Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2023 · 1 min read

सच्ची बकरीद

झूठी तस्सली में न बहना,
कुछ बिगड़ जाए तो न कहना।
महज दिखावा से रब नहीं मिलता,
उसे पाना है तो हुकुम में रहना।

इब्राहीम ने बेटे की कुर्बानी दी।
अल्लाह से प्यार था
इस बात की निशानी दी।
मेरा सलाम इस्माइल को जिसने,
वालदैन से जिबह होकर
कौम को कहानी दी।

अल्ला पाक बन्दे की
शान नहीं जाने देता।
इस्माइल के बदन पर
खंरोच तक नहीं आने देता।
वह तो रहमान है
खबर रखता अपने आबिद की,
इसीलिए इब्राहिम की
आन नहीं जाने देता ।

सुनो मोमिन तमाम
राह मुश्किल है रब की।
आलमीन खुदा पाक
दुआ सुनता है सबकी।
बेजुबान की कुर्बानी से
नहीं बनेगा काम।
सुपुर्द कर दे खुदी,
फ़ना हो जा रब के नाम।

शम्स तबरेज, रूम,
बुल्ला व हुसैन शाह।
पाक ईमान रखा
छोड़ी नहीं कभी राह।
मुरशिद के हुक्म में ही
इन सबका बसर था।
इबादत सच्ची थी
और सिजदे में असर था।

ये भी मुसलमान
जो थे खुदा को बहुत प्यारे।
किया दीदार रब का
पार गए उस किनारे।
मुबारक हो जाए तेरा
हज,ज़कात,नमाज व रोजा।
बस एक काम कर
ईमान का पक्का हो जा।

अगर ख्वांहिश है सच्ची
और रब को है पाना।
कामिल वाक़िफ़कार की
पनाह में पड़ेगा जाना।
फिर तेरे सिजदे में
एक अज़ब की रवानी होगी।
खुदा नूर झलकेगा
धुर से बांग ए आसमानी होगी।
खुदा की शान में
बहार नज़्म गाएगी।
शुकून मिलेगा दिल को
तेरी ईद मन जाएगी।

124 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
2849.*पूर्णिका*
2849.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ मेरे स्लोगन (बेटी)
■ मेरे स्लोगन (बेटी)
*प्रणय प्रभात*
एक मेरे सिवा तुम सबका ज़िक्र करती हो,मुझे
एक मेरे सिवा तुम सबका ज़िक्र करती हो,मुझे
Keshav kishor Kumar
उम्र गुजर जाती है किराए के मकानों में
उम्र गुजर जाती है किराए के मकानों में
करन ''केसरा''
दौर कागजी था पर देर तक खतों में जज्बात महफूज रहते थे, आज उम्
दौर कागजी था पर देर तक खतों में जज्बात महफूज रहते थे, आज उम्
Radhakishan R. Mundhra
अनकही दोस्ती
अनकही दोस्ती
राजेश बन्छोर
ये आज़ादी होती है क्या
ये आज़ादी होती है क्या
Paras Nath Jha
कौन कहता है ज़ज्बात के रंग होते नहीं
कौन कहता है ज़ज्बात के रंग होते नहीं
Shweta Soni
एक शाम ठहर कर देखा
एक शाम ठहर कर देखा
Kunal Prashant
पेड़ और नदी की गश्त
पेड़ और नदी की गश्त
Anil Kumar Mishra
रोशन है अगर जिंदगी सब पास होते हैं
रोशन है अगर जिंदगी सब पास होते हैं
VINOD CHAUHAN
इश्क की वो  इक निशानी दे गया
इश्क की वो इक निशानी दे गया
Dr Archana Gupta
*यह कहता चाँद पूनम का, गुरू के रंग में डूबो (मुक्तक)*
*यह कहता चाँद पूनम का, गुरू के रंग में डूबो (मुक्तक)*
Ravi Prakash
ये दूरियां सिर्फ मैंने कहाँ बनायी थी //
ये दूरियां सिर्फ मैंने कहाँ बनायी थी //
गुप्तरत्न
हारे हुए परिंदे को अब सजर याद आता है
हारे हुए परिंदे को अब सजर याद आता है
कवि दीपक बवेजा
रमेशराज की बच्चा विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की बच्चा विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
कुप्रथाएं.......एक सच
कुप्रथाएं.......एक सच
Neeraj Agarwal
आप किसी का कर्ज चुका सकते है,
आप किसी का कर्ज चुका सकते है,
Aarti sirsat
सत्ता की हवस वाले राजनीतिक दलों को हराकर मुद्दों पर समाज को जिताना होगा
सत्ता की हवस वाले राजनीतिक दलों को हराकर मुद्दों पर समाज को जिताना होगा
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
सफर 👣जिंदगी का
सफर 👣जिंदगी का
डॉ० रोहित कौशिक
"मत पूछो"
Dr. Kishan tandon kranti
विनती
विनती
कविता झा ‘गीत’
रिश्ते बनाना आसान है
रिश्ते बनाना आसान है
shabina. Naaz
हमने सबको अपनाया
हमने सबको अपनाया
Vandna thakur
कभी सोच है कि खुद को क्या पसन्द
कभी सोच है कि खुद को क्या पसन्द
पूर्वार्थ
*ऐलान – ए – इश्क *
*ऐलान – ए – इश्क *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चित्रकार उठी चिंकारा बनी किस के मन की आवाज बनी
चित्रकार उठी चिंकारा बनी किस के मन की आवाज बनी
प्रेमदास वसु सुरेखा
किसी मे
किसी मे
Dr fauzia Naseem shad
हम तो बस कहते रहे, अपने दिल की बात।
हम तो बस कहते रहे, अपने दिल की बात।
Suryakant Dwivedi
प्यार के बारे में क्या?
प्यार के बारे में क्या?
Otteri Selvakumar
Loading...