Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Apr 2018 · 1 min read

सत्य जीवन का

गीतिका…!
————-
सत्य जीवन का
-०-०-०-०-०-०-०-
(आधार छंद चौपाई , समांत आना, अपदांत )
०००००
आता जब उसका परवाना ।
चलता कोई नहीं बहाना ।।
*
पात डाल से जैसे टूटे ।
ऎसे ही सबको झर जाना ।।
*
ओस बिन्दु सा जीवन है ये ।
कुछ पल दमके क्या इतराना ।।
*
रुकते नहीं नयन में आँसू ।
बहुत कठिन इनको पी पाना ।।
*
एक-एक पल बीत रहा है ।
हर पल जीवन हुआ पुराना ।।
*
बिछुड़े मेले में ज्यों कोई ।
ऎसे सबको खोना पाना ।।
*
दागों भरी चुनरिया कोरी ।
मुश्किल इसके दाग छुड़ाना ।।
*
तेल खत्म ‌जल जाती बाती ।
बुझे दीप को कठिन जलाना ।।
*
‘ज्योति’ सरीखा जल जाना है ।
फिर जलने को जग में आना ।।
*
-महेश जैन ‘ज्योति’
***

523 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahesh Jain 'Jyoti'
View all
You may also like:
आप अपनी DP खाली कर सकते हैं
आप अपनी DP खाली कर सकते हैं
ruby kumari
बोट डालणा फरज निभाणा -अरविंद भारद्वाज
बोट डालणा फरज निभाणा -अरविंद भारद्वाज
अरविंद भारद्वाज
बेरोजगारी का दानव
बेरोजगारी का दानव
Anamika Tiwari 'annpurna '
वन को मत काटो
वन को मत काटो
Buddha Prakash
पर्यावरण
पर्यावरण
Neeraj Agarwal
आधा ही सही, कुछ वक्त तो हमनें भी गुजारा है,
आधा ही सही, कुछ वक्त तो हमनें भी गुजारा है,
Niharika Verma
मुझसे गलतियां हों तो अपना समझकर बता देना
मुझसे गलतियां हों तो अपना समझकर बता देना
Sonam Puneet Dubey
फिर भी यह मेरी यह दुहा है
फिर भी यह मेरी यह दुहा है
gurudeenverma198
जीवन में दिन चार मिलें है,
जीवन में दिन चार मिलें है,
Satish Srijan
तिलिस्म
तिलिस्म
Dr. Rajeev Jain
अधूरी रह जाती दस्तान ए इश्क मेरी
अधूरी रह जाती दस्तान ए इश्क मेरी
इंजी. संजय श्रीवास्तव
हमारी योग्यता पर सवाल क्यो १
हमारी योग्यता पर सवाल क्यो १
भरत कुमार सोलंकी
33 लयात्मक हाइकु
33 लयात्मक हाइकु
कवि रमेशराज
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
"बिना योग्यता के"
Dr. Kishan tandon kranti
मुस्कुराते हुए चेहरे से ,
मुस्कुराते हुए चेहरे से ,
Yogendra Chaturwedi
दोय चिड़कली
दोय चिड़कली
Rajdeep Singh Inda
इंतहा
इंतहा
Kanchan Khanna
अधूरा ज्ञान
अधूरा ज्ञान
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
अष्टम् तिथि को प्रगटे, अष्टम् हरि अवतार।
अष्टम् तिथि को प्रगटे, अष्टम् हरि अवतार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Love Letter
Love Letter
Vedha Singh
उसकी इबादत आखिरकार रंग ले ही आई,
उसकी इबादत आखिरकार रंग ले ही आई,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
2847.*पूर्णिका*
2847.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कसौटियों पर कसा गया व्यक्तित्व संपूर्ण होता है।
कसौटियों पर कसा गया व्यक्तित्व संपूर्ण होता है।
Neelam Sharma
मेरी मोहब्बत पाक मोहब्बत
मेरी मोहब्बत पाक मोहब्बत
VINOD CHAUHAN
पलकों से रुसवा हुए, उल्फत के सब ख्वाब ।
पलकों से रुसवा हुए, उल्फत के सब ख्वाब ।
sushil sarna
मेरे जीने की एक वजह
मेरे जीने की एक वजह
Dr fauzia Naseem shad
उपदेशों ही मूर्खाणां प्रकोपेच न च शांतय्
उपदेशों ही मूर्खाणां प्रकोपेच न च शांतय्
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*मुंडी लिपि : बहीखातों की प्राचीन लिपि*
*मुंडी लिपि : बहीखातों की प्राचीन लिपि*
Ravi Prakash
Loading...