Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Mar 2019 · 1 min read

सत्य

सदा विजय हो सत्य की, हो असत्य की हार।
रहे तनिक भी भय नहीं, साहस जिसके द्वार।।

पाप तिमिर सब मिट गया, फैला सत्य प्रकाश।
आततायी प्रकृति का, करके समूल नाश।।

सत्य राह छोड़े नहीं, पड़े समय का फेर।
सत्य कभी छुपता नहीं, लगता थोड़ा देर।।

सत्य कर्म पर जो अडिग,रखता मन विश्वास।
वह जग में यश कीर्ति से, लिख जाता इतिहास।।

मौन सत्य का द्वार है, दीप्तिमान-सा भोर।
फेके जो लम्बी यहाँ, कर देता है बोर।।

रंग सत्य का एक है,झूठे रंग हज़ार।
तो फिर भाये क्यों नहीं ,झूठों का व्यापार।।

इस कलयुग में झूठ को, करते सब स्वीकार।
अब हर पल हर मोड़ पर,होता सत्य शिकार।।

सत्य बचा है नाम का,बहुत अधिक है झूठ।
धर्म-कर्म को त्याग कर,मनुज बना है ठूठ।।

-लक्ष्मी सिंह

Language: Hindi
221 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
*हे!शारदे*
*हे!शारदे*
Dushyant Kumar
रंग उकेरे तूलिका,
रंग उकेरे तूलिका,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
किसी का प्यार मिल जाए ज़ुदा दीदार मिल जाए
किसी का प्यार मिल जाए ज़ुदा दीदार मिल जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
सपने जब पलकों से मिलकर नींदें चुराती हैं, मुश्किल ख़्वाबों को भी, हक़ीक़त बनाकर दिखाती हैं।
सपने जब पलकों से मिलकर नींदें चुराती हैं, मुश्किल ख़्वाबों को भी, हक़ीक़त बनाकर दिखाती हैं।
Manisha Manjari
बात बस कोशिशों की है
बात बस कोशिशों की है
Dr fauzia Naseem shad
भोर सुहानी हो गई, खिले जा रहे फूल।
भोर सुहानी हो गई, खिले जा रहे फूल।
surenderpal vaidya
"उड़ान"
Yogendra Chaturwedi
नारी को सदा राखिए संग
नारी को सदा राखिए संग
Ram Krishan Rastogi
अँधेरी गुफाओं में चलो, रौशनी की एक लकीर तो दिखी,
अँधेरी गुफाओं में चलो, रौशनी की एक लकीर तो दिखी,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*मौहब्बत सीख ली हमने, तुम्हारे साथ यारी में (मुक्तक)*
*मौहब्बत सीख ली हमने, तुम्हारे साथ यारी में (मुक्तक)*
Ravi Prakash
कमियाॅं अपनों में नहीं
कमियाॅं अपनों में नहीं
Harminder Kaur
जिनमें बिना किसी विरोध के अपनी गलतियों
जिनमें बिना किसी विरोध के अपनी गलतियों
Paras Nath Jha
जहांँ कुछ भी नहीं दिखता ..!
जहांँ कुछ भी नहीं दिखता ..!
Ranjana Verma
खामोश आवाज़
खामोश आवाज़
Dr. Seema Varma
"सब्र का इम्तिहान लेता है।
*Author प्रणय प्रभात*
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
ख़त पहुंचे भगतसिंह को
ख़त पहुंचे भगतसिंह को
Shekhar Chandra Mitra
जोड़ तोड़ सीखा नही ,सीखा नही विलाप।
जोड़ तोड़ सीखा नही ,सीखा नही विलाप।
manisha
2885.*पूर्णिका*
2885.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फकीरी/दीवानों की हस्ती
फकीरी/दीवानों की हस्ती
लक्ष्मी सिंह
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
7…अमृत ध्वनि छन्द
7…अमृत ध्वनि छन्द
Rambali Mishra
नेता जब से बोलने लगे सच
नेता जब से बोलने लगे सच
Dhirendra Singh
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
🥰 होली पर कुछ लेख 🥰
🥰 होली पर कुछ लेख 🥰
Swati
शब्द उनके बहुत नुकीले हैं
शब्द उनके बहुत नुकीले हैं
Dr Archana Gupta
प्रणय 7
प्रणय 7
Ankita Patel
Writing Challenge- समय (Time)
Writing Challenge- समय (Time)
Sahityapedia
" हम तो हारे बैठे हैं "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
क्या ऐसी स्त्री से…
क्या ऐसी स्त्री से…
Rekha Drolia
Loading...