Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Mar 2019 · 1 min read

सपनों में जीवित हो दादी #100 शब्दों की कहानी#

“दादी भले ही, तुम इस दुनिया में नहीं हो”, लेकिन कैसे अपने जीवनकाल में हर कदम पर संघर्ष कर, पांचों बच्चों की परवरिश पूरी हिम्मत के साथ स्वयं ही कुशलतापूर्वक की है, इस परिश्रम प्रेम-स्नेह को आपके, सदा ही मैंने प्रेरणार्थक संजीवनी बना यादगार रूप में जीवित रखा है । आपकी बचपन में सुनाई हुईं, ढेर सारी प्रेरणास्पद कहानियों में पूतना और नटखट कान्हा की अठखेलियां, आज भी मेरे सपने में हलचल करती हैं…आप यूं ही मेरे सपनों में जीवित हो, दादी हमेशा के लिए ।

Language: Hindi
3 Likes · 2 Comments · 411 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Aarti Ayachit
View all
You may also like:
हे परम पिता !
हे परम पिता !
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
2983.*पूर्णिका*
2983.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हम तेरे शरण में आए है।
हम तेरे शरण में आए है।
Buddha Prakash
शीर्षक : बरसात के दिनों में (हिन्दी)
शीर्षक : बरसात के दिनों में (हिन्दी)
Neeraj Agarwal
जरूरत
जरूरत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
#सामयिक ग़ज़ल
#सामयिक ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
मैं अचानक चुप हो जाती हूँ
मैं अचानक चुप हो जाती हूँ
ruby kumari
आगी में दहेज के
आगी में दहेज के
Shekhar Chandra Mitra
दोस्ती
दोस्ती
लक्ष्मी सिंह
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*गणतंत्र (कुंडलिया)*
*गणतंत्र (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
घर में यदि हम शेर बन के रहते हैं तो बीबी दुर्गा बनकर रहेगी औ
घर में यदि हम शेर बन के रहते हैं तो बीबी दुर्गा बनकर रहेगी औ
Ranjeet kumar patre
मजबूरियों से ज़िन्दा रहा,शौक में मारा गया
मजबूरियों से ज़िन्दा रहा,शौक में मारा गया
पूर्वार्थ
मेरे जज़्बात को चिराग कहने लगे
मेरे जज़्बात को चिराग कहने लगे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
जाति जनगणना
जाति जनगणना
मनोज कर्ण
घड़ियाली आँसू
घड़ियाली आँसू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हर सुबह उठकर अपने सपनों का पीछा करना ही हमारा वास्तविक प्रेम
हर सुबह उठकर अपने सपनों का पीछा करना ही हमारा वास्तविक प्रेम
Shubham Pandey (S P)
होली
होली
Madhavi Srivastava
चींटी रानी
चींटी रानी
Dr Archana Gupta
जीवन की
जीवन की
Dr fauzia Naseem shad
मैं नहीं तो, मेरा अंश ,काम मेरा यह करेगा
मैं नहीं तो, मेरा अंश ,काम मेरा यह करेगा
gurudeenverma198
एक पीर उठी थी मन में, फिर भी मैं चीख ना पाया ।
एक पीर उठी थी मन में, फिर भी मैं चीख ना पाया ।
आचार्य वृन्दान्त
शे’र/ MUSAFIR BAITHA
शे’र/ MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
!! उमंग !!
!! उमंग !!
Akash Yadav
आदमी को आदमी से
आदमी को आदमी से
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
इतनी जल्दी दुनियां की
इतनी जल्दी दुनियां की
नेताम आर सी
खुशियों को समेटता इंसान
खुशियों को समेटता इंसान
Harminder Kaur
रिशतों का उचित मुल्य 🌹🌹❤️🙏❤️
रिशतों का उचित मुल्य 🌹🌹❤️🙏❤️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
चँचल हिरनी
चँचल हिरनी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...