Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Sep 2016 · 1 min read

सच का प्याला……….( निवातिया डी के )

सच का प्याला निरा कडवा लगे,
सरलता से उतरे ना कंठ के पार !
झूठ की गगरी अथाह मिष्टी भरी
स्वाद स्वाद में करे विषैला प्रहार !!

!
!
!

निवातिया डी के ______@

Language: Hindi
Tag: शेर
323 Views
You may also like:
भीड़
Shyam Sundar Subramanian
औरत
Rekha Drolia
कौन आएगा
Dhirendra Panchal
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
माँ
Prakash juyal 'मुकेश'
फ़साने तेरे-मेरे
VINOD KUMAR CHAUHAN
बिन माचिस के आग लगा देते हो
Ram Krishan Rastogi
आशाओं की बस्ती
सूर्यकांत द्विवेदी
🚩फूलों की वर्षा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हम बस देखते रहे।
Taj Mohammad
लोग समझते क्यों नही ?
पीयूष धामी
ऐ वतन!
Anamika Singh
वरदान या अभिशाप फोन
AMRESH KUMAR VERMA
तेरे दुःख दर्द कितने सुर्ख है l
अरविन्द व्यास
अंतर्द्वंद्व
मनोज कर्ण
कविता –सच्चाई से मुकर न जाना
रकमिश सुल्तानपुरी
अज़ल से प्यार करना इतना आसान है क्या /लवकुश यादव...
लवकुश यादव "अज़ल"
“ सभक शुभकामना बारी -बारी सँ लिय ,आभार व्यक्त करबा...
DrLakshman Jha Parimal
✍️✍️मौत✍️✍️
'अशांत' शेखर
दर्द
Buddha Prakash
सपनों का महल
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आम आदमी का शायर
Shekhar Chandra Mitra
इमोजी कहीं आहत न कर दे
Dr fauzia Naseem shad
निःशब्दता हीं, जीवन का सार होता है।
Manisha Manjari
संत कबीरदास✨
Pravesh Shinde
सुन लो बच्चों
लक्ष्मी सिंह
अजीब दौर हकीकत को ख्वाब लिखने लगे
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जब जख्म कुरेदे जाते हैं
Suryakant Chaturvedi
*#सिरफिरा (#लघुकथा)*
Ravi Prakash
Loading...