Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Feb 2017 · 1 min read

संवेदना घर

सत्य, नायक वही जो नव चेतना भर |
राष्ट्र को उत्थान दे, जन-वेदना हर|
छिपा है आनंद, निज की आतमा में|
मन स्वयं ही जाग बन,संवेदना-घर|

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता

Language: Hindi
346 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Pt. Brajesh Kumar Nayak
View all
You may also like:
अंत समय
अंत समय
Vandna thakur
गुम लफ्ज़
गुम लफ्ज़
Akib Javed
रक्षा -बंधन
रक्षा -बंधन
Swami Ganganiya
" मिट्टी के बर्तन "
Pushpraj Anant
सुनो सरस्वती / MUSAFIR BAITHA
सुनो सरस्वती / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मां शारदे वंदना
मां शारदे वंदना
Neeraj Agarwal
किसको सुनाऊँ
किसको सुनाऊँ
surenderpal vaidya
प्रियवर
प्रियवर
लक्ष्मी सिंह
ज़िंदगी उससे है मेरी, वो मेरा दिलबर रहे।
ज़िंदगी उससे है मेरी, वो मेरा दिलबर रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
नग मंजुल मन भावे
नग मंजुल मन भावे
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
23/58.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/58.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*जनता के कब पास है, दो हजार का नोट* *(कुंडलिया)*
*जनता के कब पास है, दो हजार का नोट* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
✍️प्रेम की राह पर-72✍️
✍️प्रेम की राह पर-72✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जो बीत गयी सो बीत गई जीवन मे एक सितारा था
जो बीत गयी सो बीत गई जीवन मे एक सितारा था
Rituraj shivem verma
कार्ल मार्क्स
कार्ल मार्क्स
Shekhar Chandra Mitra
इंसानियत
इंसानियत
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
हर लम्हे में
हर लम्हे में
Sangeeta Beniwal
दोहा त्रयी. . .
दोहा त्रयी. . .
sushil sarna
आलिंगन शहद से भी अधिक मधुर और चुंबन चाय से भी ज्यादा मीठा हो
आलिंगन शहद से भी अधिक मधुर और चुंबन चाय से भी ज्यादा मीठा हो
Aman Kumar Holy
सूरज
सूरज
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
बुद्धिमान हर बात पर,
बुद्धिमान हर बात पर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
What I wished for is CRISPY king
What I wished for is CRISPY king
Ankita Patel
*
*"जहां भी देखूं नजर आते हो तुम"*
Shashi kala vyas
#शुभ_दीपोत्सव
#शुभ_दीपोत्सव
*Author प्रणय प्रभात*
When you learn to view life
When you learn to view life
पूर्वार्थ
अगर आपको अपने कार्यों में विरोध मिल रहा
अगर आपको अपने कार्यों में विरोध मिल रहा
Prof Neelam Sangwan
जिद बापू की
जिद बापू की
Ghanshyam Poddar
वृक्ष किसी को
वृक्ष किसी को
DrLakshman Jha Parimal
आश पराई छोड़ दो,
आश पराई छोड़ दो,
Satish Srijan
" ये धरती है अपनी...
VEDANTA PATEL
Loading...