Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Aug 2023 · 1 min read

सच तो फूल होते हैं।

सच तो फूल होते हैं।

हम ही नासमझ बनते हैं

1 Like · 243 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बच्चे
बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मिलती नहीं खुशी अब ज़माने पहले जैसे कहीं भी,
मिलती नहीं खुशी अब ज़माने पहले जैसे कहीं भी,
manjula chauhan
धनानि भूमौ पशवश्च गोष्ठे भार्या गृहद्वारि जनः श्मशाने। देहश्
धनानि भूमौ पशवश्च गोष्ठे भार्या गृहद्वारि जनः श्मशाने। देहश्
Satyaveer vaishnav
इंद्रधनुषी प्रेम
इंद्रधनुषी प्रेम
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
"तुम्हें याद करना"
Dr. Kishan tandon kranti
I want my beauty to be my identity
I want my beauty to be my identity
Ankita Patel
सुनती हूँ
सुनती हूँ
Shweta Soni
इश्क़ एक दरिया है डूबने से डर नहीं लगता,
इश्क़ एक दरिया है डूबने से डर नहीं लगता,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*भरोसा हो तो*
*भरोसा हो तो*
नेताम आर सी
*प्राण-प्रतिष्ठा (दोहे)*
*प्राण-प्रतिष्ठा (दोहे)*
Ravi Prakash
गंगा अवतरण
गंगा अवतरण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आफत की बारिश
आफत की बारिश
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
*****देव प्रबोधिनी*****
*****देव प्रबोधिनी*****
Kavita Chouhan
#भूली बिसरी यादे
#भूली बिसरी यादे
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
स्त्री हूं केवल सम्मान चाहिए
स्त्री हूं केवल सम्मान चाहिए
Sonam Puneet Dubey
(8) मैं और तुम (शून्य- सृष्टि )
(8) मैं और तुम (शून्य- सृष्टि )
Kishore Nigam
कई खयालों में...!
कई खयालों में...!
singh kunwar sarvendra vikram
एक दोहा...
एक दोहा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कहने को तो इस जहां में अपने सब हैं ,
कहने को तो इस जहां में अपने सब हैं ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
आज़ादी के दीवानों ने
आज़ादी के दीवानों ने
करन ''केसरा''
वो नौजवान राष्ट्रधर्म के लिए अड़ा रहा !
वो नौजवान राष्ट्रधर्म के लिए अड़ा रहा !
जगदीश शर्मा सहज
मेरे पिता
मेरे पिता
Dr.Pratibha Prakash
मौन धृतराष्ट्र बन कर खड़े हो
मौन धृतराष्ट्र बन कर खड़े हो
DrLakshman Jha Parimal
जिन्दगी के कुछ लम्हें अनमोल बन जाते हैं,
जिन्दगी के कुछ लम्हें अनमोल बन जाते हैं,
शेखर सिंह
कृतघ्न व्यक्ति आप के सत्कर्म को अपकर्म में बदलता रहेगा और आप
कृतघ्न व्यक्ति आप के सत्कर्म को अपकर्म में बदलता रहेगा और आप
Sanjay ' शून्य'
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
राख के ढेर की गर्मी
राख के ढेर की गर्मी
Atul "Krishn"
झुर्रियों तक इश्क़
झुर्रियों तक इश्क़
Surinder blackpen
2750. *पूर्णिका*
2750. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विश्वकप-2023 टॉप स्टोरी
विश्वकप-2023 टॉप स्टोरी
World Cup-2023 Top story (विश्वकप-2023, भारत)
Loading...