Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jan 2024 · 1 min read

सदियों से जो संघर्ष हुआ अनवरत आज वह रंग लाई।

सदियों से जो संघर्ष हुआ अनवरत आज वह रंग लाई।
लो हुई प्रतिक्षा पूरी श्री राघव सिय संग लखन भाई।।
आ रहे अयोध्या रामराज्य का सपना फिर साकार हुआ।
सोया भारत फिर जाग रहा ले रहा सनातन अंगड़ाई।।
🌹जय श्री राम🌹

1 Like · 172 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मन्दिर में है प्राण प्रतिष्ठा , न्यौता सबका आने को...
मन्दिर में है प्राण प्रतिष्ठा , न्यौता सबका आने को...
Shubham Pandey (S P)
रिश्तो की कच्ची डोर
रिश्तो की कच्ची डोर
Harminder Kaur
खुद ही परेशान हूँ मैं, अपने हाल-ऐ-मज़बूरी से
खुद ही परेशान हूँ मैं, अपने हाल-ऐ-मज़बूरी से
डी. के. निवातिया
मेरे जाने के बाद ,....
मेरे जाने के बाद ,....
ओनिका सेतिया 'अनु '
धोखा
धोखा
Paras Nath Jha
नींद कि नजर
नींद कि नजर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
उजाले को वही कीमत करेगा
उजाले को वही कीमत करेगा
पूर्वार्थ
पुरखों की याद🙏🙏
पुरखों की याद🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मुस्कुराते रहे
मुस्कुराते रहे
Dr. Sunita Singh
गृहस्थ-योगियों की आत्मा में बसे हैं गुरु गोरखनाथ
गृहस्थ-योगियों की आत्मा में बसे हैं गुरु गोरखनाथ
कवि रमेशराज
करे ज़ुदा बातें हरपल जो, मानव वो दीवाना है।
करे ज़ुदा बातें हरपल जो, मानव वो दीवाना है।
आर.एस. 'प्रीतम'
प्रकृति
प्रकृति
Mangilal 713
3276.*पूर्णिका*
3276.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक नज़र से ही मौहब्बत का इंतेखाब हो गया।
एक नज़र से ही मौहब्बत का इंतेखाब हो गया।
Phool gufran
फागुन की अंगड़ाई
फागुन की अंगड़ाई
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
दीप प्रज्ज्वलित करते, वे  शुभ दिन है आज।
दीप प्रज्ज्वलित करते, वे शुभ दिन है आज।
Anil chobisa
कली को खिलने दो
कली को खिलने दो
Ghanshyam Poddar
"कभी मेरा ज़िक्र छीड़े"
Lohit Tamta
हमने देखा है हिमालय को टूटते
हमने देखा है हिमालय को टूटते
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तुझसे रिश्ता
तुझसे रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
कल्पित एक भोर पे आस टिकी थी, जिसकी ओस में तरुण कोपल जीवंत हुए।
कल्पित एक भोर पे आस टिकी थी, जिसकी ओस में तरुण कोपल जीवंत हुए।
Manisha Manjari
संवेदनशील होना किसी भी व्यक्ति के जीवन का महान गुण है।
संवेदनशील होना किसी भी व्यक्ति के जीवन का महान गुण है।
Mohan Pandey
शिव हैं शोभायमान
शिव हैं शोभायमान
surenderpal vaidya
समय
समय
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हक जता तो दू
हक जता तो दू
Swami Ganganiya
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*जब से हुआ चिकनगुनिया है, नर्क समझ लो आया (हिंदी गजल)*
*जब से हुआ चिकनगुनिया है, नर्क समझ लो आया (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
👩‍🌾कृषि दिवस👨‍🌾
👩‍🌾कृषि दिवस👨‍🌾
Dr. Vaishali Verma
नयनों मे प्रेम
नयनों मे प्रेम
Kavita Chouhan
आप चाहे जितने भी बड़े पद पर क्यों न बैठे हों, अगर पद के अनुर
आप चाहे जितने भी बड़े पद पर क्यों न बैठे हों, अगर पद के अनुर
Anand Kumar
Loading...