Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2016 · 1 min read

सत्य

सत्य की खोज में
निकल आया था सागर के पार
जाने कितने पथ और मेरे पाँव
उन पर मिले झरनो की अविरल धार
मेरी चेतना में सिमटी हुई असंख्य झाँकीया
जो पदार्पण कर चुकी है निशा के इन पलो में,मेरे नयनो के समीप
अनन्त पर चलते-चलते
वृत्ति नहीं बदलती परन्तु मेरी
जीवन का हर पड़ाव यात्रा को पुकारता है
आभासो से चैतन्य सत्य को निहारता है
यही यात्रा का मंतव्य
जीवन का अटल सत्य है
यात्री तेरी यात्रा तो बस इतनी है
तेरे शरीर में श्वास जितनी है

Language: Hindi
3 Likes · 1 Comment · 1052 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उनकी महफ़िल में मेरी हालात-ए-जिक्र होने लगी
उनकी महफ़िल में मेरी हालात-ए-जिक्र होने लगी
'अशांत' शेखर
बनारस की धारों में बसी एक ख़ुशबू है,
बनारस की धारों में बसी एक ख़ुशबू है,
Sahil Ahmad
दोस्ती
दोस्ती
Kanchan Alok Malu
*** लम्हा.....!!! ***
*** लम्हा.....!!! ***
VEDANTA PATEL
--जो फेमस होता है, वो रूखसत हो जाता है --
--जो फेमस होता है, वो रूखसत हो जाता है --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
रात बदरिया...
रात बदरिया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कविता: जर्जर विद्यालय भवन की पीड़ा
कविता: जर्जर विद्यालय भवन की पीड़ा
Rajesh Kumar Arjun
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
Sanjay ' शून्य'
"जियो जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
// दोहा पहेली //
// दोहा पहेली //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
श्री राम का जीवन– गीत
श्री राम का जीवन– गीत
Abhishek Soni
2847.*पूर्णिका*
2847.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पिता
पिता
विजय कुमार अग्रवाल
पर्वत 🏔️⛰️
पर्वत 🏔️⛰️
डॉ० रोहित कौशिक
बिन शादी के रह कर, संत-फकीरा कहा सुखी हो पायें।
बिन शादी के रह कर, संत-फकीरा कहा सुखी हो पायें।
Anil chobisa
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
Er. Sanjay Shrivastava
वेतन की चाहत लिए एक श्रमिक।
वेतन की चाहत लिए एक श्रमिक।
Rj Anand Prajapati
"अगली राखी आऊंगा"
Lohit Tamta
ईश्वर की कृपा
ईश्वर की कृपा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
इतना तो करम है कि मुझे याद नहीं है
इतना तो करम है कि मुझे याद नहीं है
Shweta Soni
Hum tumhari giraft se khud ko azad kaise kar le,
Hum tumhari giraft se khud ko azad kaise kar le,
Sakshi Tripathi
फागुन की अंगड़ाई
फागुन की अंगड़ाई
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
जंग तो दिमाग से जीती जा सकती है......
जंग तो दिमाग से जीती जा सकती है......
shabina. Naaz
मां सिद्धिदात्री
मां सिद्धिदात्री
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सरिए से बनाई मोहक कलाकृतियां……..
सरिए से बनाई मोहक कलाकृतियां……..
Nasib Sabharwal
बिंदी
बिंदी
Satish Srijan
*नए वर्ष में स्वस्थ सभी हों, धन-मन से खुशहाल (गीत)*
*नए वर्ष में स्वस्थ सभी हों, धन-मन से खुशहाल (गीत)*
Ravi Prakash
Rebel
Rebel
Shekhar Chandra Mitra
बेड़ियाँ
बेड़ियाँ
Shaily
जाने कब दुनियां के वासी चैन से रह पाएंगे।
जाने कब दुनियां के वासी चैन से रह पाएंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...