Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 1 min read

संकल्प

नव मास ये आंग्ल वर्ष का,
नव संकल्प लेने का दिन।
मंगलमयी हो सबको ये,
शुभकामना देने का दिन।

हो भावना पुरुषार्थ की।
नहीं कामना हो स्वार्थ की।
लें संकल्प परोपकार का,
एक उपासना परमार्थ की।

हों संकल्पित सहयोग करने।
दीन दुखी की सेवा करने।
बदलें कहीं अपना मनमानस,
उठे उमंग जनसेवा करने।

नव सृजन हो नव उत्कर्ष हो।
नव साहित्य हो नवबर्ष हो।
दृढसंकल्प का अलग हर्ष हो।
नव जीवन हो नव सहर्ष हो।
वेधा सिंह
स्वरचित

Language: Hindi
Tag: गीत
57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Vedha Singh
View all
You may also like:
लंगोटिया यारी
लंगोटिया यारी
Sandeep Pande
****शिक्षक****
****शिक्षक****
Kavita Chouhan
अजब प्रेम की बस्तियाँ,
अजब प्रेम की बस्तियाँ,
sushil sarna
मरना कोई नहीं चाहता पर मर जाना पड़ता है
मरना कोई नहीं चाहता पर मर जाना पड़ता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
3028.*पूर्णिका*
3028.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उससे तू ना कर, बात ऐसी कभी अब
उससे तू ना कर, बात ऐसी कभी अब
gurudeenverma198
चल विजय पथ
चल विजय पथ
Satish Srijan
రామ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే
రామ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
बहुत दम हो गए
बहुत दम हो गए
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
दिलों में प्यार भी होता, तेरा मेरा नहीं होता।
दिलों में प्यार भी होता, तेरा मेरा नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
आज की बेटियां
आज की बेटियां
Shekhar Chandra Mitra
*भारत जिंदाबाद (गीत)*
*भारत जिंदाबाद (गीत)*
Ravi Prakash
'Memories some sweet and some sour..'
'Memories some sweet and some sour..'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
|| हवा चाल टेढ़ी चल रही है ||
|| हवा चाल टेढ़ी चल रही है ||
Dr Pranav Gautam
अर्थव्यवस्था और देश की हालात
अर्थव्यवस्था और देश की हालात
Mahender Singh
सत्य
सत्य
Dinesh Kumar Gangwar
मंदिर की नींव रखी, मुखिया अयोध्या धाम।
मंदिर की नींव रखी, मुखिया अयोध्या धाम।
विजय कुमार नामदेव
अमृत पीना चाहता हर कोई,खुद को रख कर ध्यान।
अमृत पीना चाहता हर कोई,खुद को रख कर ध्यान।
विजय कुमार अग्रवाल
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
"मुशाफिर हूं "
Pushpraj Anant
बेअदब कलम
बेअदब कलम
AJAY PRASAD
संगठग
संगठग
Sanjay ' शून्य'
कर्मयोगी संत शिरोमणि गाडगे
कर्मयोगी संत शिरोमणि गाडगे
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
"साम","दाम","दंड" व् “भेद" की व्यथा
Dr. Harvinder Singh Bakshi
*माना के आज मुश्किल है पर वक्त ही तो है,,
*माना के आज मुश्किल है पर वक्त ही तो है,,
Vicky Purohit
स्वप्न बेचकर  सभी का
स्वप्न बेचकर सभी का
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मन तेरा भी
मन तेरा भी
Dr fauzia Naseem shad
उड़ान
उड़ान
Saraswati Bajpai
गैंगवार में हो गया, टिल्लू जी का खेल
गैंगवार में हो गया, टिल्लू जी का खेल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जीवन आसान नहीं है...
जीवन आसान नहीं है...
Ashish Morya
Loading...