Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jul 2016 · 1 min read

सपनों सी एक गजल

बता दिया है तेरे दिल को हम चुरायेंगे
जहाँ कहीं भी रहो दूर अब न जाएंगे

कसम हमें है मुहब्बत को हम निभाएंगे
तुम्हारी राह में सौ दीप हम जलाएंगे

चले है साथ तो राहों में गुल खिलाएंगे
तुम्हारी राह से खारों को हम हटाएंगे

डरो नहीं कि ग़मों के ये साये पीछे हैं
अँधेरी रात में तारों सा जगमगाएंगे

कभी बहार कभी बागबाँ ये पूछेगा
तुम्हे जो देख के ये फूल महक जाएंगे

ये चांदनी ये सितारे हमें मिलाएंगे
नहीं है दूर बुलाते हीं जगमगाएंगे

बजेगी बांसुरी घनश्याम नजर आएंगे
बनूँगी राधिके तो कृष्ण मिल हीं जाएंगे

ये रात भीगी सी सपने सुहाने आँखों में
बता कि तू नहीं तो सो भी हम क्या पाएंगे
डा पुष्पा पटेल

1 Like · 3 Comments · 319 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तितली थी मैं
तितली थी मैं
Saraswati Bajpai
मुझे भी लगा था कभी, मर्ज ऐ इश्क़,
मुझे भी लगा था कभी, मर्ज ऐ इश्क़,
डी. के. निवातिया
कीमत बढ़ानी है
कीमत बढ़ानी है
Roopali Sharma
सच में कितना प्यारा था, मेरे नानी का घर...
सच में कितना प्यारा था, मेरे नानी का घर...
Anand Kumar
👌👌👌
👌👌👌
*Author प्रणय प्रभात*
सावन भादों
सावन भादों
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दर्द की धुन
दर्द की धुन
Sangeeta Beniwal
"सफलता"
Dr. Kishan tandon kranti
जीभ का कमाल
जीभ का कमाल
विजय कुमार अग्रवाल
वायरल होने का मतलब है सब जगह आप के ही चर्चे बिखरे पड़े हो।जो
वायरल होने का मतलब है सब जगह आप के ही चर्चे बिखरे पड़े हो।जो
Rj Anand Prajapati
🥀✍अज्ञानी की 🥀
🥀✍अज्ञानी की 🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
★अनमोल बादल की कहानी★
★अनमोल बादल की कहानी★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
Neerja Sharma
विश्व कविता दिवस
विश्व कविता दिवस
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
किताब
किताब
Sûrëkhâ Rãthí
घूँघट के पार
घूँघट के पार
लक्ष्मी सिंह
बादल छाये,  नील  गगन में
बादल छाये, नील गगन में
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
3260.*पूर्णिका*
3260.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अब कौन सा रंग बचा साथी
अब कौन सा रंग बचा साथी
Dilip Kumar
Sannato me shor bhar de
Sannato me shor bhar de
Sakshi Tripathi
स्वप्न श्रृंगार
स्वप्न श्रृंगार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
नहीं    माँगूँ  बड़ा   ओहदा,
नहीं माँगूँ बड़ा ओहदा,
Satish Srijan
*शास्त्री जीः एक आदर्श शिक्षक*
*शास्त्री जीः एक आदर्श शिक्षक*
Ravi Prakash
रक्षाबन्धन
रक्षाबन्धन
कार्तिक नितिन शर्मा
माँ की छाया
माँ की छाया
Arti Bhadauria
💐अज्ञात के प्रति-65💐
💐अज्ञात के प्रति-65💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दोहे-*
दोहे-*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
क्रोधी सदा भूत में जीता
क्रोधी सदा भूत में जीता
महेश चन्द्र त्रिपाठी
* पत्ते झड़ते जा रहे *
* पत्ते झड़ते जा रहे *
surenderpal vaidya
Loading...