Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Nov 2022 · 1 min read

संविधान /

समीक्षार्थ : गीत
——————–

:: संविधान ::
—————–

फूलों की भी
कांँटों की भी
मैं समताओं
की किताब हूंँ ।

आम पके
गदराने नींबू
मध्य क्षेत्र के
काश्मीर की
केशर मुझमें
अमरोहा के रोहू ।
नीर भी
मुझमें, क्षीर
भी मुझमें
मुझमें गिरि
सौंदर्य मांसल
और दहकता लोहू ।

नागफनी का
धत्तूरे का
अर्क,जवासा
का हिसाब हूंँ ।
मैं समताओं
की किताब हूंँ ।

सुगर मालियों
के चिंतन ने
मुझे ग्रंथ का
रूप दिया है ।
सदियों का
शोषण बिष
पीकर मैंने शिव
संकल्प लिया है ।
बातें बिल्कुल
खरी-खरी हैं,
रातें मेरी
हरी-हरी हैं ।

मुरझाए हैं
जहां -जहां दिन
मैं उन चेहरों
का हिजाब हूंँ ।
मैं समताओं
की किताब हूंँ ।

निम्न वर्ग के
उच्च भाव के
उच्च वर्ग के
नम्र ताव के
सम्मिश्रण का
लेखा-जोखा ।
खोटा करने
की कोशिश में
लगे हुए हैं
मेरे बेटे फिर
भी मैं हूं
अब तक चोखा ।

मैं हर भूखे
का भोजन हूंँ
हर प्यासे का
मधुर आब हूं ।
मैं समताओं
की किताब हूंँ ।

०००
— ईश्वर दयाल गोस्वामी
छिरारी (रहली), सागर
मध्यप्रदेश ।
मो – 8463884927

Language: Hindi
Tag: गीत
9 Likes · 20 Comments · 331 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हारो बेशक कई बार,हार के आगे झुको नहीं।
हारो बेशक कई बार,हार के आगे झुको नहीं।
Neelam Sharma
जुमर-ए-अहबाब के बीच तेरा किस्सा यूं छिड़ गया,
जुमर-ए-अहबाब के बीच तेरा किस्सा यूं छिड़ गया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
’वागर्थ’ अप्रैल, 2018 अंक में ’नई सदी में युवाओं की कविता’ पर साक्षात्कार / MUSAFIR BAITHA
’वागर्थ’ अप्रैल, 2018 अंक में ’नई सदी में युवाओं की कविता’ पर साक्षात्कार / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
रिश्ते बनाना आसान है
रिश्ते बनाना आसान है
shabina. Naaz
गर्दिश का माहौल कहां किसी का किरदार बताता है.
गर्दिश का माहौल कहां किसी का किरदार बताता है.
कवि दीपक बवेजा
सवैया छंदों के नाम व मापनी (सउदाहरण )
सवैया छंदों के नाम व मापनी (सउदाहरण )
Subhash Singhai
*माँ सरस्वती (चौपाई)*
*माँ सरस्वती (चौपाई)*
Rituraj shivem verma
नहीं जा सकता....
नहीं जा सकता....
Srishty Bansal
प्रेम का वक़ात
प्रेम का वक़ात
भरत कुमार सोलंकी
कोई नही है वास्ता
कोई नही है वास्ता
Surinder blackpen
........?
........?
शेखर सिंह
3033.*पूर्णिका*
3033.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इंसान
इंसान
Vandna thakur
अपनी समस्या का समाधान_
अपनी समस्या का समाधान_
Rajesh vyas
इन तन्हाइयों में तुम्हारी याद आएगी
इन तन्हाइयों में तुम्हारी याद आएगी
Ram Krishan Rastogi
किस क़दर
किस क़दर
हिमांशु Kulshrestha
आवारगी
आवारगी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
विकटता और मित्रता
विकटता और मित्रता
Astuti Kumari
मेरी मोहब्बत पाक मोहब्बत
मेरी मोहब्बत पाक मोहब्बत
VINOD CHAUHAN
लेशमात्र भी शर्म का,
लेशमात्र भी शर्म का,
sushil sarna
देह से देह का मिलन दो को एक नहीं बनाता है
देह से देह का मिलन दो को एक नहीं बनाता है
Pramila sultan
गलतियां हमारी ही हुआ करती थी जनाब
गलतियां हमारी ही हुआ करती थी जनाब
रुचि शर्मा
जिस चीज को किसी भी मूल्य पर बदला नहीं जा सकता है,तो उसको सहन
जिस चीज को किसी भी मूल्य पर बदला नहीं जा सकता है,तो उसको सहन
Paras Nath Jha
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
* सिला प्यार का *
* सिला प्यार का *
surenderpal vaidya
जिंदगी में संतुलन खुद की कमियों को समझने से बना रहता है,
जिंदगी में संतुलन खुद की कमियों को समझने से बना रहता है,
Seema gupta,Alwar
मंत्र  :  दधाना करपधाभ्याम,
मंत्र : दधाना करपधाभ्याम,
Harminder Kaur
कभी कभी प्रतीक्षा
कभी कभी प्रतीक्षा
पूर्वार्थ
*श्री देवेंद्र कुमार रस्तोगी के न रहने से आर्य समाज का एक स्
*श्री देवेंद्र कुमार रस्तोगी के न रहने से आर्य समाज का एक स्
Ravi Prakash
Loading...