Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 May 2022 · 2 min read

संडे की व्यथा

शीर्षक – संडे की व्यथा

परिचय – ज्ञानीचोर
शोधार्थी व कवि साहित्यकार
मु.पो. रघुनाथगढ़, सीकर राज.
पिन 332027
मो. 9001321438

आदमी शादीशुदा हो या
चाहे थोड़ा कुँवारा हो…!
वो जो सोचता है वो ही जाने
पर होती है इतनी सी बात
सबकुछ कर लेने और …..
बहुत कुछ समेट लेने के चक्कर में
भूल जाता है एक प्यारा अहसास
जो ताकता है निगाहें किनारें से
आँखों की नम कोर
भूल जाता है ये बात नहीं
ये दोष आदमी का नहीं
संडे है ही खुशी का दिन
लेकिन आजतक तो खुश
आदमी हुआ हो
ऐसा नहीं लगता
जिंदगी के सारे काम एकत्र
हो जाते है एक दिन ही।
नहीं दे पाता समय।
कैलेंडर में गड़बड़ी है आजकल
संडे नहीं आता देर से
ज्योहीं सप्ताह के तीन दिन गये
टपक आता है संडे शीघ्र
और काम की भीड़ में
खो जाता है आदमी
नहीं मिलता आराम
आराम के नाम पर आया
सरकारी छुट्टी का संडे
पर आराम तो वर्कडे में ही
संडे को बदलना होगा
कैलेंडर का करेक्शन करना होगा
नाम देना होगा दूसरा
शायद मिल जाये फुर्सत इसी बहाने
आदमी से आदमी कर सके
थोड़ा गिला सिकवा
बतला सके प्यार के बोल
तर हो सके टुकड़ा दिल का
भावनाओं का मेल हो सके
जी सके क्षण भर अपने में
पूछ सके कुशलता अपनों की
छः दिन की उदासी तोड़ सके
पर छः उदासी में संडे घोलता है
सबसे ज्यादा उपेक्षा,तिरस्कार
मन को झकझोरता है संडे
दुनिया की बड़ी आबादी है त्रस्त
संडे के फंडे से सालों से
जब तक संडे है कामकाजी आदमी
नहीं रह सकेगा खुश
न कर सकेगा खुश अपनों को
एकत्र काम की पीड़ा
संडे की सबसे बड़ी व्यथा है।

Language: Hindi
1 Like · 729 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चुनाव में मीडिया की भूमिका: राकेश देवडे़ बिरसावादी
चुनाव में मीडिया की भूमिका: राकेश देवडे़ बिरसावादी
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
!! रे, मन !!
!! रे, मन !!
Chunnu Lal Gupta
"तहजीब"
Dr. Kishan tandon kranti
न मुमकिन है ख़ुद का घरौंदा मिटाना
न मुमकिन है ख़ुद का घरौंदा मिटाना
शिल्पी सिंह बघेल
कोई हादसा भी ज़रूरी है ज़िंदगी में,
कोई हादसा भी ज़रूरी है ज़िंदगी में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सजदे में सर झुका तो
सजदे में सर झुका तो
shabina. Naaz
चुप
चुप
Ajay Mishra
हाल ऐसा की खुद पे तरस आता है
हाल ऐसा की खुद पे तरस आता है
Kumar lalit
चित्र आधारित चौपाई रचना
चित्र आधारित चौपाई रचना
गुमनाम 'बाबा'
हम किसे के हिज्र में खुदकुशी कर ले
हम किसे के हिज्र में खुदकुशी कर ले
himanshu mittra
सत्यमेव जयते
सत्यमेव जयते
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
Naushaba Suriya
आ ठहर विश्राम कर ले।
आ ठहर विश्राम कर ले।
सरोज यादव
मैं पतंग, तु डोर मेरे जीवन की
मैं पतंग, तु डोर मेरे जीवन की
Swami Ganganiya
आजादी की कहानी
आजादी की कहानी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
*श्वास-गति निष्काम होती है (मुक्तक)*
*श्वास-गति निष्काम होती है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
करते हो क्यों प्यार अब हमसे तुम
करते हो क्यों प्यार अब हमसे तुम
gurudeenverma198
जिनके बिन घर सूना सूना दिखता है।
जिनके बिन घर सूना सूना दिखता है।
सत्य कुमार प्रेमी
मुझे छूकर मौत करीब से गुजरी है...
मुझे छूकर मौत करीब से गुजरी है...
राहुल रायकवार जज़्बाती
केवल
केवल
Shweta Soni
लोग महापुरुषों एवम् बड़ी हस्तियों के छोटे से विचार को भी काफ
लोग महापुरुषों एवम् बड़ी हस्तियों के छोटे से विचार को भी काफ
Rj Anand Prajapati
भोर अगर है जिंदगी,
भोर अगर है जिंदगी,
sushil sarna
हक़ीक़त ये अपनी जगह है
हक़ीक़त ये अपनी जगह है
Dr fauzia Naseem shad
मन में संदिग्ध हो
मन में संदिग्ध हो
Rituraj shivem verma
*** हमसफ़र....!!! ***
*** हमसफ़र....!!! ***
VEDANTA PATEL
2364.पूर्णिका
2364.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आज लिखने बैठ गया हूं, मैं अपने अतीत को।
आज लिखने बैठ गया हूं, मैं अपने अतीत को।
SATPAL CHAUHAN
कुछ लोग घूमते हैं मैले आईने के साथ,
कुछ लोग घूमते हैं मैले आईने के साथ,
Sanjay ' शून्य'
जीवन के सुख दुख के इस चक्र में
जीवन के सुख दुख के इस चक्र में
ruby kumari
Good morning
Good morning
Neeraj Agarwal
Loading...