Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Sep 2016 · 1 min read

सपनों के महल को अपना घर बता रहे हैं

क्या खो रहे है क्या पा रहे है
अनजानी सी होड मे बस दौडे जा रहे है
जो मिल गया वो मुक्कद्दर
नही तो बद किस्मती बता रहे है
सपनों के महल को अपना घर बता रहे हैं
क्या खो रहे है ..क्या पा रहे हैं

Language: Hindi
Tag: शेर
250 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from NIRA Rani
View all
You may also like:
हिन्दी दोहा-पत्नी
हिन्दी दोहा-पत्नी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सदा सदाबहार हिंदी
सदा सदाबहार हिंदी
goutam shaw
आधुनिक भारत के कारीगर
आधुनिक भारत के कारीगर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
स्वतंत्र नारी
स्वतंत्र नारी
Manju Singh
*पढ़ो जब भी कहानी, वीरता-साहस की ही पढ़ना (मुक्तक)*
*पढ़ो जब भी कहानी, वीरता-साहस की ही पढ़ना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
ऐसा कहते हैं सब मुझसे
ऐसा कहते हैं सब मुझसे
gurudeenverma198
जीतेंगे हम, हारेगा कोरोना
जीतेंगे हम, हारेगा कोरोना
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आ भी जाओ
आ भी जाओ
Surinder blackpen
बचपन के पल
बचपन के पल
Soni Gupta
ऐतबार कर बैठा
ऐतबार कर बैठा
Naseeb Jinagal Koslia नसीब जीनागल कोसलिया
"ङ से मत लेना पङ्गा"
Dr. Kishan tandon kranti
राखी (कुण्डलिया)
राखी (कुण्डलिया)
नाथ सोनांचली
विवशता
विवशता
आशा शैली
* प्यार की बातें *
* प्यार की बातें *
surenderpal vaidya
" अलबेले से गाँव है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
दिल से दिलदार को मिलते हुए देखे हैं बहुत
दिल से दिलदार को मिलते हुए देखे हैं बहुत
Sarfaraz Ahmed Aasee
■ मुक्तक
■ मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
करो खुद पर यकीं
करो खुद पर यकीं
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
कशमें मेरे नाम की।
कशमें मेरे नाम की।
Diwakar Mahto
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
Sanjay ' शून्य'
When you become conscious of the nature of God in you, your
When you become conscious of the nature of God in you, your
पूर्वार्थ
अपने मन मंदिर में, मुझे रखना, मेरे मन मंदिर में सिर्फ़ तुम रहना…
अपने मन मंदिर में, मुझे रखना, मेरे मन मंदिर में सिर्फ़ तुम रहना…
Anand Kumar
शिमले दी राहें
शिमले दी राहें
Satish Srijan
।। सुविचार ।।
।। सुविचार ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
फुटपाथ
फुटपाथ
Prakash Chandra
मुश्किल में जो देख किसी को, बनता उसकी ढाल।
मुश्किल में जो देख किसी को, बनता उसकी ढाल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
********* हो गया चाँद बासी ********
********* हो गया चाँद बासी ********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अहमियत
अहमियत
Dushyant Kumar
मैं गहरा दर्द हूँ
मैं गहरा दर्द हूँ
'अशांत' शेखर
स्थाई- कहो सुनो और गुनों
स्थाई- कहो सुनो और गुनों
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...