ज़मीं से आसमानों पर कभी थूका नहीं करते

बुरी आदत की राहों पर कभी चलना नहीं क्योंकि
ख़ुद अपनी लाश अपने आप को सौंपा नहीं करते

यहीं तो फ़र्क़ होता है बड़ों में और बच्चों में
कभी करने से पहले कुछ भी ये सोचा नहीं करते

उसूलों पे जो चलते हैं उन्हीं में बात ये होती
कभी वादा किया तो फिर उसे तोड़ा नहीं करते

समझदारी इसी में है कि पहले जान लो सब कुछ
बिना गहराई जाने झील में उतरा नहीं करते

जॉनी अहमद ‘क़ैस’

Language: Hindi
35 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
संघर्ष और निर्माण
संघर्ष और निर्माण
नेताम आर सी
वाह रे मेरे समाज
वाह रे मेरे समाज
Dr Manju Saini
*दो स्थितियां*
*दो स्थितियां*
Suryakant Dwivedi
जिन्दगी से भला इतना क्यूँ खौफ़ खाते हैं
जिन्दगी से भला इतना क्यूँ खौफ़ खाते हैं
Shweta Soni
हमारी आजादी हमारा गणतन्त्र : ताल-बेताल / MUSAFIR BAITHA
हमारी आजादी हमारा गणतन्त्र : ताल-बेताल / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
पीड़ाएं सही जाती हैं..
पीड़ाएं सही जाती हैं..
Priya Maithil
देखकर प्यार से मुस्कुराते रहो।
देखकर प्यार से मुस्कुराते रहो।
surenderpal vaidya
उत्तर
उत्तर
Dr.Priya Soni Khare
मन का महाभारत
मन का महाभारत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*आठ माह की अद्वी प्यारी (बाल कविता)*
*आठ माह की अद्वी प्यारी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Micro poem ...
Micro poem ...
sushil sarna
"जुल्मो-सितम"
Dr. Kishan tandon kranti
#अमावसी_ग्रहण
#अमावसी_ग्रहण
*Author प्रणय प्रभात*
खामोश कर्म
खामोश कर्म
Sandeep Pande
💐 *दोहा निवेदन*💐
💐 *दोहा निवेदन*💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
ऐ मोहब्बत तेरा कर्ज़दार हूं मैं।
ऐ मोहब्बत तेरा कर्ज़दार हूं मैं।
Phool gufran
कितना
कितना
Santosh Shrivastava
सांवले मोहन को मेरे वो मोहन, देख लें ना इक दफ़ा
सांवले मोहन को मेरे वो मोहन, देख लें ना इक दफ़ा
The_dk_poetry
एहसास.....
एहसास.....
Harminder Kaur
काग़ज़ ना कोई क़लम,
काग़ज़ ना कोई क़लम,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सांत्वना
सांत्वना
भरत कुमार सोलंकी
3082.*पूर्णिका*
3082.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कविता: सपना
कविता: सपना
Rajesh Kumar Arjun
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
उसकी सुनाई हर कविता
उसकी सुनाई हर कविता
हिमांशु Kulshrestha
नारी जागरूकता
नारी जागरूकता
Kanchan Khanna
गज़ल
गज़ल
करन ''केसरा''
"कुछ तो गुना गुना रही हो"
Lohit Tamta
आहिस्था चल जिंदगी
आहिस्था चल जिंदगी
Rituraj shivem verma
"स्वप्न".........
Kailash singh
Loading...