Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Mar 2024 · 1 min read

“संवाद “

डॉ लक्ष्मण झा परिमल
=================
लिखो तुम रोज ही कुछ भी कोई पढ़ता नहीं इसको ,
किसे है आज तक फुर्सत कहें तो हम कहें किसको !!
उन्हें कहने की आदत है नहीं कभी हम उन्हें सुनते ,
करें हम अपनी मनमानी सदा हम भी वही करते !!
सभी हैं मस्त अपनों में नहीं किसी और की चाहत ,
बने हैं दोस्त कागज़ पर नहीं कोई कान में आहट !!
अजब थी दोस्ती अपनी सदा सहयोग करते थे ,
कभी भी छूट जाए साथ नयन से आँसू बहाते थे !!
अभी की दोस्ती में हम किसी को हम नहीं जाने ,
कहाँ रहता है वो साथी कोई उसको ना पहचाने !!
क्षणिक ये साथ होते हैं विचारों से नहीं मिलते ,
बने ये मेरे साथी हैं नहीं कभी सँग ही रहते !!
बने हो दोस्त लोगों से तो सब के साथ ही रहना
विचारों को हमेशा ही सदा संवाद से करना !!
=================
डॉ लक्ष्मण झा परिमल
एस 0 पी 0 कॉलेज रोड
दुमका
झारखंड
भारत
20.03.2024

Language: Hindi
40 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*रामपुर से प्रकाशित हिंदी साप्ताहिक पत्रों से मेरा संबंध*
*रामपुर से प्रकाशित हिंदी साप्ताहिक पत्रों से मेरा संबंध*
Ravi Prakash
आप हँसते हैं तो हँसते क्यूँ है
आप हँसते हैं तो हँसते क्यूँ है
Shweta Soni
रास्ते पर कांटे बिछे हो चाहे, अपनी मंजिल का पता हम जानते है।
रास्ते पर कांटे बिछे हो चाहे, अपनी मंजिल का पता हम जानते है।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
3263.*पूर्णिका*
3263.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चाँद खिलौना
चाँद खिलौना
SHAILESH MOHAN
बार -बार दिल हुस्न की ,
बार -बार दिल हुस्न की ,
sushil sarna
भ्रम अच्छा है
भ्रम अच्छा है
Vandna Thakur
भुक्त - भोगी
भुक्त - भोगी
Ramswaroop Dinkar
तमन्ना है बस तुझको देखूॅं
तमन्ना है बस तुझको देखूॅं
Monika Arora
फिदरत
फिदरत
Swami Ganganiya
साथ
साथ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जीवन साथी
जीवन साथी
Aman Sinha
ज़िंदगी के तजुर्बे खा गए बचपन मेरा,
ज़िंदगी के तजुर्बे खा गए बचपन मेरा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
शुभ रक्षाबंधन
शुभ रक्षाबंधन
डॉ.सीमा अग्रवाल
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
उदास रात सितारों ने मुझसे पूछ लिया,
उदास रात सितारों ने मुझसे पूछ लिया,
Neelofar Khan
दोहा मुक्तक -*
दोहा मुक्तक -*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"मनुज बलि नहीं होत है - होत समय बलवान ! भिल्लन लूटी गोपिका - वही अर्जुन वही बाण ! "
Atul "Krishn"
क़दर करना क़दर होगी क़दर से शूल फूलों में
क़दर करना क़दर होगी क़दर से शूल फूलों में
आर.एस. 'प्रीतम'
यदि मन में हो संकल्प अडिग
यदि मन में हो संकल्प अडिग
महेश चन्द्र त्रिपाठी
चार दिनों की जिंदगी है, यूँ हीं गुज़र के रह जानी है...!!
चार दिनों की जिंदगी है, यूँ हीं गुज़र के रह जानी है...!!
Ravi Betulwala
सबकी सलाह है यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सबकी सलाह है यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सत्य कुमार प्रेमी
प्यारा सुंदर वह जमाना
प्यारा सुंदर वह जमाना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित
कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित
Rj Anand Prajapati
युवराज को जबरन
युवराज को जबरन "लंगोट" धारण कराने की कोशिश का अंतिम दिन आज।
*प्रणय प्रभात*
त्यागकर अपने भ्रम ये सारे
त्यागकर अपने भ्रम ये सारे
इंजी. संजय श्रीवास्तव
****शिव शंकर****
****शिव शंकर****
Kavita Chouhan
वो भी तिरी मानिंद मिरे हाल पर मुझ को छोड़ कर
वो भी तिरी मानिंद मिरे हाल पर मुझ को छोड़ कर
Trishika S Dhara
As I grow up I realized that life will test you so many time
As I grow up I realized that life will test you so many time
पूर्वार्थ
अंत में पैसा केवल
अंत में पैसा केवल
Aarti sirsat
Loading...