Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 1 min read

सपनों का राजकुमार

सपनों का राजकुमार

“मेरी प्यारी-सी परी बिटिया, अच्छे-से दूध-रोटी खाएगी, तो जल्दी ही बड़ी हो जाएगी। फिर एक दिन उसके सपनों का राजकुमार आएगा और उसे अपने साथ ले जाएगा। फिर हमारी परी बिटिया उसके महल में महारानी की तरह राज करेगी।” अपनी नौ वर्षीया बेटी को प्यार से खाना खिलाती हुई उसकी माँ बोली।
“ना बहु ना। तुम भी जानती हो और मैं भी जानती हूँ कि ऐसा कोई भी राजकुमार न कभी आया है, न कभी आएगा। हमारी परी बिटिया अच्छे-से दूध-रोटी खाएगी, खूब पढ़-लिखकर आत्मनिर्भर बनेगी। फिर तो इसके सामने राजकुमारों की लाइन लग जाएगी। इसलिए फर्स्ट प्रायोरिटी हेल्थ और कैरियर।” परी की दादी माँ बोली।
-डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

79 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
पिला रही हो दूध क्यों,
पिला रही हो दूध क्यों,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
भावुक हुए बहुत दिन हो गए
भावुक हुए बहुत दिन हो गए
Suryakant Dwivedi
*सत्य  विजय  का पर्व मनाया*
*सत्य विजय का पर्व मनाया*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तेरी चाहत हमारी फितरत
तेरी चाहत हमारी फितरत
Dr. Man Mohan Krishna
राशिफल
राशिफल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
डिगरी नाहीं देखाएंगे
डिगरी नाहीं देखाएंगे
Shekhar Chandra Mitra
चाहो जिसे चाहो तो बेलौस होके चाहो
चाहो जिसे चाहो तो बेलौस होके चाहो
shabina. Naaz
गणपति अभिनंदन
गणपति अभिनंदन
Shyam Sundar Subramanian
कियो खंड काव्य लिखैत रहताह,
कियो खंड काव्य लिखैत रहताह,
DrLakshman Jha Parimal
मैंने तो बस उसे याद किया,
मैंने तो बस उसे याद किया,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
SuNo...
SuNo...
Vishal babu (vishu)
कड़वा है मगर सच है
कड़वा है मगर सच है
Adha Deshwal
चन्द्रमा
चन्द्रमा
Dinesh Kumar Gangwar
खुशियाँ
खुशियाँ
Dr Shelly Jaggi
माँ भारती वंदन
माँ भारती वंदन
Kanchan Khanna
फसल , फासला और फैसला तभी सफल है अगर इसमें मेहनत हो।।
फसल , फासला और फैसला तभी सफल है अगर इसमें मेहनत हो।।
डॉ० रोहित कौशिक
बघेली कविता -
बघेली कविता -
Priyanshu Kushwaha
ऐ वसुत्व अर्ज किया है....
ऐ वसुत्व अर्ज किया है....
प्रेमदास वसु सुरेखा
"एक कदम"
Dr. Kishan tandon kranti
रास्तो के पार जाना है
रास्तो के पार जाना है
Vaishaligoel
वक्त यदि गुजर जाए तो 🧭
वक्त यदि गुजर जाए तो 🧭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कैसा विकास और किसका विकास !
कैसा विकास और किसका विकास !
ओनिका सेतिया 'अनु '
कुछ बातें पुरानी
कुछ बातें पुरानी
PRATIK JANGID
पीड़ा थकान से ज्यादा अपमान दिया करता है ।
पीड़ा थकान से ज्यादा अपमान दिया करता है ।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
*।। मित्रता और सुदामा की दरिद्रता।।*
*।। मित्रता और सुदामा की दरिद्रता।।*
Radhakishan R. Mundhra
'एकला चल'
'एकला चल'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
आप लोग अभी से जानवरों की सही पहचान के लिए
आप लोग अभी से जानवरों की सही पहचान के लिए
शेखर सिंह
Loading...