Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jul 2019 · 1 min read

संयुक्त परिवार, खुश परिवार

है संयुक्त शब्द
शक्तिशाली
रखता हमेशा
घर को बलशाली

संयुक्त परिवार है
सब के साथी
दुःख सुख में हैं
एक दूसरे के साथी

पश्चिमी संस्कृति है
अकेले रहने की
न है प्यार बच्चों से
न हैं बच्चे
माता पिता के

भारतीय संस्कारों है
विश्व में पहचान
संयुक्त परिवार
है इसकी जान

स्वलिखित लेखक
संतोष श्रीवास्तव भोपाल

Language: Hindi
193 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अध खिला कली तरुणाई  की गीत सुनाती है।
अध खिला कली तरुणाई की गीत सुनाती है।
Nanki Patre
बुंदेली दोहा- गरे गौ (भाग-1)
बुंदेली दोहा- गरे गौ (भाग-1)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मार गई मंहगाई कैसे होगी पढ़ाई🙏✍️🙏
मार गई मंहगाई कैसे होगी पढ़ाई🙏✍️🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*नव संसद का सत्र, नया लाया उजियारा (कुंडलिया)*
*नव संसद का सत्र, नया लाया उजियारा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
निराली है तेरी छवि हे कन्हाई
निराली है तेरी छवि हे कन्हाई
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सुनील गावस्कर
सुनील गावस्कर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"बगुला भगत"
Dr. Kishan tandon kranti
सुदामा कृष्ण के द्वार (1)
सुदामा कृष्ण के द्वार (1)
Vivek Ahuja
ये क़िताब
ये क़िताब
Shweta Soni
कभी- कभी
कभी- कभी
Harish Chandra Pande
मुक्तक
मुक्तक
नूरफातिमा खातून नूरी
सुविचार
सुविचार
Dr MusafiR BaithA
" महक संदली "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
उनसे कहना अभी मौत से डरा नहीं हूं मैं
उनसे कहना अभी मौत से डरा नहीं हूं मैं
Phool gufran
संस्कारों की रिक्तता
संस्कारों की रिक्तता
पूर्वार्थ
वक्त हो बुरा तो …
वक्त हो बुरा तो …
sushil sarna
समझ आये तों तज्जबो दीजियेगा
समझ आये तों तज्जबो दीजियेगा
शेखर सिंह
अद्वितीय संवाद
अद्वितीय संवाद
Monika Verma
कैसे कांटे हो तुम
कैसे कांटे हो तुम
Basant Bhagawan Roy
रमेशराज के शृंगाररस के दोहे
रमेशराज के शृंगाररस के दोहे
कवि रमेशराज
बादल
बादल
Shankar suman
अधिकार और पशुवत विचार
अधिकार और पशुवत विचार
ओंकार मिश्र
उफ़ ये बेटियाँ
उफ़ ये बेटियाँ
SHAMA PARVEEN
2985.*पूर्णिका*
2985.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
**पर्यावरण दिवस **
**पर्यावरण दिवस **
Dr Mukesh 'Aseemit'
खाली मन...... एक सच
खाली मन...... एक सच
Neeraj Agarwal
पिता
पिता
Swami Ganganiya
षड्यंत्रों वाली मंशा पर वार हुआ है पहली बार।
षड्यंत्रों वाली मंशा पर वार हुआ है पहली बार।
*प्रणय प्रभात*
अजनबी
अजनबी
लक्ष्मी सिंह
दिल रंज का शिकार है और किस क़दर है आज
दिल रंज का शिकार है और किस क़दर है आज
Sarfaraz Ahmed Aasee
Loading...