Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Mar 2024 · 1 min read

सत्य से विलग न ईश्वर है

सत्य से विलग न ईश्वर है,
सत्य ही तो परमेश्वर है।
सत्य तो सत्य नारायण है,
वही तो अविनाशी अक्षर हैं।

सत्य आदि है सत्य अन्त है ,
सत्य विभु और दिग-दिगंत है।
सत्य सतत जीवन दर्शन है ,
ऋतुओं में भी वह वसंत है।

सत्य निरंजन, निराकार है,
कामना रहित निर्विकार है ।
खुल जाती जब अंतः दृष्टि,
तब होता सत्य साकार है ।

वह तो अकल,अनीह, अभेद है ,
वह गुणातीत और वेद है ।
मिलता है वह सदा उसी को ,
मन होता जिसका अभेद है ।

सत्य दया, प्रेम, करुणा है,
मानवता इसका गहना है।
जिसे यह बात समझ नहीं आती,
उसे संताप सतत सहना है।

सत्य खोज नहीं अनुभूति है,
जीवन की एक विभूति है।
हो जाता साक्षात्कार जिसे ,
उसे तो मिल जाता मोती है।

सत्य , सत्य है ; जग असत्य है,
सत्य असत्य में सत्य विभक्त है।
ये दोनों हीं अन्योन्याश्रित,
वेदान्त में यही सत्य व्यक्त है।

उदय नारायण सिंह
मुजफ्फरपुर, बिहार
6200154322

5 Likes · 2 Comments · 43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राखी की यह डोर।
राखी की यह डोर।
Anil Mishra Prahari
ज़िंदगी एक जाम है
ज़िंदगी एक जाम है
Shekhar Chandra Mitra
चाहते हैं हम यह
चाहते हैं हम यह
gurudeenverma198
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
खींचो यश की लम्बी रेख।
खींचो यश की लम्बी रेख।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
छोटी सी प्रेम कहानी
छोटी सी प्रेम कहानी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"लाठी"
Dr. Kishan tandon kranti
कर्म कांड से बचते बचाते.
कर्म कांड से बचते बचाते.
Mahender Singh
आवश्यक मतदान है
आवश्यक मतदान है
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
खिड़कियाँ -- कुछ खुलीं हैं अब भी - कुछ बरसों से बंद हैं
खिड़कियाँ -- कुछ खुलीं हैं अब भी - कुछ बरसों से बंद हैं
Atul "Krishn"
औरों की खुशी के लिए ।
औरों की खुशी के लिए ।
Buddha Prakash
* straight words *
* straight words *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सावन का महीना है भरतार
सावन का महीना है भरतार
Ram Krishan Rastogi
दास्ताने-कुर्ता पैजामा [ व्यंग्य ]
दास्ताने-कुर्ता पैजामा [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
दुआ किसी को अगर देती है
दुआ किसी को अगर देती है
प्रेमदास वसु सुरेखा
"" *महात्मा गाँधी* ""
सुनीलानंद महंत
मां
मां
Sûrëkhâ
सफलता मिलना कब पक्का हो जाता है।
सफलता मिलना कब पक्का हो जाता है।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
हो भविष्य में जो होना हो, डर की डर से क्यूं ही डरूं मैं।
हो भविष्य में जो होना हो, डर की डर से क्यूं ही डरूं मैं।
Sanjay ' शून्य'
इस जग में हैं हम सब साथी
इस जग में हैं हम सब साथी
Suryakant Dwivedi
मेरे पास फ़ुरसत ही नहीं है.... नफरत करने की..
मेरे पास फ़ुरसत ही नहीं है.... नफरत करने की..
shabina. Naaz
कोई कैसे ही कह दे की आजा़द हूं मैं,
कोई कैसे ही कह दे की आजा़द हूं मैं,
manjula chauhan
छपास रोग की खुजलम खुजलई
छपास रोग की खुजलम खुजलई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैं बिल्कुल आम-सा बंदा हूँ...!!
मैं बिल्कुल आम-सा बंदा हूँ...!!
Ravi Betulwala
होली का त्यौहार
होली का त्यौहार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
सुखी होने में,
सुखी होने में,
Sangeeta Beniwal
2455.पूर्णिका
2455.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
■ सार संक्षेप...
■ सार संक्षेप...
*प्रणय प्रभात*
मेरी लाज है तेरे हाथ
मेरी लाज है तेरे हाथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*घुटन बहुत है बरसो बादल(हिंदी गजल/गीतिका)*
*घुटन बहुत है बरसो बादल(हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
Loading...