Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Dec 2023 · 1 min read

सच्ची मेहनत कभी भी, बेकार नहीं जाती है

जाती नहीं बेकार कभी भी, की गई सच्ची मेहनत।
मिलता है फल जरूर, यदि की है दिल से मिन्नत।।
जाती नहीं बेकार कभी—————————-।।

हमको बस ख्याल यही हो, काम बस बुरा नहीं हो।
लाता है बहार पसीना, आये चाहे कैसी भी मुसीबत।।
जाती नहीं बेकार कभी—————————-।।

बोये कितने भी नश्तर, लोग चाहे राहो- मंजिल में।
मिल जाती है मंजिल भी, हो चाहे किसी भी किस्मत।।
जाती नहीं बेकार कभी—————————-।।

जीत तो होती है एक दिन, सच- ईमानदारी की ही।
मिलती है इज्जत सभी से, की हो यदि सच्ची मोहब्बत।।
जाती नहीं बेकार कभी—————————-।।

बदनामी और हंसी करेंगे, देखकर तुमको अकेला।
हारे नहीं हिम्मत यदि तो, मिल भी जाती है जन्नत।।
जाती नहीं बेकार कभी—————————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

115 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गाँव बदलकर शहर हो रहा
गाँव बदलकर शहर हो रहा
रवि शंकर साह
धरती को‌ हम स्वर्ग बनायें
धरती को‌ हम स्वर्ग बनायें
Chunnu Lal Gupta
💐💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐💐
💐💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
आधार छन्द-
आधार छन्द- "सीता" (मापनीयुक्त वर्णिक) वर्णिक मापनी- गालगागा गालगागा गालगागा गालगा (15 वर्ण) पिंगल सूत्र- र त म य र
Neelam Sharma
हरकत में आयी धरा...
हरकत में आयी धरा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कृष्ण भक्ति
कृष्ण भक्ति
लक्ष्मी सिंह
घर बन रहा है
घर बन रहा है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
** चीड़ के प्रसून **
** चीड़ के प्रसून **
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
*कागज़ की कश्ती*
*कागज़ की कश्ती*
sudhir kumar
आज, पापा की याद आई
आज, पापा की याद आई
Rajni kapoor
मोक्ष
मोक्ष
Pratibha Pandey
सूर्य देव
सूर्य देव
Bodhisatva kastooriya
जीवन है अलग अलग हालत, रिश्ते, में डालेगा और वही अलग अलग हालत
जीवन है अलग अलग हालत, रिश्ते, में डालेगा और वही अलग अलग हालत
पूर्वार्थ
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Shweta Soni
यह आज है वह कल था
यह आज है वह कल था
gurudeenverma198
वो,
वो,
हिमांशु Kulshrestha
ऐसी प्रीत कहीं ना पाई
ऐसी प्रीत कहीं ना पाई
Harminder Kaur
अदालत में क्रन्तिकारी मदनलाल धींगरा की सिंह-गर्जना
अदालत में क्रन्तिकारी मदनलाल धींगरा की सिंह-गर्जना
कवि रमेशराज
फैलाकर खुशबू दुनिया से जाने के लिए
फैलाकर खुशबू दुनिया से जाने के लिए
कवि दीपक बवेजा
*बलशाली हनुमान (कुंडलिया)*
*बलशाली हनुमान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
17)”माँ”
17)”माँ”
Sapna Arora
तेरे पास आए माँ तेरे पास आए
तेरे पास आए माँ तेरे पास आए
Basant Bhagawan Roy
🌹हार कर भी जीत 🌹
🌹हार कर भी जीत 🌹
Dr Shweta sood
दिल -ए- ज़िंदा
दिल -ए- ज़िंदा
Shyam Sundar Subramanian
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
3303.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3303.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
👍संदेश👍
👍संदेश👍
*Author प्रणय प्रभात*
तारे दिन में भी चमकते है।
तारे दिन में भी चमकते है।
Rj Anand Prajapati
आज के माहौल में
आज के माहौल में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
धीरज रख ओ मन
धीरज रख ओ मन
Harish Chandra Pande
Loading...