Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Mar 2022 · 2 min read

सकारात्मक सोच

प्राय: जीवन में मिलने वाले दुःख असफलताएं हमे निराशा से भर देते है वहीं हमारे जीवन की गतिशील्ला को भी पूर्णता अवरुद्ध कर देती हैं जो कि किसी भी रूप में उचित नहीं, इसलिए बहुत आवश्यक है कि विपरीत परिस्थितियों में संयम से काम लें और अपनी समारात्मक सोच से अपने दुःख पर अपनी असफलाताओं पर नियन्त्रण करके, अपनी सफलता के मार्ग को प्रशस्त करें।
अपने अन्दर उत्साह का संचार करे परिस्थितियां कैसी भी हो मुस्कुराना सीखें, जिन्दगी को जीना सीखें जिन्दगी के प्रति अपनी सोच सदैव सकारात्मक रखें ,जिन्दगी के प्रति आपका लगाव, उत्साह आपके प्रत्येक कार्य में दिखाई देना चाहिए, अपने जीवन में घटने वाली हर दुःखद घटना को अपनी असफलताओ और अपनी कमजोरियों को किसी भी परिस्थिति में अपने ऊपर हावी न होने दे अपने आत्मविश्वास को हर विपरीत परिस्थिति में बनाये रखें, यकीन मानिए आपका स्वयं पर पूर्ण विश्वास होना ही आपको बिना किसी सहायता के हर विपरीत परिस्थिति से निकालने की क्षमता रखता है, अपनी ज़िंदगी में सहजता, स्वाभाविकता को स्थान दें, इससे आपकी जिन्दगी भी आसान होगी और आप अपनी जिन्दगी को अच्छे से जी भी सकेंगे स्वयं को हमेशा अहंकार, परनिंदा आदि जैसे अवगुणों से दूर रखें , साथ आपके कुछ नहीं जाने वाला बाकी रह जाएगा तो बस आपका दूसरों के साथ किया गया अच्छा व्यवहार एक अच्छी याद के रूप में लोगों के दिलों में हमेंशा ज़िंदा रहेगी,प्रयास करें कि कभी भी आपके अंदर की इंसानियत खत्म न होनेपाये,बच्चों से प्यार करना सीखें तो कमज़ोर,असहाय जनों की सहायता के लिए हमेशा आगे रहें अपने बुज़ुर्गो की सेवा करें दूसरों के काम आने का प्रयास करें, अपनी सोच को तार्किक रखें वहीं सही ग़लत में अंतर करना भी सीखें, अपने दृष्टिकोण को सदैव सकारात्मक रखें सदैव अपने अंदर की आवाज़ को सुने जिसे हम ज़मीर भी कहते हैं, और इस बात का भी विरोध ध्यान रखें कि आप स्वयं भी कभी अपनी इच्छाओं को अपनी खुशियों को नज़र अंदाज़ न करें, क्योंकि जब तक हम स्वयं संतुष्ट नहीं होंगे तब तक हम संतुष्ट समाज का निर्माण नहीं कर सकते हैं, दूसरों का ख़्याल रखने के साथ अपना भी ख़याल रखिये अपने अंदर के शौक को कभी मरने मत दीजिए आप हैं तभी ये ज़िन्दगी है और ये तभी खूबसूरत होगी जब आप खुश और संतुष्ट होंगे।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: लेख
10 Likes · 164 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
सजा दे ना आंगन फूल से रे माली
सजा दे ना आंगन फूल से रे माली
Basant Bhagawan Roy
चुनिंदा बाल कविताएँ (बाल कविता संग्रह)
चुनिंदा बाल कविताएँ (बाल कविता संग्रह)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
👌परिभाषा👌
👌परिभाषा👌
*Author प्रणय प्रभात*
भारत की दुर्दशा
भारत की दुर्दशा
Shekhar Chandra Mitra
झूम मस्ती में झूम
झूम मस्ती में झूम
gurudeenverma198
परिस्थितीजन्य विचार
परिस्थितीजन्य विचार
Shyam Sundar Subramanian
श्री कृष्ण जन्माष्टमी...
श्री कृष्ण जन्माष्टमी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कभी हैं भगवा कभी तिरंगा देश का मान बढाया हैं
कभी हैं भगवा कभी तिरंगा देश का मान बढाया हैं
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
सिर्फ अपना उत्थान
सिर्फ अपना उत्थान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
#दिनांक:-19/4/2024
#दिनांक:-19/4/2024
Pratibha Pandey
"हर रास्ते में फूलों से ना होगा सामना
कवि दीपक बवेजा
मुक्तक
मुक्तक
नूरफातिमा खातून नूरी
मन को भाये इमली. खट्टा मीठा डकार आये
मन को भाये इमली. खट्टा मीठा डकार आये
Ranjeet kumar patre
हम तो कवि है
हम तो कवि है
नन्दलाल सुथार "राही"
पापियों के हाथ
पापियों के हाथ
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
साक्षात्कार एक स्वास्थ्य मंत्री से [ व्यंग्य ]
साक्षात्कार एक स्वास्थ्य मंत्री से [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
एक ही भूल
एक ही भूल
Mukesh Kumar Sonkar
समझ ना आया
समझ ना आया
Dinesh Kumar Gangwar
मुझे तुम
मुझे तुम
Dr fauzia Naseem shad
*कहर  है हीरा*
*कहर है हीरा*
Kshma Urmila
गमों के साथ इस सफर में, मेरा जीना भी मुश्किल है
गमों के साथ इस सफर में, मेरा जीना भी मुश्किल है
Kumar lalit
कितना रोका था ख़ुद को
कितना रोका था ख़ुद को
हिमांशु Kulshrestha
💐प्रेम कौतुक-528💐
💐प्रेम कौतुक-528💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बेबाक
बेबाक
Satish Srijan
रास्ते में आएंगी रुकावटें बहुत!!
रास्ते में आएंगी रुकावटें बहुत!!
पूर्वार्थ
लोग कहते हैं खास ,क्या बुढों में भी जवानी होता है।
लोग कहते हैं खास ,क्या बुढों में भी जवानी होता है।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
2485.पूर्णिका
2485.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मुझे भी जीने दो (भ्रूण हत्या की कविता)
मुझे भी जीने दो (भ्रूण हत्या की कविता)
Dr. Kishan Karigar
तुम्हें पाने के लिए
तुम्हें पाने के लिए
Surinder blackpen
Loading...