Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jun 2016 · 1 min read

सजन बन मेघ आओ तुम

1
जलाता सूर्य है हमको जरा घिर मेघ आओ तुम
बहुत प्यासी धरा अपनी , बरस उसको बुझाओ तुम
उदासी की घटायें हैं घिरी हरियाली के मुख पर
सुना संगीत बूंदों का उन्हें थोड़ा हँसाओ तुम

2
विरह ज्वाला जलाती है सजन बन मेघ आओ तुम
सुनाकर प्यार के नगमें अगन दिल की बुझाओ तुम
तुम्हारी याद के झौंके नयन देखो भिगोते हैं
चलाकर आँधियाँ इनकी न अब तूफ़ान लाओ तुम
डॉ अर्चना गुप्ता

Language: Hindi
1 Comment · 438 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
कोशिश करना छोरो मत,
कोशिश करना छोरो मत,
Ranjeet kumar patre
जननी
जननी
Mamta Rani
पुलिस की ट्रेनिंग
पुलिस की ट्रेनिंग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रात अज़ब जो स्वप्न था देखा।।
रात अज़ब जो स्वप्न था देखा।।
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
■ विडंबना-
■ विडंबना-
*Author प्रणय प्रभात*
*क्रुद्ध हुए अध्यात्म-भूमि के, पर्वत प्रश्न उठाते (हिंदी गजल
*क्रुद्ध हुए अध्यात्म-भूमि के, पर्वत प्रश्न उठाते (हिंदी गजल
Ravi Prakash
2773. *पूर्णिका*
2773. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कविता
कविता
Rambali Mishra
..........?
..........?
शेखर सिंह
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
शुभ होली
शुभ होली
Dr Archana Gupta
जल बचाओ , ना बहाओ
जल बचाओ , ना बहाओ
Buddha Prakash
जय माता दी -
जय माता दी -
Raju Gajbhiye
बुद्ध या विनाश
बुद्ध या विनाश
Shekhar Chandra Mitra
Pollution & Mental Health
Pollution & Mental Health
Tushar Jagawat
आहिस्ता आहिस्ता मैं अपने दर्द मे घुलने लगा हूँ ।
आहिस्ता आहिस्ता मैं अपने दर्द मे घुलने लगा हूँ ।
Ashwini sharma
"ओस की बूंद"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मेरे जाने के बाद ,....
मेरे जाने के बाद ,....
ओनिका सेतिया 'अनु '
तुम्हारे बिन कहां मुझको कभी अब चैन आएगा।
तुम्हारे बिन कहां मुझको कभी अब चैन आएगा।
सत्य कुमार प्रेमी
चंद्र ग्रहण के बाद ही, बदलेगी तस्वीर
चंद्र ग्रहण के बाद ही, बदलेगी तस्वीर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तेरा हासिल
तेरा हासिल
Dr fauzia Naseem shad
योग
योग
जगदीश शर्मा सहज
दोहा त्रयी. . .
दोहा त्रयी. . .
sushil sarna
श्री नेता चालीसा (एक व्यंग्य बाण)
श्री नेता चालीसा (एक व्यंग्य बाण)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नारी सौन्दर्य ने
नारी सौन्दर्य ने
Dr. Kishan tandon kranti
फ़ितरत को ज़माने की, ये क्या हो गया है
फ़ितरत को ज़माने की, ये क्या हो गया है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सुनो सखी !
सुनो सखी !
Manju sagar
भुलाया ना जा सकेगा ये प्रेम
भुलाया ना जा सकेगा ये प्रेम
The_dk_poetry
💐प्रेम कौतुक-481💐
💐प्रेम कौतुक-481💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तमाम उम्र काट दी है।
तमाम उम्र काट दी है।
Taj Mohammad
Loading...