Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Apr 2024 · 2 min read

“सत्य अमर है”

सत्य सीधा है सरल है सुंदर है,
हम सत्य की विजय बताते हैं।
सत्य उन पुराने सिक्को की तरह है,
जिसकी परख जौहरी ही कर पाते हैं।

इस दुनियां वालों से जब जब सत्य कहा,
मेरे अपने ही अपने से कट जाते हैं।
लोग उपवास अन्न का करते हैं,
पर मन मे बुरे विचार और असत्य को घोलते है।

सत्य कड़वा जरूर होता है यारों,
एक बार पी कर देखो यारों।
जो मन मे जहर और मीठा शहद सा बोलते हैं,
उनसे बच के रहना दोस्तो ,वो खंजर ही भोकते हैं।

क्यो जी रहे हो असत्य की सिसकती सासों से,
एक दिन ऐसा आएगा ,जी नही पाओगे घुटती सासों से।
सत्य की राहों में खुद को निसार करके देखो,
मुसीबतों के इन पलों को सँवार के देखो।

सत्य सदा मौन रहता है, असत्य हरदम अड़ा रहता है,
सत्य पर असत्य का प्रहार बहुत पड़ता है।
फिर भी सत्य कभी नही डरता है,
आज झूठों की कालाबाजारी में।

लोग सत्य में असत्य का मिलावट करते हैं,
अपने ही स्वार्थ और लोभ में सच को झूट बताते हैं।
दोस्तो झूठ का व्यापार कितना भी बड़ा हो,
कितने ही साथी हो ,कितनी भी ताकत हो।

पर सत्य की ताकत से एक दिन पराजित हो जाओगे,
सत्य को जान लो ,सच को समझो हे! इंसान।
चंद सांसो की माया है ,क्यों करता हैं गुमान,
सांच को आंच नही सच गुमराह नही होता।

सच्चाई छुपती नही सत्य बेपरवाह नही होता,
सत्य परेशान होता है, पर हारता नही।
सत्य में श्रद्धा, प्रेम विश्वास डूबा है पर कोई जानता नही,
सत्य की खोज में निकलो तो ,गौतम बुद्ध को पाओगे।

सत्य का प्रचार करने निकलो,
तो विवेकानंद कहलाओगे।
मत नाता रखो झूठ से यारों,
हर सवाल अधूरा रह जायेगा।

असत्य की स्याही,से जीवन का पन्ना कोरा रह जायेगा,
उम्मीद की कलम ,गुनाहों में चल जाएगा।
मुख में मीठे बोल है हृदय कपट के भाव,
मानव में अब है नही ,सच सुनने का चाव।

न्यायालय में भी लग रहा,सच्चाई का बोल,
जैसा जैसा दाम है ,वैसे वैसे बोल।
सत्य की साथ चलो सत्य ही अमर है,
सत्य बादलों में छिपा सूरज की तरह है।

जीवन मृत्यु समय का चक्र और तथ्य है,
बस यही सत्य है, बस यही सत्य है।

लेखिका:- एकता श्रीवास्तव✍️
प्रयागराज।

4 Likes · 3 Comments · 70 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ekta chitrangini
View all
You may also like:
■ जिजीविषा : जीवन की दिशा।
■ जिजीविषा : जीवन की दिशा।
*Author प्रणय प्रभात*
हृदय की चोट थी नम आंखों से बह गई
हृदय की चोट थी नम आंखों से बह गई
Er. Sanjay Shrivastava
जरुरी नहीं कि
जरुरी नहीं कि
Sangeeta Beniwal
चुनिंदा बाल कहानियाँ (पुस्तक, बाल कहानी संग्रह)
चुनिंदा बाल कहानियाँ (पुस्तक, बाल कहानी संग्रह)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"संवाद"
Dr. Kishan tandon kranti
तुझे कैसे बताऊं तू कितना खाश है मेरे लिए
तुझे कैसे बताऊं तू कितना खाश है मेरे लिए
yuvraj gautam
कांधा होता हूं
कांधा होता हूं
Dheerja Sharma
'रामबाण' : धार्मिक विकार से चालित मुहावरेदार शब्द / DR. MUSAFIR BAITHA
'रामबाण' : धार्मिक विकार से चालित मुहावरेदार शब्द / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
💐💐नेक्स्ट जेनरेशन💐💐
💐💐नेक्स्ट जेनरेशन💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Nonveg-Love
Nonveg-Love
Ravi Betulwala
तेरी
तेरी
Naushaba Suriya
अपनी वाणी से :
अपनी वाणी से :
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*
*"शिक्षक"*
Shashi kala vyas
2329.पूर्णिका
2329.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ठंडा - वंडा,  काफ़ी - वाफी
ठंडा - वंडा, काफ़ी - वाफी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
........,,?
........,,?
शेखर सिंह
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
इम्तिहान
इम्तिहान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
सूखी नहर
सूखी नहर
मनोज कर्ण
तुझको को खो कर मैंने खुद को पा लिया है।
तुझको को खो कर मैंने खुद को पा लिया है।
Vishvendra arya
यह दुनिया भी बदल डालें
यह दुनिया भी बदल डालें
Dr fauzia Naseem shad
सागर
सागर
नूरफातिमा खातून नूरी
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*आशाओं के दीप*
*आशाओं के दीप*
Harminder Kaur
काश ये मदर्स डे रोज आए ..
काश ये मदर्स डे रोज आए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
Maybe the reason I'm no longer interested in being in love i
Maybe the reason I'm no longer interested in being in love i
पूर्वार्थ
मुझे चाहिए एक दिल
मुझे चाहिए एक दिल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बिन गुनाहों के ही सज़ायाफ्ता है
बिन गुनाहों के ही सज़ायाफ्ता है "रत्न"
गुप्तरत्न
एक तूही दयावान
एक तूही दयावान
Basant Bhagawan Roy
अपनी इबादत पर गुरूर मत करना.......
अपनी इबादत पर गुरूर मत करना.......
shabina. Naaz
Loading...