Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 May 2024 · 1 min read

संभावना है जीवन, संभावना बड़ी है

संभावना है जीवन, संभावना बड़ी है
संभावना है हम तुम, संभावना कड़ी है
संभाव्य यहां सदियां, कल कल बहती नदियां
संभावना है हर दिन, द्वारे क्षितिज खड़ी है।।

सूर्यकांत

33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ संपर्क_सूत्रम
■ संपर्क_सूत्रम
*प्रणय प्रभात*
मेरे आदर्श मेरे पिता
मेरे आदर्श मेरे पिता
Dr. Man Mohan Krishna
प्रीत निभाना
प्रीत निभाना
Pratibha Pandey
जरूरी और जरूरत
जरूरी और जरूरत
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
इससे पहले कि ये जुलाई जाए
इससे पहले कि ये जुलाई जाए
Anil Mishra Prahari
नहीं विश्वास करते लोग सच्चाई भुलाते हैं
नहीं विश्वास करते लोग सच्चाई भुलाते हैं
आर.एस. 'प्रीतम'
एक
एक
हिमांशु Kulshrestha
सुन कुछ मत अब सोच अपने काम में लग जा,
सुन कुछ मत अब सोच अपने काम में लग जा,
Anamika Tiwari 'annpurna '
नज़रें बयां करती हैं,लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
नज़रें बयां करती हैं,लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
Keshav kishor Kumar
. *प्रगीत*
. *प्रगीत*
Dr.Khedu Bharti
कुछ पल अपने लिए
कुछ पल अपने लिए
Mukesh Kumar Sonkar
ভালো উপদেশ
ভালো উপদেশ
Arghyadeep Chakraborty
किताब
किताब
Lalit Singh thakur
हनुमंत लाल बैठे चरणों में देखें प्रभु की प्रभुताई।
हनुमंत लाल बैठे चरणों में देखें प्रभु की प्रभुताई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
चंदा मामा (बाल कविता)
चंदा मामा (बाल कविता)
Ravi Prakash
सच तो रंग काला भी कुछ कहता हैं
सच तो रंग काला भी कुछ कहता हैं
Neeraj Agarwal
अक्सर हम ज़िन्दगी में इसलिए भी अकेले होते हैं क्योंकि हमारी ह
अक्सर हम ज़िन्दगी में इसलिए भी अकेले होते हैं क्योंकि हमारी ह
पूर्वार्थ
हमको नहीं गम कुछ भी
हमको नहीं गम कुछ भी
gurudeenverma198
मैं  नहीं   हो  सका,   आपका  आदतन
मैं नहीं हो सका, आपका आदतन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिंदगी
जिंदगी
Adha Deshwal
*** तूने क्या-क्या चुराया ***
*** तूने क्या-क्या चुराया ***
Chunnu Lal Gupta
रूठ जा..... ये हक है तेरा
रूठ जा..... ये हक है तेरा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
वहां पथ पथिक कुशलता क्या, जिस पथ पर बिखरे शूल न हों।
वहां पथ पथिक कुशलता क्या, जिस पथ पर बिखरे शूल न हों।
Slok maurya "umang"
विषधर
विषधर
Rajesh
हिन्दी के साधक के लिए किया अदभुत पटल प्रदान
हिन्दी के साधक के लिए किया अदभुत पटल प्रदान
Dr.Pratibha Prakash
क्यों ना बेफिक्र होकर सोया जाएं.!!
क्यों ना बेफिक्र होकर सोया जाएं.!!
शेखर सिंह
Not longing for prince who will give you taj after your death
Not longing for prince who will give you taj after your death
Ankita Patel
उसको देखें
उसको देखें
Dr fauzia Naseem shad
मेरे राम
मेरे राम
Ajay Mishra
चाय दिवस
चाय दिवस
Dr Archana Gupta
Loading...