Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2024 · 1 min read

सत्य, अहिंसा, त्याग, तप, दान, दया की खान।

सत्य, अहिंसा, त्याग, तप, दान, दया की खान।
इसीलिए संसार में, भारत देश महान ।।
-जगदीश शर्मा सहज

57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
घर को छोड़कर जब परिंदे उड़ जाते हैं,
घर को छोड़कर जब परिंदे उड़ जाते हैं,
शेखर सिंह
विश्व कप लाना फिर एक बार, अग्रिम तुम्हें बधाई है
विश्व कप लाना फिर एक बार, अग्रिम तुम्हें बधाई है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
" वो दौलत "
Dr. Kishan tandon kranti
दुःख, दर्द, द्वन्द्व, अपमान, अश्रु
दुःख, दर्द, द्वन्द्व, अपमान, अश्रु
Shweta Soni
जब भी किसी संस्था में समर्पित व्यक्ति को झूठ और छल के हथियार
जब भी किसी संस्था में समर्पित व्यक्ति को झूठ और छल के हथियार
Sanjay ' शून्य'
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
उनकी आंखो मे बात अलग है
उनकी आंखो मे बात अलग है
Vansh Agarwal
रोशनी से तेरी वहां चांद  रूठा बैठा है
रोशनी से तेरी वहां चांद रूठा बैठा है
Virendra kumar
कि  इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
कि इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
Mamta Rawat
चन्द ख्वाब
चन्द ख्वाब
Kshma Urmila
बेरोजगार लड़के
बेरोजगार लड़के
पूर्वार्थ
तुम मेरा साथ दो
तुम मेरा साथ दो
Surya Barman
जिस्म से रूह को लेने,
जिस्म से रूह को लेने,
Pramila sultan
लहज़ा तेरी नफरत का मुझे सता रहा है,
लहज़ा तेरी नफरत का मुझे सता रहा है,
Ravi Betulwala
वोट की राजनीति
वोट की राजनीति
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बुंदेली दोहा गरे गौ (भाग-2)
बुंदेली दोहा गरे गौ (भाग-2)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चंद सिक्के उम्मीदों के डाल गुल्लक में
चंद सिक्के उम्मीदों के डाल गुल्लक में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"वृद्धाश्रम"
Radhakishan R. Mundhra
"गेंम-वर्ल्ड"
*प्रणय प्रभात*
रिश्ता
रिश्ता
Santosh Shrivastava
किसी अनमोल वस्तु का कोई तो मोल समझेगा
किसी अनमोल वस्तु का कोई तो मोल समझेगा
कवि दीपक बवेजा
*जीवन्त*
*जीवन्त*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
।। लक्ष्य ।।
।। लक्ष्य ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
कोशिश करना आगे बढ़ना
कोशिश करना आगे बढ़ना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
माँ
माँ
Anju
किसी और से इश्क़ दुबारा नहीं होगा
किसी और से इश्क़ दुबारा नहीं होगा
Madhuyanka Raj
दो शे'र ( मतला और इक शे'र )
दो शे'र ( मतला और इक शे'र )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
समय
समय
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
मां महागौरी
मां महागौरी
Mukesh Kumar Sonkar
मजबूरन पैसे के खातिर तन यौवन बिकते देखा।
मजबूरन पैसे के खातिर तन यौवन बिकते देखा।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...