Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Oct 2023 · 1 min read

सत्साहित्य कहा जाता है ज्ञानराशि का संचित कोष।

सत्साहित्य कहा जाता है ज्ञानराशि का संचित कोष।
जो हममें भरता रहता है नव्य प्रेरणा नूतन जोश।।
सत्यं शिवं सुन्दरं को ही कहते हैं हम सत्साहित्य ,
सतत अध्ययन अनुशीलन से दूर भगाएँ अपने दोष।।

© महेश चन्द्र त्रिपाठी

229 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महेश चन्द्र त्रिपाठी
View all
You may also like:
इश्क  के बीज बचपन जो बोए सनम।
इश्क के बीज बचपन जो बोए सनम।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जीवन का सच
जीवन का सच
Neeraj Agarwal
कभी हमको भी याद कर लिया करो
कभी हमको भी याद कर लिया करो
gurudeenverma198
खिन्न हृदय
खिन्न हृदय
Dr.Pratibha Prakash
सपनों का राजकुमार
सपनों का राजकुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
फिर क्यूँ मुझे?
फिर क्यूँ मुझे?
Pratibha Pandey
प्रार्थना
प्रार्थना
Dr Archana Gupta
ख़ुदा ने बख़्शी हैं वो ख़ूबियाँ के
ख़ुदा ने बख़्शी हैं वो ख़ूबियाँ के
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कवर नयी है किताब वही पुराना है।
कवर नयी है किताब वही पुराना है।
Manoj Mahato
बुद्धि सबके पास है, चालाकी करनी है या
बुद्धि सबके पास है, चालाकी करनी है या
Shubham Pandey (S P)
यूँ ही नही लुभाता,
यूँ ही नही लुभाता,
हिमांशु Kulshrestha
जय श्री राम
जय श्री राम
Neha
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
मेरे भईया
मेरे भईया
Dr fauzia Naseem shad
आफत की बारिश
आफत की बारिश
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
यादों का थैला लेकर चले है
यादों का थैला लेकर चले है
Harminder Kaur
नारायणी
नारायणी
Dhriti Mishra
परेशान देख भी चुपचाप रह लेती है
परेशान देख भी चुपचाप रह लेती है
Keshav kishor Kumar
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
पहली दस्तक
पहली दस्तक
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
मंजिलें भी दर्द देती हैं
मंजिलें भी दर्द देती हैं
Dr. Kishan tandon kranti
उठो द्रोपदी....!!!
उठो द्रोपदी....!!!
Neelam Sharma
ਤਰੀਕੇ ਹੋਰ ਵੀ ਨੇ
ਤਰੀਕੇ ਹੋਰ ਵੀ ਨੇ
Surinder blackpen
अंतरंग प्रेम
अंतरंग प्रेम
Paras Nath Jha
समय गुंगा नाही बस मौन हैं,
समय गुंगा नाही बस मौन हैं,
Sampada
पुरानी ज़ंजीर
पुरानी ज़ंजीर
Shekhar Chandra Mitra
प्रियवर
प्रियवर
लक्ष्मी सिंह
पिता का बेटी को पत्र
पिता का बेटी को पत्र
प्रीतम श्रावस्तवी
समाज के बदलते स्वरूप में आप निवेशक, उत्पादक, वितरक, विक्रेता
समाज के बदलते स्वरूप में आप निवेशक, उत्पादक, वितरक, विक्रेता
Sanjay ' शून्य'
Loading...