Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 1 min read

संभव की हदें जानने के लिए

संभव की हदें जानने के लिए
जरूरी है असंभव की हदें लांघना ।
खुद पर भरोसा करना
और अविरल अनथक भागना ।
***धीरजा शर्मा****

53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dheerja Sharma
View all
You may also like:
"सम्मान व संस्कार व्यक्ति की मृत्यु के बाद भी अस्तित्व में र
डॉ कुलदीपसिंह सिसोदिया कुंदन
सत्य की खोज में।
सत्य की खोज में।
Taj Mohammad
मिलेंगे इक रोज तसल्ली से हम दोनों
मिलेंगे इक रोज तसल्ली से हम दोनों
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
" मिलन की चाह "
DrLakshman Jha Parimal
*पदयात्रा का मतलब (हास्य व्यंग्य)*
*पदयात्रा का मतलब (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
-- क्लेश तब और अब -
-- क्लेश तब और अब -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
इस दिल बस इतना ही इंतकाम रहे,
इस दिल बस इतना ही इंतकाम रहे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
वक्त वक्त की बात है आज आपका है,तो कल हमारा होगा।
वक्त वक्त की बात है आज आपका है,तो कल हमारा होगा।
पूर्वार्थ
युद्ध घोष
युद्ध घोष
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कश्मकश
कश्मकश
swati katiyar
रूह की अभिलाषा🙏
रूह की अभिलाषा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मुक्तक-विन्यास में एक तेवरी
मुक्तक-विन्यास में एक तेवरी
कवि रमेशराज
जहर    ना   इतना  घोलिए
जहर ना इतना घोलिए
Paras Nath Jha
नए मुहावरे का चाँद
नए मुहावरे का चाँद
Dr MusafiR BaithA
परिभाषा संसार की,
परिभाषा संसार की,
sushil sarna
मैं तुम्हारे बारे में नहीं सोचूँ,
मैं तुम्हारे बारे में नहीं सोचूँ,
Sukoon
सत्य कहाँ ?
सत्य कहाँ ?
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मैं मुश्किलों के आगे कम नहीं टिकता
मैं मुश्किलों के आगे कम नहीं टिकता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
चांदनी रात में बरसाने का नजारा हो,
चांदनी रात में बरसाने का नजारा हो,
Anamika Tiwari 'annpurna '
मेरे पिताजी
मेरे पिताजी
Santosh kumar Miri
24/234. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/234. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#मुझे_गर्व_है
#मुझे_गर्व_है
*प्रणय प्रभात*
"कहाँ छुपोगे?"
Dr. Kishan tandon kranti
56…Rajaz musaddas matvii
56…Rajaz musaddas matvii
sushil yadav
सिंह सा दहाड़ कर
सिंह सा दहाड़ कर
Gouri tiwari
कल मेरा दोस्त
कल मेरा दोस्त
SHAMA PARVEEN
पुतलों का देश
पुतलों का देश
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
जता दूँ तो अहसान लगता है छुपा लूँ तो गुमान लगता है.
जता दूँ तो अहसान लगता है छुपा लूँ तो गुमान लगता है.
शेखर सिंह
हवाओं के भरोसे नहीं उड़ना तुम कभी,
हवाओं के भरोसे नहीं उड़ना तुम कभी,
Neelam Sharma
बिना शर्त खुशी
बिना शर्त खुशी
Rohit yadav
Loading...