Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

सपने सजाने लगा आजकल हूँ

सपने सजाने लगा आजकल हूँ
मिलने मिलाने लगा आज कल हूँ
हुयी शख्शियत उनकी मुझ पर हाबी
खुद को भुलाने लगा आजकल हूँ

इधर तन्हा मैं था उधर तुम अकेले
किस्मत ,समय ने क्या खेल खेले
गीत ग़ज़लों की गंगा तुमसे ही पाई
गीत ग़ज़लों को गाने लगा आजकल हूँ

जिधर देखता हूँ उधर तू मिला है
ये रंगीनियों का गज़ब सिलसिला है
नाज क्यों ना मुझे अपने जीवन पर हो
तुमसे रब को पाने लगा आजकल हूँ

मदन मोहन सक्सेना

Language: Hindi
Tag: गीत
233 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मसरूफियत बढ़ गई है
मसरूफियत बढ़ गई है
Harminder Kaur
पत्नी की खोज
पत्नी की खोज
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
जीने का हक़!
जीने का हक़!
कविता झा ‘गीत’
जिदंगी भी साथ छोड़ देती हैं,
जिदंगी भी साथ छोड़ देती हैं,
Umender kumar
हसीनाओं से कभी भूलकर भी दिल मत लगाना
हसीनाओं से कभी भूलकर भी दिल मत लगाना
gurudeenverma198
माँ दया तेरी जिस पर होती
माँ दया तेरी जिस पर होती
Basant Bhagawan Roy
इश्क़ कर लूं में किसी से वो वफादार कहा।
इश्क़ कर लूं में किसी से वो वफादार कहा।
Phool gufran
बसंती हवा
बसंती हवा
Arvina
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
Anand Kumar
चेहरे के भाव
चेहरे के भाव
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
अनुराग
अनुराग
Bodhisatva kastooriya
अपनी वाणी से :
अपनी वाणी से :
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
काश कभी ऐसा हो पाता
काश कभी ऐसा हो पाता
Rajeev Dutta
इंतहा
इंतहा
Kanchan Khanna
प्यार,इश्क ही इँसा की रौनक है
प्यार,इश्क ही इँसा की रौनक है
'अशांत' शेखर
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कितनी प्यारी प्रकृति
कितनी प्यारी प्रकृति
जगदीश लववंशी
पता नहीं कब लौटे कोई,
पता नहीं कब लौटे कोई,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
कब तक जीने के लिए कसमे खायें
कब तक जीने के लिए कसमे खायें
पूर्वार्थ
बड़ी मछली सड़ी मछली
बड़ी मछली सड़ी मछली
Dr MusafiR BaithA
इल्म हुआ जब इश्क का,
इल्म हुआ जब इश्क का,
sushil sarna
*याद है  हमको हमारा  जमाना*
*याद है हमको हमारा जमाना*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*दौड़ा लो आया शरद, लिए शीत-व्यवहार【कुंडलिया】*
*दौड़ा लो आया शरद, लिए शीत-व्यवहार【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
ऊपर चढ़ता देख तुम्हें, मुमकिन मेरा खुश हो जाना।
ऊपर चढ़ता देख तुम्हें, मुमकिन मेरा खुश हो जाना।
सत्य कुमार प्रेमी
रेत पर मकान बना ही नही
रेत पर मकान बना ही नही
कवि दीपक बवेजा
■ ढीठ कहीं के ..
■ ढीठ कहीं के ..
*Author प्रणय प्रभात*
फूक मार कर आग जलाते है,
फूक मार कर आग जलाते है,
Buddha Prakash
!! दो अश्क़ !!
!! दो अश्क़ !!
Chunnu Lal Gupta
स्कूल चलो
स्कूल चलो
Dr. Pradeep Kumar Sharma
धर्मराज
धर्मराज
Vijay Nagar
Loading...