Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Oct 2022 · 1 min read

संघर्ष

संघर्ष
•••••••

हर जीवन ही, एक संघर्ष है;
हर संघर्ष में, छुपा विमर्श है।

कहीं कहलाता, ये प्रयास है;
तो कहीं, बच्चों का आस है।

यही, प्रतियोगिता का रूप है;
तो यही, स्पर्धा का स्वरूप है।

यही रण है, यही एक युद्ध है;
यह ईर्ष्या-द्वेष से अवरूद्ध है।

यह आंदोलन है, अभियान है;
ये,अहंकार सह स्वाभिमान है।

यही रुकावट है, यही प्रगति है;
कुछ संघर्ष में , बहुत दुर्गति है।

संघर्ष ही, सदा ‘महासंग्राम’ है;
संघर्ष से ही मिले हर ईनाम है।
••••••••••••••••••••••••••••••••

#स्वराचित_सह_मौलिक;
………✍️पंकज ‘कर्ण’
……..कटिहार(बिहार)।

Language: Hindi
3 Likes · 293 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from पंकज कुमार कर्ण
View all
You may also like:
ਸੰਵਿਧਾਨ ਦੀ ਆਤਮਾ
ਸੰਵਿਧਾਨ ਦੀ ਆਤਮਾ
विनोद सिल्ला
ବାତ୍ୟା ସ୍ଥିତି
ବାତ୍ୟା ସ୍ଥିତି
Otteri Selvakumar
बढ़ रही नारी निरंतर
बढ़ रही नारी निरंतर
surenderpal vaidya
बाद मुद्दत के हम मिल रहे हैं
बाद मुद्दत के हम मिल रहे हैं
Dr Archana Gupta
न्याय तो वो होता
न्याय तो वो होता
Mahender Singh
कहाँ से लाऊँ वो उम्र गुजरी हुई
कहाँ से लाऊँ वो उम्र गुजरी हुई
डॉ. दीपक मेवाती
आज जिंदगी को प्रपोज़ किया और कहा -
आज जिंदगी को प्रपोज़ किया और कहा -
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रिश्ते प्यार के
रिश्ते प्यार के
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
Har Ghar Tiranga : Har Man Tiranga
Har Ghar Tiranga : Har Man Tiranga
Tushar Jagawat
जिंदगी बिलकुल चिड़िया घर जैसी हो गई है।
जिंदगी बिलकुल चिड़िया घर जैसी हो गई है।
शेखर सिंह
लक्ष्य हासिल करना उतना सहज नहीं जितना उसके पूर्ति के लिए अभि
लक्ष्य हासिल करना उतना सहज नहीं जितना उसके पूर्ति के लिए अभि
Sukoon
*हिंदी*
*हिंदी*
Dr. Priya Gupta
जीवन है पीड़ा, क्यों द्रवित हो
जीवन है पीड़ा, क्यों द्रवित हो
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
याद रहे कि
याद रहे कि
*Author प्रणय प्रभात*
*भर दो गणपति देवता, हम में बुद्धि विवेक (कुंडलिया)*
*भर दो गणपति देवता, हम में बुद्धि विवेक (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
बेटियां
बेटियां
Ram Krishan Rastogi
हर किसी में आम हो गयी है।
हर किसी में आम हो गयी है।
Taj Mohammad
कांटों से तकरार ना करना
कांटों से तकरार ना करना
VINOD CHAUHAN
संस्कृति वर्चस्व और प्रतिरोध
संस्कृति वर्चस्व और प्रतिरोध
Shashi Dhar Kumar
अपनी गलती से कुछ नहीं सीखना
अपनी गलती से कुछ नहीं सीखना
Paras Nath Jha
नींद आती है......
नींद आती है......
Kavita Chouhan
चलना हमारा काम है
चलना हमारा काम है
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
शराब मुझको पिलाकर तुम,बहकाना चाहते हो
शराब मुझको पिलाकर तुम,बहकाना चाहते हो
gurudeenverma198
माँ की आँखों में पिता / मुसाफ़िर बैठा
माँ की आँखों में पिता / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
मैं पढ़ने कैसे जाऊं
मैं पढ़ने कैसे जाऊं
Anjana banda
दोस्त.............एक विश्वास
दोस्त.............एक विश्वास
Neeraj Agarwal
ऐसी फूलों की एक दुकान उस गली मैं खोलूंगा,
ऐसी फूलों की एक दुकान उस गली मैं खोलूंगा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ऑंखों से सीखा हमने
ऑंखों से सीखा हमने
Harminder Kaur
हौसला
हौसला
Shyam Sundar Subramanian
Loading...