Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jun 2016 · 1 min read

सजन बन मेघ आओ तुम

1
जलाता सूर्य है हमको जरा घिर मेघ आओ तुम
बहुत प्यासी धरा अपनी , बरस उसको बुझाओ तुम
उदासी की घटायें हैं घिरी हरियाली के मुख पर
सुना संगीत बूंदों का उन्हें थोड़ा हँसाओ तुम

2
विरह ज्वाला जलाती है सजन बन मेघ आओ तुम
सुनाकर प्यार के नगमें अगन दिल की बुझाओ तुम
तुम्हारी याद के झौंके नयन देखो भिगोते हैं
चलाकर आँधियाँ इनकी न अब तूफ़ान लाओ तुम
डॉ अर्चना गुप्ता

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
1 Comment · 311 Views
You may also like:
🍀🌺परमात्मन: अंश: भवति तु स्वरूपे दोषः न🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*तीन शेर*
Ravi Prakash
मेरी हर शय बात करती है
Sandeep Albela
The Deep Ocean
Buddha Prakash
ज़िंदगी पर लिखे शेर
Dr fauzia Naseem shad
तू जाने लगा है
कवि दीपक बवेजा
वनवासी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हक
shabina. Naaz
जाग मछेंदर गोरख आया
Shekhar Chandra Mitra
प्रश्न पूछता है यह बच्चा
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
Why Not Heaven Have Visiting Hours?
Manisha Manjari
भगवान जगन्नाथ रथ यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Writing Challenge- दोस्ती (Friendship)
Sahityapedia
वक़्त और हमारा वर्तमान
मनोज कर्ण
आत्मा बिक रही है ज़मीर बिक रहा है
डी. के. निवातिया
इन अश्कों की।
Taj Mohammad
कांटों में जो फूल.....
Vijay kumar Pandey
विष्णुपद छंद और विधाएँ
Subhash Singhai
दुर्योधन कब मिट पाया :भाग:41
AJAY AMITABH SUMAN
सच होता है कड़वा
gurudeenverma198
हे! दिनकर
पंकज कुमार कर्ण
Advice
Shyam Sundar Subramanian
” REMINISCENCES OF A RED-LETTER DAY “
DrLakshman Jha Parimal
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
एक रात का मुसाफ़िर
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️मैले है किरदार
'अशांत' शेखर
Subject- मां स्वरचित और मौलिक जन्मदायी मां
Dr Meenu Poonia
महाराणा प्रताप
jaswant Lakhara
जिनवानी स्तुती (अभंग )
Ajay Chakwate *अजेय*
#सोच_कर_समझिए-
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...