Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2024 · 1 min read

संविधान

दुनिया की सबसे बड़ी, ऐसी एक किताब।
संविधान कहते जिसे,हक का जहाँ हिसाब।।

भीमराव आंबेडकर,इसके रचनाकार।
अथक परिश्रम से लिखें,सब मौलिक अधिकार।।

क्या करना है क्या नहीं, संविधान से जान ।
अधिकारों को जानकर, धर्म-कर्म पहचान।।

संविधान ने ही दिया,हमको मताधिकार।
हम इसके आधार पर,चुनते हैं सरकार।।

मनसा वाचा कर्मणा,लक्ष्य लोक कल्याण।
मानव-मूल्यों पर हुआ, संविधान निर्माण।।

संविधान से देश को,मिली नई तस्वीर।
नियम और कानून की,खींचीं एक लकीर।।

संविधान सर्वोच्च है,सर्व-धर्म समभाव।
जातिपाति से है परे,उत्तम उचित रखाव।।

संविधान का लक्ष्य है, बहुत अधिक विकराल।
विश्व शांति के राह पर,लेकर चले मशाल।।

अनेकता में एकता, संविधान की चाह।
आदर्शों कर्तव्य का,सदा दिखाता राह।।
-लक्ष्मी सिंह

Language: Hindi
1 Like · 84 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
2298.पूर्णिका
2298.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
सत्य कुमार प्रेमी
सफ़र ज़िंदगी का आसान कीजिए
सफ़र ज़िंदगी का आसान कीजिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बरगद पीपल नीम तरु
बरगद पीपल नीम तरु
लक्ष्मी सिंह
#प्रसंगवश😢
#प्रसंगवश😢
*Author प्रणय प्रभात*
"कड़वा सच"
Dr. Kishan tandon kranti
*वही पुरानी एक सरीखी, सबकी रामकहानी (गीत)*
*वही पुरानी एक सरीखी, सबकी रामकहानी (गीत)*
Ravi Prakash
क्यों नहीं देती हो तुम, साफ जवाब मुझको
क्यों नहीं देती हो तुम, साफ जवाब मुझको
gurudeenverma198
राजा अगर मूर्ख हो तो पैसे वाले उसे तवायफ की तरह नचाते है❗
राजा अगर मूर्ख हो तो पैसे वाले उसे तवायफ की तरह नचाते है❗
शेखर सिंह
"आशा" के दोहे '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सुन लो दुष्ट पापी अभिमानी
सुन लो दुष्ट पापी अभिमानी
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हकीकत पर एक नजर
हकीकत पर एक नजर
पूनम झा 'प्रथमा'
जाने कितने चढ़ गए, फाँसी माँ के लाल ।
जाने कितने चढ़ गए, फाँसी माँ के लाल ।
sushil sarna
"लाचार मैं या गुब्बारे वाला"
संजय कुमार संजू
अंदाज़े बयाँ
अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मजा मुस्कुराने का लेते वही...
मजा मुस्कुराने का लेते वही...
Sunil Suman
लड़कियां शिक्षा के मामले में लडको से आगे निकल रही है क्योंकि
लड़कियां शिक्षा के मामले में लडको से आगे निकल रही है क्योंकि
Rj Anand Prajapati
मुझे हमेशा लगता था
मुझे हमेशा लगता था
ruby kumari
जल का अपव्यय मत करो
जल का अपव्यय मत करो
Kumud Srivastava
शहीदों को नमन
शहीदों को नमन
Dinesh Kumar Gangwar
ग़ज़ल/नज़्म - एक वो दोस्त ही तो है जो हर जगहा याद आती है
ग़ज़ल/नज़्म - एक वो दोस्त ही तो है जो हर जगहा याद आती है
अनिल कुमार
*हिम्मत जिंदगी की*
*हिम्मत जिंदगी की*
Naushaba Suriya
गुज़रते वक्त ने
गुज़रते वक्त ने
Dr fauzia Naseem shad
दिल तोड़ने की बाते करने करने वाले ही होते है लोग
दिल तोड़ने की बाते करने करने वाले ही होते है लोग
shabina. Naaz
शिव-स्वरूप है मंगलकारी
शिव-स्वरूप है मंगलकारी
कवि रमेशराज
मातृभूमि तुझ्रे प्रणाम
मातृभूमि तुझ्रे प्रणाम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जिसप्रकार
जिसप्रकार
Dr.Rashmi Mishra
बसंती बहार
बसंती बहार
Er. Sanjay Shrivastava
पढ़े-लिखे पर मूढ़
पढ़े-लिखे पर मूढ़
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
बिल्ली की लक्ष्मण रेखा
बिल्ली की लक्ष्मण रेखा
Paras Nath Jha
Loading...